Connect with us

नेशनल

बीजेपी के बड़े नेता ने अरुण जेटली पर उठाए सवाल, आ सकता है सियासी भूचाल

Published

on

अरुण जेटली, विजय माल्या

नई दिल्ली। 9 हजार करोड़ का घोटाला कर विदेश भागे विजय माल्या के बयान पर अब सियासी घमासान शुरु हो गया है। आपको बता दें कि माल्या ने लंदन के कोर्ट के बाहर यह बयान देकर सबको चौंका दिया था कि विदेश आने से पहले वह वित्त मंत्री अरुण जेटली से मिला था। माल्या के इस बयान के बाद अब बीजेपी के ही लोग जेटली पर सवाल उठाने लगे हैं।

अरुण जेटली

भाजपा के वरिष्ठ नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने इस पूरे मामले पर जेटली पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया। स्वामी ने कहा, ‘विजय माल्या के देश से भागने से जुड़े अब दो फैक्ट हमारे सामने हैं, जिससे कोई इनकार नहीं कर सकता है।

अरुण जेटली

  1. 24 अक्टूबर, 2015 को माल्या के खिलाफ जारी लुकआउट नोटिस को ‘ब्लॉक’ से ‘रिपोर्ट’ में शिफ्ट किया गया। जिसके मदद से विजय माल्या 54 लगेज आइटम लेकर भागने में फरार हुआ।
  2. विजय माल्या ने संसद के सेंट्रल हॉल में वित्त मंत्री अरुण जेटली को बताया था कि वह लंदन के लिए रवाना हो रहा है।

गौरतलब है कि माल्या के बयान के बाद से वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी सफाई दी है। जेटली का कहना है कि उनकी और माल्या की 2014 के बाद से कोई मुलाकात नहीं हुई है। जेटली ने अपने बयान में कहा कि एक बार सदन की कार्यवाही के दौरान जब वह सदन से अपने कमरे में जा रहे हैं थे तो माल्या ने  राज्यसभा सांसद होने का फायदा उठाते हुए उनसे मिलने की कोशिश की थी।

 

नेशनल

मोदी सरकार के फैसले पर भड़के बीजेपी सांसद, बोले-कोर्ट जाऊंगा

Published

on

नई दिल्ली। एअर इंडिया को बेचने की तैयारियों के बीच भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। सोमवार को प्रारंभिक जानकारी वाला मेमोरंडम जारी करने के बाद स्वामी सरकार के खिलाफ खड़े हो गए।

बीजेपी सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ट्वीट के जरिए फैसले का विरोध करते हुए कहा कि यह सौदा पूरी तरह से देश विरोधी है और मुझे कोर्ट जाने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। हम परिवार की बेशकीमती चीज को नहीं बेच सकते।

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब बीजेपी के राज्यसभा सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने एअर इंडिया को बेचने के फैसले पर नाराजगी जाहिर की है।

इससे पहले भी वह सरकार की इस पहल पर सवाल खड़े कर चुके हैं। माना जा रहा है कि केंद्र के इस फैसले को लेकर राजनीतिक और कानूनी अड़चन पैदा हो सकती है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending