Connect with us

IANS News

कोहली ने देश छोड़ने वाले बयान पर सफाई दी

Published

on

 नई दिल्ली, 8 नवंबर (आईएएनएस) देश छोड़ने वाले बयान को लेकर प्रशंसकों के निशाने पर आने के बाद भारतीय कप्तान विराट कोहली ने अब मुद्ये को शांत करने का प्रयास करते हुए कहा है कि सभी को अपने पसंद की आजादी है।

 कोहली सोशल मीडिया पर उस समय प्रशंसकों के निशाने पर आ गए थे जब उन्होंने एक फैन से कहा था कि यदि वे भारतीय क्रिकेटरों को खेलते देखना पसंद नहीं करते हैं तो उन्हें देश छोड़ देना चाहिए।

लेकिन अब विवाद को बढ़ता देख उन्होंने इस मामले पर अपनी चुप्पी तोड़ते हुए इस पर सफाई दी है।

कोहली ने गुरुवार को ट्वीट कर कहा, “मुझे लगता है कि ट्रोलिंग करना मेरे लिए नहीं है दोस्तों, मैं खुद ट्रोल होने से ही संतुष्ट हूं। मैंने सिर्फ ये बताने की कोशिश की थी कि कैसे ‘इन भारतीयों’ को उस कमेंट में लिखा गया था और कुछ नहीं। मैं भी पसंद की आजादी के पक्ष में हूं। दोस्तों त्योहार का आनंद लो और शांत रहें। सबको प्यार।”

कोहली ने सोमवार को अपने 30वें जन्मदिन पर ‘विराट कोहली ऑफिसियल ऐप’ लांच किया था। इस दौरान एक फैन ने उनसे बातचीत में भारतीय टीम के बजाय इंग्लैंड और आस्ट्रेलिया टीम को महत्व दिया था।

फैन ने लिखा, “वह (विराट) एक क्षमता से बढ़ाकर आंका गया बल्लेबाज (ओवर रेटेड बैट्समैन) हैं। मुझे उनकी बल्लेबाजी में कुछ भी खास नहीं दिखता। मैं इन भारतीयों की तुलना में इंग्लैंड और आस्ट्रेलियाई बल्लेबाजों को देखना पसंद करता हूं।”

कोहली ने कहा था कि वह आलोचनाओं से निजी तौर पर प्रभावित नहीं होते हैं। लेकिन भारत में रहते हुए यदि कोई भारतीय खिलाड़ियों को पसंद नहीं करता है तो उन्हें देश में नहीं रहना चाहिए।

उन्होंने कहा, “मुझे नहीं लगा कि तुम्हें भारत में रहना चाहिए। जाइए और कहीं जाकर रहिए। आप क्यों इस देश में रह रहे हैं और दूसरे देशों को पसंद कर रहे हैं? मुझे इस पर कोई ऐतराज नहीं है कि तुम्हें मेरा खेल पसंद नहीं है लेकिन मुझे नहीं लगता कि तुम्हें इस देश में रहकर दूसरी चीजों को पसंद करना चाहिए। अपनी प्राथमिकताओं को सही करिए।”

कोहली वेस्टइंडीज के खिलाफ पांच मैचों की वनडे सीरीज में सचिन तेंदुलकर को पीछे छोड़ते हुए सबसे तेजी से 10 हजार रन बनाने वाले बल्लेबाज बने थे।

Continue Reading

IANS News

सरदारपुरा से गहलोत, टोंक से सचिन पायलट चुनाव लड़ेंगे

Published

on

नई दिल्ली, 16 नवंबर (आईएएनएस)| राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत सरदारपुरा सीट से जबकि कांग्रेस की प्रदेश इकाई के प्रमुख सचिन पायलट टोंक से चुनाव लड़ेंगे। राज्य में सात दिसंबर को विधानसभा चुनाव होंगे।

कांग्रेस की केंद्रीय चुनाव समिति की बैठक के बाद गुरुवार को यहां पार्टी द्वारा घोषित 152 उम्मीदवारों की पहली सूची में उनके नाम थे।

हालांकि, पार्टी की ओर से मुख्यमंत्री की घोषणा अभी तक नहीं हुई है। मुख्यमंत्री पद के चेहरे के तौर पर गहलोत और सचिन पायलट दौड़ में आगे हैं।

दौसा और अजमेर से पूर्व सांसद सचिन पायलट पहली बार विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।

पार्टी ने पूर्व केंद्रीय मंत्री सी.पी. जोशी को नाथद्वारा और गिरिजा व्यास को उदयपुर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया है।

नरेंद्र बुडानिया, रघुवीर मीणा और हरीश चौधरी सहित पांच पूर्व सांसदों को टिकट दिए गए हैं।

पार्टी की ओर से दो मौजूदा सांसदों को मैदान में उतारा गया है, जिनमें मंगलवार को कांग्रेस में शामिल हुए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) सांसद हरीश मीणा भी शामिल हैं। वह देवली-उनियारा से चुनाव लड़ेंगे।

अजमेर के सांसद रघु शर्मा को केकड़ी से उम्मीदवार बनाया गया है।

भाजपा से कांग्रेस में शामिल हुए विधायक हबीबुर्रहमान को नागौर से मैदान में उतारा गया है। भाजपा द्वारा टिकट दिए जाने से मना करने पर उन्होंने कांग्रेस का दामन थाम लिया था।

पांच और मुस्लिम उम्मीदवारों को टिकट दिए गए हैं। जिनमें मकराना से जाकिर हुसैन, पुष्कर से नसीम अख्तर, किशनपोल से अमीन कागजी, पोकरण से सालेह मोहम्मद और शीओ से अमीन खान शामिल हैं।

पार्टी ने तीन मौजूदा विधायकों टोडाभीम से घनश्याम मेहर, दांतारामगढ़ से नारायण सिंह और झाड़ोल से हीरालाल को टिकट देने से इनकार कर दिया।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending