Connect with us

आध्यात्म

Diwali 2018: जानें शुभ मुहूर्त, इस विधि से करें दीपावली पूजन

Published

on

साल के सबसे मोस्ट अवेटेड त्यौहार दिवाली की सेलिब्रेशन शुरू हो चुकी है। हर तरफ दिवाली का उल्लास दिखाई पड़ रहा है। एक दूसरे को दिवाली पर गिफ्ट देने का सिलसिला भी शुरू हो गया है। लेकिन, दिवाली का दिन है, लक्ष्मी जी का सबसे महत्वपूर्ण दिन माना जाता है। दिवाली कार्तिक कृष्ण पक्ष अमावस्या तिथि को मनाया जाता हैं।

दीपावली पर विशेष रूप से लक्ष्मी पूजन करने की परंपरा है। मां लक्ष्मी के साथ-साथ गणेश पूजन, कुबेर पूजन और बही-खाता पूजन भी किया जाता है। आइए जानते हैं, पूजा का मुहूर्त समय और दीपावली पूजन विधि के बारे में –

अमावस्या तिथि प्रारंभ- 6 नवम्बर 2018 रात 10:03 बजे।
अमावस्या तिथि समाप्त- 7 नवम्बर 2018 रात 9:32 बजे।

मुहूर्त समय –
प्रातः 8 बजे से 9:30 बजे तक।
प्रातः 10:30 बजे से दोपहर 1:00 बजे तक।
दोपहर 1:30 बजे से सायंकाल 6 बजे तक।
सायंकाल 7:30 बजे से रात्रि 12:15 बजे तक।

स्थिर लग्न –
वृष सायंकाल 6:15 से रात्रि 8:05 तक।
सिंह रात्रि 12:45 से 02:50 तक।
वृश्चिक प्रातः 8:10 से 9:45 तक।
कुम्भ दोपहर 01:30 से 03:05 तक।

दीपावली पूजन मुहूर्त –
इस दिन पूरा दिन ही शुभ माना जाता है। इस दिन किसी भी समय पूजन कर सकते हैं। हालांकि प्रदोष काल से लेकर निशाकाल तक समय शुभ होता है। अमावस्या तिथि पर राहु काल का दोष नहीं होता।

लक्ष्मी पूजन के समय लक्ष्मी मंत्र का उच्चारण करते रहें – ॐ श्रीं ह्रीं श्रीं महालक्ष्म्यै नम:

दीपावली पूजन विधि –

सबसे पहले मां लक्ष्मी और गणेशजी की प्रतिमाओं को चौकी पर रखें। ध्यान रहें कि उनका मुख पूर्व दिशा की ओर रहें और गणेशजी की प्रतिमा लक्ष्मीजी के बाएं ओर रहें। कलश को चावलों पर रखें। नारियल को लाल वस्त्र में लपेट कर उसे कलश पर रखें। यह कलश वरुण का प्रतीक होता है। घी का दीपक गणेश जी और तेल का दीपक लक्ष्मी जी के सामने रखें।

लक्ष्मी-गणेश के प्रतिमाओं से सुसज्जित चौकी के समक्ष एक और चौकी रखकर उस पर लाल वस्त्र बिछाएं। रोली से स्वास्तिक एवं ॐ का चिह्न भी बनाएं। पूजा करने के लिए पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठे। इसके बाद पूजन करें।

आध्यात्म

पांडवों ने अपने पिता के शव के साथ किया था ऐसा काम, जानकर कांप जाएगी आपकी रूह!

Published

on

नई दिल्ली। महाभारत एक ऐसा  ग्रन्थ है, जिसके बारे में बहुत सी रोचक और अनसुनी बातें जानने के लिए हम हमेशा उत्साहित रहते हैं।

ऐसे ही अनेक रहस्यों में से एक के बारे में हम आपको बताने जा रहे हैं। पांडवो की ये बात जानकर शायद आप भी हैरान रह जाएंगे।

पांडवों ने अपने पिता की मृत्यु के बाद उनकी लाश का मांस खाया था, कहा जाता है कि युधिष्ठर, भीम, अर्जुन, नकुल और सहदेव के पिता पांडु को किसी ऋषि ने श्राप दिया था कि अगर वो किसी भी स्त्री से शारीरिक संबंध बनाएगा तो उसकी मृत्यु हो जाएगी।

इसी वजह से उन्होंने कभी भी अपनी पत्नी कुंती  और दूसरी पत्नी माद्री से शारीरिक संबंध नहीं बनाए थे,लेकिन कुंती को ऋषि दुर्वासा ने वरदान दिया था कि वो किसी भी देवता का आह्वान करके उनसे संतान प्राप्ति का वरदान मांग सकती हैं।

महाराज पांडु के कहने पर कुंती ने एक-एक कर कई देवताओं का आह्वान किया,इसी प्रकार माद्री ने भी देवताओं का आह्वान किया।

तब कुंती को तीन पुत्र युधिष्ठिर, भीम और अर्जुन मिले और माद्री को दो पुत्र नकुल और सहदेव मिले। माना जाता है कि एक दिन  पांडु खुद पर नियंत्रण न रख सके और उन्होंने माद्री से शारीरिक संबंध बना लिए। ऐसे में ऋषि के शाप के अनुसार महाराज पांडु की मृत्यु हो गई।

जब पांडु की मृत्यु हुई तो उनके मृत शरीर का मांस पाँचों भाइयों ने मिल-बांट कर खाया था। उन्होंने ऐसा अपने पिता पांडु की ही इच्छा के अनुसार किया था, क्योंकि पांचों पांडव उनके वीर्य से पैदा नहीं हुए थे, इसलिए पांडु का ज्ञान और कौशल उनके बच्चों में नहीं आ पाया था।

इसलिए उन्होंने अपनी मृत्यु से पहले ऐसा वरदान मांगा था कि उनके बच्चे उनकी मृत्यु के पश्चात उसके शरीर का मांस मिल-बांट कर खा लें, ताकि उनका ज्ञान उनके बच्चों में चला जाए।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending