Connect with us

नेशनल

कश्‍मीर में हाई अलर्ट, पुलिस वालों के रिश्‍तेदारों को उठा ले गए आतंकी

Published

on

जम्मू-कश्मीर में आतंकी अशांति फैलाने के अपने मकसद को कामयाब करने के लिए हर हद को पार कर रहे हैं। अभी हाल में ही आतंकी संगठन ने आम नागरिक और सेना को निशाना बनाने के बाद उनके निशाने पर पुलिसकर्मियों के घरवाले और रिश्तेदार आ गए हैं। बता दें कि पिछले 24 घंटे में कुल नौ लोगों को अगवा किया गया है। जबकि पिछले दो दिनों में ये दसवां किडनैप है।

अगवा किए गए सभी लोग अलग-अलग पुलिसकर्मियों के रिश्तेदार बताए जा रहे हैं। बताया जा रहा है कि पुलिसकर्मियों के पारिवारिक सदस्यों का अपहरण होने के बाद अब सेना बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाकर इनकी तलाश में जुटी हुई है।

  1. जुबैर अहमद भट्ट, पुलिसकर्मी मोहम्मद मकबूल भट्ट के बेटे।
  2. आरिफ अहमद, एसएचओ नाजिर अहमद के भाई।
  3. फैज़ान अहमद, पुलिसकर्मी बशीर अहमद के बेटे।
  4. सुमैर अहमद, पुलिसकर्मी अब्दुल सलाम के बेटे।
  5. गौहर अहमद, डीएसपी एज़ाज के भाई।
  6. डीएसपी मोहम्मद शाहिद का भतीजा अगवा।
  7. पुलवामा से एक पुलिसवाले के भाई को अगवा किया गया।
  8. पुलिसवाले के बेटे को काकापोरा से।
  9. त्राल से भी एक पुलिसवाले के बेटे को अगवा किया गया।

आपको बता दें कि एक तरफ आतंकियों ने दस लोगों को अगवा किया है तो दूसरी तरफ सुरक्षाकर्मियों ने दस आतंकियों की हिटलिस्ट भी जारी कर दी। इनमें घाटी के टॉप आतंकी शामिल हैं।

घटना की जानकारी रखने वाले अधिकारियों ने बताया कि आंतकवादियों ने कम से कम पांच लोगों को शोपियां, कुलगाम, अनंतनाग और अवंतिपोरा से अगवा किया है। इसी घटना में गांदरबल जिले से अगवा किए गए पुलिसकर्मी के पारिजन को आंतकवादियों के बुरी तरह पिटाई करने के बाद छोड़ दिया है।

नेशनल

सियाचिन में हिमस्खलन से 4 जवान शहीद

Published

on

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर में भारतीय सेना के एक प्रेट्रोलिंग टीम के तूफान में फंसने के कारण 4 जवान शहीद हो गए हैं। सियाचिन ग्लेशियर से यह दिल दहलाने वाली घटना से सेना के परिवार समेत देश में सभी आहत है।

ये सभी जवान बर्फीले तूफान में फंस गए उस समय जब 8 सदस्यीय टीम प्रेट्रोलिंग कर रही थी। यह घटना आज तड़के 3.30 बजे की है। इसके अलावा इस बर्फीली तूफान ने 2 नागरिकों की भी मौत हो गई है।

18,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित सियाचीन ग्लेशियर में भारतीय जवान अपनी जान की परवाह किए बिना दिन-रात तैनात रहते हैं। इस क्षेत्र में हिमस्खलन की घटना होती रहती है।

एक बर्फीले तूफान की चपेट में आने के बाद रेस्क्यू टीम तुरंत हरकत में आई। सभी जवानों को आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया। जहां 4 जवानों ने इलाज के दौरान ही दम तोड़ दिया। अन्य 7 लोगों को बचाने के लिये डॉक्टर्स की टीम लगातार गहन चिकित्सा कर रही है। लेकिन सभी का हालात गंभीर बताई जा रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending