Connect with us

नेशनल

जानिए 2014 से 2018 में कितनी बढ़ गई PM मोदी की संपत्ति

Published

on

सोमवार को प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से पीएम नरेंद्र मोदी की संपत्ति का नया ब्योरा सामने आ गया है। जिसमें मोदी की चल-अचल संपत्ति का पूरा ब्योरा हैं। वर्तमान समय में उनके पास करीब 2 करोड़ 28 लाख की संपत्ति है जो आज से चार वर्ष पहले यानि 2014 में करीब डेढ़ करोड़ थी। मतलब इन चार वर्षों में पीएम की संपत्ति में करीब 75 लाख रुपए की बढ़ोतरी हुई है।

लोकसभा चुनाव 2014 और अब 2018 में पीएम मोदी की संपत्ति पर एक नजर –

चल-अचल संपत्ति – 2014 में मोदी के पास कुल चल-अचल संपत्ति 1 करोड़ 51 लाख 57 हजार 582 रुपए की थी। 2018 में करीब 2.28 करोड़ रुपए हैं।

मोदी के पास कैश – 2014 में मोदी के पास कैश 29 हजार रुपए था। 2018 में मोदी के पास कैश 48 हजार 944 रुपए है।

पोस्टल सेविंग – 2014 में पोस्टल सेविंग में 4,34,031 रुपए था। 2018 में SBI बैंक में कुल 11,29,690 रुपए जमा हैं।

फिक्स डिपोजिट – 2014 में फिक्स डिपोजिट 44,23,383 रुपए था। 2018 में 1,07,96,288 डिपोजिट है।

इंफ्रास्ट्रक्चर बॉन्ड डिपॉजिट – 2014 में इंफ्रास्ट्रक्चर बॉन्ड डिपॉजिट 20 हजार रुपए की थी। 2018 में भी 20 हजार रुपए ही हैं।

गोल्ड ज्वैलरी – 2014 में गोल्ड ज्वैलरी 1 लाख 35 हजार की थी। 2018 में 1 लाख 38 हजार रुपए की है।

ब्याज के रूप में रिफंड – 2014 में ब्याज के रूप में रिफंड आया कुल 1,15,468 रुपए2018 में 1,59,281 रुपए LIC के रूप में है।

बड़ी बात तो यह हैं कि पीएम के नाम पर कोई भी दुपहिया, फोर व्हीलर वाहन रजिस्टर्ड नहीं है।

इसमें पीएम की चल संपत्तियों की कीमत 1,28,50,498 रुपए है और उनके गांधीनगर स्थित आवासीय भूमि की कीमत एक करोड़ रुपए है। पीएमओ पर जारी डेक्लरेशन के अनुसार, ‘पीएम मोदी पर कोई कर्ज भी नहीं है। उनपर किसी बैंक का लोन नहीं है।’

नेशनल

अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने पर अड़े राहुल गांधी, मनमोहन ने कही ये बड़ी बात

Published

on

नई दिल्ली। 2019 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की हार के बाद शनिवार को पार्टी वर्किंग कमेटी की बैठक चल रही है। मिली जानकारी के मुताबिक कमेटी के सामने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस्तीफे की पेशकश की है।

इस्तीफे की पेशकश के बाद सोनिया और मनमोहन सिंह राहुल को मनाने की कोशिश कर रहे है। लेकिन सूत्रों के हवाले से खबर आ रही है कि वो (राहुल) इस्तीफे पर अड़े हैं। राहुल के इस कदम के बाद उनसे मीटिंग में पूछा जा रहा है कि अगर आप नहीं तो कौन? इस पर राहुल ने चुप्पी साधी हुई है।

बता दें, मोदी की सुनामी में कांग्रेस की जो गत हुई, उससे हर कोई हैरान है। हार पर मंथन करने के लिए कांग्रेस के दिग्गज इकट्ठा हुए हैं. इस बैठक में हिस्सा लेने के लिए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, मल्लिकार्जुन खड़गे, गुलाम नबी आजाद, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पहुंच गए हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending