Connect with us

नेशनल

संघ से जुड़े संगठन ने कहा- उर्जित पटेल या तो सरकार के साथ काम करें या RBI गवर्नर का पद छोड़ें

Published

on

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़े हुए संगठन स्वदेशी जागरण मंच के अध्यक्ष अश्वनी महाजन ने गवर्नर उर्जित पटेल को लेकर बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि  ‘आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल या तो सरकार के साथ मिलकर आर्थिक विकास के लिए काम करें या फिर इस्तीफा दें।’

उन्होंने कहा कि ‘आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल अपने अफसरों को भी सार्वजनिक रूप से मतभेदों को उजागर करने से रोकें। यदि वह अनुशासन में नहीं रह सकते तो उचित होगा कि वह पद छोड़ दें।’

गौरतलब है कि हाल में आरबीआई के डिप्टी गवर्नर विरल आचार्य ने केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता से संबंधित मुद्दा उठाया था। उन्होंने चेताया कि केंद्रीय बैंक की स्वायत्तता से छेड़छाड़ ‘विनाशकारी’ साबित हो सकती है।

अब कयास लगाया जा रहा हैं कि नाराज उर्जित पटेल इस्तीफा दे सकते हैं। हालांकि, इस विवाद के बाद वित्त मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि केन्द्र सरकार और रिजर्व बैंक दोनों के लिए जरूरी है कि वह जनहित और देश की अर्थव्यवस्था की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए काम करें।

 

नेशनल

भारतीयों ने लिया पुलवामा हमले का बदला, पाकिस्तानी जासूस को पीट-पीटकर मार डाला

Published

on

नई दिल्ली। 14  फ़रवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा मे हुए आतंकी हमले मे सीआरपीएफ के 42 जवान शहीद हो गए। हिन्दुस्तानी सरजमीं पर हुए इस आत्मघाती हमले की वजह से भारत और पाकिस्तान के रिश्ते और भी ज़्यादा बिगड़ चुके  हैं। देश की जनता पाकिस्तान से बदला लेने की मांग करते हुए सड़को पर उतर आई है।

पुलवामा आतंकी हमले को लेकर भारत और पाकिस्तान में चल रहे तनाव के बीच राजस्थान से एक बड़ी खबर आई है। बुधवार को जयपुर जेल में बंद पाकिस्तानी कैदी शाकिर उल्हा की  गयी है। सूत्रों के मुताबिक़ जयपुर जेल में बंद अन्य कैदियों ने पीट-पीटकर उस पाकिस्तानी कैदी को मार डाला। हालांकि, पूरा मामला क्या था इस बात की जानकारी आनी अभी बाकी है।

आपको बता दें कि पुलवामा हमले के बाद ही जयपुर के बीकानेर मे एक अल्टीमेटम जारी कर दिया गया था जिसके मुताबिक़  डीएम कुमार पाल गौतम ने वहाँ रह रहे पाकिस्तानी नागरिकों और पर्यटकों को 48 घंटो के अंदर शहर छोड़कर जाने की चेतावनी दी थी। इस अल्टीमेटम को लेकर वहां काफी विवाद भी हुआ था।

पुलवामा  हमले के बाद कई संगठनों ने नई दिल्ली में मौजूद पाकिस्तानी उच्चायुक्त के बाहर जाकर प्रदर्शन भी किया था। वहीं भारत सरकार भी पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए कूटनीतिक कदम उठाने में जुटी हुई है।

Edited by-मानसी शुक्ला

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending