Connect with us

आध्यात्म

कृष्ण की जीवन लीलाएं : कंस वध के बाद क्या हुआ श्री कृष्ण का?

Published

on

मथुरा। भगवान श्री कृष्ण का जन्म भद्र मास के कृष्णपक्ष की अष्टमी के दिन रात 12 बजे हुआ था। कृष्ण विष्णु के 8वें अवतार हैं जिन्होंने द्वापर युग में जन्म लिया, ताकि वो लोगों को अपने मामा कंस द्वारा किए जाने वाले अत्याचारों से बचा सकें। चूंकि भगवान विष्णु सीधे इस धरती पर अवतरित हुए और यह उनका भौतिक अवतार था इसलिए उस दिन को कृष्णाष्टमी या जन्माष्टमी के रूप में मनाया जाता है।

भगवान श्रीकृष्ण की लीलाओं से तो हम सभी वाकिफ़ हैं। बाल्यावस्था से लेकर युवावस्था तक उन्होंने अचंभित करने वाली घटनाओं को सबके सामने अंजाम दिया। ऐसी ही कुछ घटनाओं के बारे में हम आपको बताएंगे।

1. मथुरा में जन्में श्रीकृष्ण-

भगवान कृष्ण का जन्म मथुरा में हुआ था। उनका बचपन गोकुल, वृंदावन, नंदगाव, बरसाना आदि जगहों पर बीता।

2. देवराज इन्द्र के घमंड को किया चूर-

अपनी कई हैरान करने वाली लीलाओं के दौरान श्रीकृष्ण ने असुर, दैत्यों से लेकर देवराज इन्द्र तक के गुरूर को चूर कर दिया था।

3. क्रूर शासक कंस का वध-

अपने मामा कंस का वध करने के बाद उन्होंने अपने माता-पिता को कंस के कारागार से मुक्त कराया और फिर जनता के अनुरोध पर मथुरा का राजभार संभाला। मथुरा की जनता भी कंस जैसे क्रूर शासक से मुक्त होना चाहती थी।

4. जरासंध बना कृष्ण का कट्टर शत्रु-

कंस के मारे जाने के बाद कंस का ससुर जरासंध कृष्ण का कट्टर शत्रु बन गया। जरासंध मगध का अत्यंत क्रूर एवं साम्राज्यवादी का शासक था।

5. जरासंध ने कई राजाओं को किया अपने अधीन-

हरिवंश पुराण के अनुसार उसने काशी, कोशल, चेदि, मालवा, विदेह, अंग, वंग, कलिंग, पांड्य, सौबीर, मद्र, कश्मीर और गांधार के राजाओं को परास्त कर सभी को अपने अधीन बना लिया था।

6. कृष्ण से बदला लेने का किया प्रयास-

कृष्ण से बदला लेने के लिए जरासंध ने पूरे दल-बल के साथ शूरसेन जनपद मथुरा पर एक बार नहीं कई बार चढ़ाई की। लेकिन हर बार वह असफल रहा।

7. जरासंध ने 18 बार मथुरा पर किया आक्रमण-

पुराणों के अनुसार जरासंध ने मथुरा पर शासन के लिए 18 बार मथुरा पर चढ़ाई की। इस दौरान वह 17 बार असफल रहा।

8. कालयवन का भी लिया साथ-

मथुरा पर अंतिम बार आक्रमण के लिए उसने एक विदेशी शक्तिशाली शासक कालयवन को भी मथुरा पर आक्रमण करने के लिए प्रेरित किया।

9. युद्ध में मारा गया कालयवन-

लेकिन युद्ध में कालयवन के मारे जाने के बाद उस देश के शासक और उसके परिवार के लोग भी कृष्ण के दुश्मन बन गए।

10. कृष्ण ने अपने वंशजों के साथ छोड़ा मथुरा-

अंत में कृष्ण ने सभी यदुओं के साथ मिलकर मथुरा को छोड़कर जाने का फैसला किया। विनता के पुत्र गरुड़ की सलाह पर कृष्ण कुशस्थली आ गए।

(रिपोर्ट : द्वारकेश बर्मन)

आध्यात्म

इन राशि वालों की मनोकामना सबसे जल्दी पूरी करते हैं हनुमान, ये है वजह

Published

on

पवनपुत्र हनुमान की की कृपा से आपको ढेर सारा धन प्राप्त होने वाला है। अगर आप प्रॉपर्टी दलाली और ब्याज का काम करते हैं, तो आपको इस मामले में जल्दी ढेर सारा पैसा प्राप्त होने वाला है। यहां बात तुला राशि वालों के लिए हो रही है।

घर परिवार के सभी लोगों का सहयोग आपके साथ हमेशा बना रहेगा। सच्चाई के रास्ते पर चलते हुए आप हर किसी का दिल जीत लेंगे, आपका व्यवहार जितना ही अच्छा होगा लोग आपकी उतनी ही इज्जत करेंगे।

जिन लोगों का रोजगार छिन गया था। उन लोगों को जल्द ही अच्छा रोजगार मिल सकता है। जिससे आप अपने घर परिवार की सारी परेशानियों को हल कर पाएंगे। जीवन साथी के साथ आपके संबंध बहुत ही मधुर तथा अच्छे बने रहने वाले हैं।

आपको अपने व्यापार में खूब मुनाफा होगा। घर परिवार के लोगों के बीच आपसी संबंध मजबूत बनेंगे। आने वाले समय में आपको धन कमाने के नए साधन मिल जाएंगे, आर्थिक क्षेत्र में तरक्की हासिल होगी, आप अपनी अधूरी इच्छाओं को आसानी से पूरे कर पाएंगे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending