Connect with us

नेशनल

हिंदी दिवस 2018 : जानिए क्यों मनाया जाता है ये दिन, कैसे हुई शुरुआत

Published

on

भारत देश में हमारी संस्कृति, रहन- सहन, वेशभूषा और खान-पान सब अलग अलग हैं लेकिन एक भाषा ऐसी हैं जो हमें एक करती हैं। वो भाषा हैं हिंदी भाषा हैं, जो भारत में सबसे ज्यादा बोली जाती हैं। आपको बता दें, हर साल हिंदी दिवस 14 सितंबर को मनाया जाता है। 14 सितंबर, 1949 के दिन हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिला था। तब से हर साल यह दिन ‘हिंदी दिवस’ के तौर पर मनाया जाता है।

इतिहास – साल 1947 में जब अंग्रेजी हुकूमत से भारत आजाद हुआ तो उसके सामने भाषा को लेकर सबसे बड़ा सवाल था। क्योंकि भारत में सैकड़ों भाषाएं और बोलियां बोली जाती है।

14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से निर्णय लिया कि हिन्दी ही भारत की राजभाषा होगी। देश के पहले प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू ने कहा कि ‘इस दिन के महत्व देखते हुए हर साल 14 सितंबर को हिन्दी दिवस मनाया जाए।’ बता दें पहला हिन्दी दिवस 14 सितंबर 1953 में मनाया गया था।

अंग्रेजी भाषा को लेकर हुआ विरोध – 14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने एक मत से निर्णय लिया कि हिंदी ही भारत की राजभाषा होगी। अंग्रेजी भाषा को हटाए जाने की खबर पर देश के कुछ हिस्सों में विरोध प्रर्दशन शुरू हो गया था। तमिलनाडू में जनवरी 1965 में भाषा विवाद को लेकर दंगे हुए थे।

जनमानस की भाषा हैं हिंदी – साल 1918 में महात्मा गांधी ने हिन्दी साहित्य सम्मेलन में हिन्दी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने को कहा था। इसे गांधी जी ने जनमानस की भाषा भी कहा था।

नेशनल

कांप रहे आतंकी : पुलवामा हमले के गुनहगार को सेना ने उतारा मौत के घाट, सीधे उड़ा दी पूरी बिल्डिंग

Published

on

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए हमले से सेना और देश के नागरिकों में काफी आक्रोश देखने को मिल रहा है। इसी के चलते आज सेना ने अतंकी एनकाउंटर करना शुरू कर दिया है। आज सेना ने पुलवामा के पिंगलिना में आतंकी गाजी को घेर लिया। घंटो चलाए गए इस अभियान में एक बुरी खबर ये है कि भारतीय सेना के भी एक मेजर समेत चार जवान शहीद हो गए।
सेना ने अभियान चला कर दो आतंकियों को मार गिराया है। ये दोनों आतंकी कामरान और गाजी राशिद हैं जो पुलवामा आतंकी हमले के गुनहगार थे। दोनों आतंकी जैश-ए-कमांडर के थे जिसकों सेना ने मौत के घाट उतार दिया। रात से ही इस ऑपरेशन को 55RR, CRPF और SOG के जवानों ने मिलकर चलाया।

अभी भी आशंका ये है कि जो आतंकी मारा गया है वो दो नाम के एक ही इंसान है। एनकाउंटर में मद्देनजर पूरे क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending