Connect with us

नेशनल

व्हाट्सएप दुष्कर्म वीडियो का आरोपी 7 दिन की पुलिस हिरासत में

Published

on

 

नई दिल्ली| राष्ट्रीय राजधानी की एक स्थानीय अदालत ने गुरुवार को व्हाट्सएप पर दुष्कर्म का एक वीडियो पोस्ट करने के मामले में वीडियो अपलोड करने के आरोपी व्यक्ति को सात दिनों की पुलिस हिरासत में भेज दिया। प्रधान महानगर दंडाधिकारी संजय खंगवाल ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) को कालिया उर्फ सुब्रत साहू से दो अप्रैल तक पूछताछ करने की अनुमति दी है।

साहू को 23 मार्च को भुवनेश्वर से गिरफ्तार किया गया था। उसकी एक दिन की पुलिस हिरासत के समाप्त होने के बाद उसे अदालत के समक्ष पेश किया गया।

सीबीआई ने अदालत से पूछताछ और भुवनेश्वर एवं कुछ अन्य स्थानों पर ले जाने के लिए अदालत से साहू को हिरसात में सौंपने का अनुरोध किया था, जिसे अदालत ने स्वीकार कर लिया।

सीबीआई ने याचिका में कहा था कि आरोपी से पूछताछ में इस बात का पता लगाने में मदद मिलेगी कि किसकी मदद से इंटरनेट पर वीडियो जारी किए गए थे।

सीबीआई ने अदालत को बताया कि साहू को हिरासत में लेना इसलिए आवश्यक है, क्योंकि इससे घटनास्थल, कार्यप्रणाली, विभिन्न लेखों को इकट्ठा करने और उसके सहयोगियों को पकड़ने में मदद मिलेगी।

साहू के खिलाफ निजता के उल्लंघन और इलेक्ट्रॉनिक रूप से अश्लील सामग्री प्रकाशित करने के लिए भारतीय दंड संहिता और आईटी एक्ट की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।

सीबीआई ने कहा कि दुष्कर्म के वीडियो क्लिप की जांच की जा चुकी है तथा इस तरह के नौ अलग-अलग क्लिप हैं।

सीबीआई ने अदालत को बताया कि उन्होंने इस मामले में आठ प्राथमिकी (एफआईआर) और एक प्रारंभिक जांच (पीई) दर्ज की है।

सर्वोच्च न्यायालय द्वारा 27 फरवरी को दिए गए आदेश के बाद प्राथमिकी दर्ज की गई। न्यायालय ने सीबीआई को इस मामले में जांच के आदेश दिए थे।

इससे पहले हैदराबाद स्थित एक गैर सरकारी संगठन ‘प्रज्वला’ ने एक पत्र के साथ इस वीडियो को पेनड्राइव में प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति एच.एल दत्तू को भेजा था, जिसके बाद न्यायालय ने यह आदेश जारी किया।

हालांकि इस पत्र में यह जानकारी नहीं दी गई है कि यह दुष्कर्म कब और कहां हुआ तथा दोषियों के बारे में भी कोई जानकारी नहीं दी गई है।

नेशनल

नक्शा फाड़े जाने पर हिंदू महासभा ने की राजीव धवन के खिलाफ बार काउंसिल में शिकायत

Published

on

नई दिल्ली। अयोध्या जमीन विवाद केस की सुनवाई के अंतिम दिन कुछ ऐसा हो गया कि मुस्लिम पक्ष के वकील राजीव धवन सुर्खियों में आ गए।

बुधवार को सुनवाई के 40वें दिन हिंदू महासभा के वकील द्वारा एक नक्शा पेश किए जाने के बाद राजीव धवन ने उसे फाड़ दिया। जिसके बाद हिंदू महासभा ने इसकी शिकायत बार काउंसिल ऑफ इंडिया में की है।

हिंदू महासभा ने बार काउंसिल के सामने मामले का संज्ञान लेते हुए राजीव धवन के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को जब हिंदू महासभा के वकील ने किताब और एक नक्शा पेश किया, तो राजीव धवन भड़क गए थे। उन्होंने तब उस नक्शे को फाड़ दिया और पांच टुकड़े कर दिए।

हालांकि, बाद में जब इस मामले में सुप्रीम कोर्ट में चर्चा हुई तो राजीव धवन ने कहा कि उन्होंने नक्शा चीफ जस्टिस के कहने पर फाड़ा था।

दरअसल, जब हिंदू महासभा के वकील उस पर्चे को दिखा रहे थे तब राजीव धवन ने वह नक्शा छीन लिया और कहा कि वह इस पर जवाब नहीं देंगे। इस पर चीफ जस्टिस ने उनसे कहा कि आप चाहे तो इसे फाड़ दें, तभी राजीव धवन ने नक्शे को फाड़ दिया।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending