Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

आखिर क्यों गूगल के कर्मचारी कह रहे हैं ‘Not OK google’

Published

on

महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न के मामले में उतना सख्त न होने के खिलाफ विरोध में कंपनी गूगल के हजारों कर्मचारियों ने काम का बहिष्कार किया और सड़कों पर उतर आए। सभी कर्मचारियों गूगल वॉकआउट कर रहे हैं।

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

दरअसल, इसकी शुरुआत सिलिकॉन वैली से हुई, जो बाद में दुनियाभर में फैल गई। इसके लिए ट्विटर पर गूगल वॉकआउट (https://twitter.com/GoogleWalkout) नाम से एक पेज भी बनाया गया, इस मुहिम में लोग अपनी मांगें रख रहे हैं।

IMAGE COPYRIGHT : GOOGLE

गौरतलब हैं कि महिलाओं के साथ यौन हिंसा और दूसरे कई तरह के भेदों पर विरोध की शुरुआत तभी हो गई थी, जब गूगल ने अपने 48 कर्मचारियों को निकालने की सूचना जारी की थी। जिन कर्मचारियों पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगा था, उन सभी को नौकरी से हटाए गए।

आपको बता दें, वॉक आउट में तेजी से पूरी दुनिया के गूगल कर्मचारी जुड़ रहे हैं। लोगों के हाथों में अलग-अलग संदेश लिखे हुए हैं जैसे Not OK google, don’t be evil, Happy to quit for $90 million – no sexual harassment required.

अन्तर्राष्ट्रीय

मेहुल चोकसी ने दिया मोदी सरकार को तगड़ा झटका, जानिए क्या डूब गया हमारा आपका पीएनबी में जमा पैसा?

Published

on

नई दिल्ली। पंजाब नेशनल बैंक (PNB) के 13,500 करोड़ लेकर भागा मेहुल चोकसी ने केंद्र सरकार के प्रयासों को तगड़ा झटका देते हुए भारतीय नागरिकता छोड़ दी है। अपना भारतीय पासपोर्ट को एंटीगुआ हाई कमिशन में जमा कर चोकसी ने खुद को एंटीगुआ का नागरिक घोषित कर दिया है।

आपको बता दें कि प्रत्यर्पण मामले में सुनावाई से ठीक पहले मेहुल ने यह कदम उठाया है। ऐसे में उसे भारत प्रत्यर्पित करना और भी मुश्किल हो सकता है।

मेहुल चोकसी ने अपने पासपोर्ट जिसका नंबर Z3396732 है, को हाई कमिशन में जमा करवाया. इसके साथ ही उसने इसकी फीस कुल 177 डॉलर भी जमा करवाई. इस बारे में विदेश मंत्रालय ने गृह मंत्रालय को अवगत करा दिया है। मेहुल चोकसी का अब आधिकारिक पता हार्बर, एंटीगुआ हो गया है।

मेहुल चोकसी के वकीलों को उम्मीद है कि इस कोशिश से भारत द्वारा चोकसी को प्रत्यर्पित करने की कोशिशों को बड़ा झटका लगा है। बता दें कि मेहुल चोकसी के खिलाफ पहले ही इंटरपोल का नोटिस जारी किया हुआ है, भारत की कई एजेंसियां लगातार उसकी तलाश कर रही थीं।

हांलाकि सूत्रों के मुताबिक यह खबर आ रही है कि मेहुल के इस कदम से उसे कोई फायदा नहीं होने वाला है। एंटिगुआ की नागरिकता लेने के बाद भी मेहुल चोकसी को जल्द ही भारत प्रत्यर्पित किया जा सकता है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending