Connect with us

प्रादेशिक

मध्य प्रदेश में इस पार्टी की बनेगी सरकार, सर्वे से मचा सियासी दलों में हड़कंप!

Published

on

मध्य प्रदेश

नई दिल्ली। लोकसभा चुनावों से पहले पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव को 2019 के सेमीफाइनल के रुप में देखा जा रहा है।

मध्य प्रदेश

इन पांच राज्यों में देश की दो बड़ी पार्टी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) और कांग्रेस की नजर सबसे ज्यादा मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और राजस्थान में सरकार बनाने को है।

हर पार्टी अपनी जीत के दावे कर रही है लेकिन हाल ही किए गए सर्वे में चौंका देने वाले नतीजे सामने आए है। लोकनीति सीएसडीएस सर्वे के मुताबिक बीजेपी और कांग्रेस के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिल रही है।

सर्वे के मुताबिक कुल 230 सीटों वाले मध्य प्रदेश में बीजेपी को 41 फीसदी, कांग्रेस को 40 फीसदी और अन्य को 19 फीसदी वोट मिलने का अनुमान लगाया गया है।

परसेंटेज को अगर सीटों में कंवर्ट करें तो बीजेपी के पाले में 111-121 सीटें आती दिख रही हैं वहीं कांग्रेस के 100-110 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया है।

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री की पहली पसंद अभी भी शिवराज सिंह बने हुए हैं। सर्वे के मुताबिक 37 फीसदी जनता अभी भी शिवराज को ही अपने मुख्यमंत्री के रूप में देखना चाहती है।

वहीं, 24 फीसदी जनता की पसंद के साथ कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अपनी पार्टी के नेता और प्रदेश अध्यक्ष कमलनाथ से आगे निकल गए हैं। सर्वे में सीएम के रूप में महज 10 फीसदी लोगों ने ही कमलनाथ को अपना सीएम देखना चाहा है।

प्रादेशिक

मध्य प्रदेश चुनाव से पहले भाजपा ने उठाया चौंका देने वाला कदम, कई बड़े नेताओं को पार्टी से निकाला!

Published

on

भोपाल। मध्य प्रदेश में 28 नवंबर को होने वाले विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने चौंका देने वाला कदम उठाया है। यहां सत्तारूढ़ बीजेपी ने पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते 53 नेताओं को पार्टी से निकाल दिया है।

पार्टी सूत्रों के अनुसार, बगावत कर विधानसभा चुनाव के लिए बुधवार को दूसरी पार्टी या बतौर निर्दलीय नामांकन कर पार्टी की मुसीबत बढ़ाने वाले नेताओं को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है।

इन बागियों को मनाने की बुधवार को हर संभव कोशिश की गई थी। पार्टी उपाध्यक्ष प्रभात झा तो डॉ. रामकृष्ण कुसमारिया को मनाने दमोह तक गए, दो घंटे उनके घर पर बैठे रहे, मगर डॉ. कुसमारिया से मुलाकात नहीं हो सकी।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय ने आईएएनएस को बताया कि पार्टी ने 53 नेताओं को निष्कासित करने का फैसला लिया है। यह निर्णय गुरुवार को लिया गया। आधिकारिक सूची जल्दी ही जारी कर दी जाएगी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending