Connect with us

नेशनल

1 सितंबर से बंद हो जाएगा मुफ्त रेल दुर्घटना बीमा, हादसे में मौत पर पहले मिलते थे 10 लाख

Published

on

रेलवे दुर्घटना बीमा

नई दिल्ली। अब तक मुफ्त में मिल रहा रेलवे दुर्घटना बीमा 1 अगस्त से यात्रियों के लिए बंद होने जा रहा है। भारतीय रेलवे ने एलान किया है कि नोटबंदी के बाद से मुफ्त में दिया जाने वाली इंशोयरेंस की यह सुविधा अब बंद होने जा रही है।

आपको बता दें कि नोटबंदी के बाद सरकार ने ऑनलाइन बुकिंग को बढ़ावा देने के लिए मुफ्त इंशोरेंस की सुविधा शुरु की थी। नोटबंदी से पहले भारतीय रेलवे की ओर से यह सुविधा ऑप्शनल रखी गई थी।

पिछली सुविधा के मुताबिक यात्री अगर चाहे तो 92 पैस अतिरिक्त देकर दुर्घटना बीमा करा सकते थे। रेल मंत्रालय अब यह व्यवस्था दोबारा नोटबंदी के पहले जैसी ही करने जा रहा है।

फिलहाल यह तय नहीं हुआ है कि दुर्घटना बीमा के लिए 1 सितंबर से कितना शुल्क लिया जाएगा। बीमा कंपनियों से इसके टेंडर की प्रक्रिया जारी है।

बता दें कि रेलवे की दुर्घटना बीमा योजना के तहत किसी रेल हादसे में मौत के बाद मृतक के परिवार को 10 लाख रुपए मुआवजे के रुप में दिया जाता है जबकि हादसे में दिव्यांग हुए व्यक्ति को 7.5 लाख रुपए मुआवजे के तौर पर मिलते हैं। इसके साथ ही 10 हजार रुपए रेलवे द्वारा मृतक के शव को घर ले जाने के लिए भी दिए जाते हैं।

नेशनल

जेपी नड्डा को बधाई देते हुए अमित शाह ने साधा कांग्रेस पर निशाना, कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को सोमवार को नया अध्यक्ष मिल गया। जगत प्रकाश नड्डा निर्विरोध पार्टी के अध्यक्ष चुन लिए गए।

इसके साथ ही दिल्ली में पार्टी मुख्यालय में स्वागत समारोह चल रहा है। पार्टी के पूर्व अध्यक्ष अमित शाह ने कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। इस दौरान इशारों में उन्होंने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा।

अपने संबोधन में अमित शाह ने कांग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि बीजेपी परिवारवाद से नहीं चलती है। अमित शाह ने कहा कि आज हम सबके लिए हर्ष, आनंद और गौरव का विषय है कि बीजेपी ने एक बार फिर अपनी परंपरा का नेतृत्व करते हुए एक सामान्य कार्यकर्ता के रूप में अपने करियर की शुरुआत करने वाले जेपी नड्डा को हमारा राष्ट्रीय अध्यक्ष निर्विरोध चुना।

उन्होंने कहा कि बीजेपी देश की सभी पार्टियों से इसलिए अलग पार्टी दिखाई पड़ती है, क्योंकि ये पार्टी न तो जात-पात के आधार पर चलती है और न ही वंशवाद के आधार पर चलती है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending