Connect with us

प्रादेशिक

सीएसजेएमयू हॉस्टल के खाने में निकला कीड़ा, विश्वविद्यालय में स्टूडेंट्स ने किया हंगामा

Published

on

छत्रपति शाहूजी महाराज विश्वविद्यालय कानपुर में देर रात हॉस्टल नंबर 4 के मेस में खाने में कीड़ा निकलने पर स्टूडेंट्स ने हंगामा कर दिया। भड़के स्टूडेंट्स ने कुलपति के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए यूनिवर्सिटी परिसर में हंगामा शुरू कर दिया। देर रात परिसर में स्टूडेंट्स ने घूम-घूमकर नारेबाजी की और विश्वविद्यालय प्रशासन को जमकर कोसा।

 

स्टूडेंट्स ने खराब खाना दिए जाने का आरोप लगाया और मुर्दाबाद के नारे लगाए। साथ ही उन्होंने वार्डन पर लापरवाही का आरोप लगाकर खराब खाने के लिए जिम्मेदार ठहराया। छात्राओं का कहना था कि एक छात्रा तो खाना देखकर ही उल्टियां करने लगी। छात्र-छात्राओं ने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करने पर मेस कर्मचारियों व जिम्मेदारों पर कार्यवाही की मांग को लेकर अड़े हुए हैं और प्रदर्शन जारी है।

 

देर रात कुलसचिव डॉ.विनोद कुमार सिंह, चीफ प्रॉक्टर नीरज कुमार सिंह और मीडिया प्रभारी प्रोफेसर संजय स्वर्णकार पुलिस बल के साथ वहां पहुंचे। जब कुलपति ने छात्राओं की समस्याएं सुनीं तब जाकर गुस्सा थमा। प्रशासनिक अफसरों ने कहा, “15 दिनों में जो-जो शिकायतें हैं, उनका समाधान कराया जाएगा। कुलसचिव ने बताया कि सभी वार्डन से पूछताछ कर दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।”

सीएसजेएमयू की प्रोफेसर का कहना हैं,  ”छात्राओं के खाने में कीड़े निकलने की जानकारी मिली है। खाने का सैंपल रखवा लिया गया है, उसकी बुधवार को जांच कराई जाएगी। लापरवाही करने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी। छात्रावास से उन्हें बाहर किया जाएगा।”

छात्रों का कहना है कि छात्रावास में खाने और रहने के लिए विश्वविद्यालय प्रशासन तकरीबन 42 हजार रुपए वार्षिक शुल्क लेता है। इसके बाद भी खाने में आए दिन कुछ न कुछ निकलता रहता है। इसके अलावा हॉस्टल के कमरे से कभी कभी सांप और नेवले भी निकलते रहते हैं।

उत्तराखंड

सुप्रीम कोर्ट ने उत्तराखंड सीएम को दी राहत, हाईकोर्ट के फैसले पर लगाई रोक

Published

on

By

हाईकोर्ट के उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के खिलाफ सीबीआई जांच के आदेश पर फिलहाल सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है। सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर हैरानी जताई है। जानकारी के अनुसार सुप्रीम कोर्ट इस फैसले की समीक्षा करेगा। उसके बाद ही मामले में आगे की कार्रवाई की जाएगी। तब तक किसी तरह की कार्रवाई नहीं की जाएगी।
Continue Reading

Trending