Connect with us

नेशनल

सोने का है ईशा अंबानी की शादी का कार्ड, आम लोगों को मिला जाए तो हो जाएंगे मालामाल!

Published

on

नई दिल्ली। देश के सबसे अमीर शख्स और रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के मालिक मुकेश अंबानी की बेटी ईशा अंबानी 12 दिसंबर को आनंद पीरामल के साथ सात फेरे लेंगी।

माना जा रहा है कि यह शादी अब तक की सबसे ग्रैंड शादी होगी। ईशा-आनंद की शादी कितनी रॉयल होगी इसका अंदाजा उनके वेडिंग कार्ड से लगाया जा सकता है।

ईशा का वेडिंग कार्ड इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रहा है। शादी का कार्ड परांपरिक अंदाज में रॉयल लुक देते हुए बनाया गया है।

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक इस कार्ड में सोने से कढ़ाई की गई है। यह इंविटेशन कार्ड आपको देखने में आम कार्ड जैसा बिल्कुल नहीं दिखेगा।

इस कार्ड को बॉक्स के आकार का बनाया गया है जिसे खोलने पर सबसे पहले आपको ‘IA’लिखा दिखता है, जिसका अर्थ है ईशा-आनंद। मेन बॉक्स में एक डायरी है, जिसमें शादी का आमंत्रण दिया गया है और तमाम जानकारियां शामिल हैं।

पिंक कलर के बॉक्स पर सोने से कढ़ाई की गई है। इसे खोलने पर गायत्री मंत्र बजता है। इसके भीतर 4 अन्य छोटे बॉक्स हैं, जिनमें गायत्री देवी की मढ़ी हुई तस्वीरें हैं। दूसरे बॉक्स में मोती की माला रखी हुई है। इस शाही अंदाज में बने एक कार्ड की कीमत तकरीबन 3 लाख रुपये बताई जा रही है।

नेशनल

सावन के महीने में भूल से भी न खाएं ये चीज़ें

Published

on

लखनऊ। 6 जुलाई से भगवान शिव जी को समर्पित सावन का महीना शुरू होने वाला है। ये महीना भगवान शिव को प्रसन्न करने का माह होता है। शास्त्रों में भी कहा और माना गया है कि बाकी दिनों की अपेक्षा सावन के महीने में भगवान शिव जल्दी प्रसन्न हो जाते हैं। इस लिहाज से भी सावन में कई चीजों को खाने की मनाही है। भक्ति के माहोल में हर कोई पूठा-पाठ में लीन रहता है। साथ ही इस महीने में भगवान शिव की पूजा अर्चना करने का कई गुना लाभ भी मिलता है।

सावन में नहीं खानी चाहिए ये चीजें

सावन में हरे रंग का खास महत्व होता है. महिलाएं हरी चूड़ियां पहनती हैं पर इस दौरान हरी सब्जियों को खाना मना होता है. इसकी वजह ये है कि इस महीने में हरी पत्तेदार सब्जियां शरीर में वात को बढ़ाती हैं. अगर वैज्ञानिक कारण देखा जाए तो सावन का महीना बारिश का होता है और पत्तेदार सब्जियों में कीड़े मिलते हैं, इसलिए इनके सेवन से लोगों को बचना चाहिए.

कच्चे दूध के सेवन की मनाही होती है. कहा जाता है कि कच्चा दूध भगवान को अर्पित किया जाता है, इसलिए इसका सेवन करने से बचना चाहिए. पर ऐसा इसलिए भी है क्‍योंकि बारिश के इस मौसम में पाचन उतना अच्‍छा नहीं होता.

सावन के दौरान कढ़ी भी खाने की मनाही होती है. कहा जाता है कि कढ़ी में प्याज और दूध से बनने वाली दही का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए इसे नहीं खाना चाहिए.

मांस मच्‍छी के सेवन की मनाही होती है. इसी तरह लहसुन, प्‍याज के सेवन से बचने को कहा जाता है. इस समय में तामसिक प्रवृत्ति के भोजनों को ना खाने की परंपरा इसका कारण है.

Continue Reading

Trending