Connect with us

Raksha Bandhan 2018

रक्षाबंधन के बाज़ार को भी मार गया इंटरनेट, ऑनलाइन बिक रहीं राखियां

Published

on

नई दिल्ली। बाज़ार आधारित दुकानदारों को हमेशा शिकायत रहती है कि इंटरनेट बाज़ार उनके व्यवसाय को खाए जा रहा है। कपड़े से लेकर खाने वाली चीज़ों तक, यहां तक की सब्जियां भी अब ऑनलाइन बिकने लगी हैं। ऐसे में एक त्योहार ही ऐेसे बचे थे जिनमें दुकानों पर भीड़ दिखती थी। लेकिन अब उनमें भी ऑनलाइन बाज़ार घुस गया है।

दीवाली के चुक्घड़ों से लेकर रक्षाबंधन की राखियों तक, हर चीज़ अब ऑनलाइन उपलब्ध है। ऐसे में सवाल ये है कि बाज़ार आधारित दुकानदार करे तो करे क्या? क्योंकि जब लोगों को बढ़िया सामान वाजिब दाम पर घर बैठे मिल रहा है तो वो क्यों भीड़ से भरे बाज़ार में मौसम की मार खाते हुए कोई सामान खरीदेंगे?

स्नैपडील, अमेज़ोन जैसे ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट्स पर भी राखियां उपलब्ध हैं। देखिए तस्वीरें,

 

Raksha Bandhan 2018

ऐसा होता है देवभूमि का रक्षाबंधन : देश का वो राज्य जहां पत्थर सिर्फ पूजे नहीं मारे भी जाते हैं

Published

on

देहरादून (Input- Live Uttrakhand)। रक्षाबंधन के पावन पर्व पर उत्तराखंड में देवीधुरा क्षेत्र में हर्षोल्लास के साथ बग्वाल त्यौहार मनाया गया। बग्वाल उत्सव देवभूमि में पौराणिक काल से खेले जाने वाले ‘पाषाण युद्ध‘ को दिखाती एक परंपरा है। इस उत्सव में देश विदेश से भारी संख्या में लोग देवीधुरा पहुंचकर जयकारे लगाते हुए मेले का आनंद लेते हैं।

हर साल रक्षाबंधन के मौके पर उत्तराखंड के चंपावत ज़िले में बग्वाल खेला जाता है। इस खेल में शामिल होने वाले लोग गुट बनाकर बंट जाते हैं और एक-दूसरे पर जमकर पत्थरबाजी करते हैं। पत्थरबाजी करने के बाद सभी गुट के लोग आपस में गले मिलते हैं और खुशियों का इज़हार करते हैं।

 

इस वर्ष बग्वाल मेले के मुख्य अतिथि के तौर पर केंद्रीय राज्य मंत्री अजय टम्टा और उत्तराखंड के मंत्री धन सिंह रावत शामिल हुए। बग्वाली खेल के दौरान इस बार करीब 60 लोगों के चोटिल होने की खबर है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending