Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

अगर चुनाव आयोग ने पाया दोषी तो नहीं बन पाएंगे इमरान पाकिस्तान के प्रधानमंत्री? ये है मामला

Published

on

नई दिल्ली। पाकिस्तान में चुनाव जीतने और सबसे बड़ी पार्टी बनने के बाद भी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान की शपथ ग्रहण पर मुसीबत के बादल छाए हुए हैं। शपथ की तारीख़ नज़दीक आ रही है लेकिन शपथ होगी भी या नहीं ये निश्चित नहीं हो पा रहा है।

मामला ये है कि इमरान खान को चुनाव प्रचार के दौरान कई बार अनुचित भाषा के इस्तेमाल में आचार संहिता के उल्लंघन का दोषी पाया गया था। तो पाकिस्तान चुनाव आयोग अगर उन्हें दोषी ठहराता है तो उन्हें उनकी सभी सीटों से अयोग्य घोषित कर दिया जाएगा। संभावना ये भी है कि उनकी बड़ी जीत और पाकिस्तान के मौजूदा राजनीतिक माहौल को देखते हुए उन्हें केवल चेतावनी देकर छोड़ दिया जाएगा। लेकिन इमरान खान को नेशनल असेंबली के सदस्य के रूप में तीन में से एक सीट से शपथ लेने की अनुमति मिल गई है। अब उनकी सदस्यता आचार संहिता उल्लंघन के लंबित मामले में चुनाव आयोग के फैसले पर निर्भर करती है। अगर चुनाव आयोग का फैसला उनके हक़ में नहीं आता है तो उनकी मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

पाकिस्तान निर्वाचन आयोग ने इमरान खान को नेशनल असेंबली के सदस्य की शपथ लेने की अनुमति दी भी है तो कुछ शर्तों पर। आयोग ने दो सीटों से उनकी जीत को स्थगित कर दिया है और तीन अन्य सीटों से उन्हें विजयी घोषित कर दिया है। आपको पता हो कि इमरान ने एक साथ पांच सीटों पर जीत दर्ज की है।

अन्तर्राष्ट्रीय

पाकिस्तान में आर्मी-पुलिस आमने-सामने, गृह युद्ध जैसे हालात

Published

on

इस्लामाबाद। पाकिस्तान में इस समय गृह युद्ध जैसे हालात बने हुए हैं। यहां इमरान सरकार के खिलाफ पूरा विपक्ष एकजुट है। इमरान के खिलाफ बड़ी-बड़ी सभाएं हो रही हैं। इसी बीच पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ के दामाद मोहम्मद सफदर को सेना द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया था। हालांकि उन्हें कुछ देर बाद छोड़ दिया गया था। हालांकि सिंध पुलिस को इस बात की जानकारी नहीं थी। साथ ही गिरफ्तारी के दौरान सिंध पुलिस प्रमुख को कहीं घेर लिया गया था।

पाकिस्तानी सेना के इस कृत्य के बाद सिंध पुलिस और पाकिस्तानी सेना आमने सामने है। सिंध पुलिस ने कई बड़े अधिकारियों ने सेना से नाराज होकर छुट्टी पर जाने का फैसला कर लिया है। बता दें कि बीते कल नवाज शरीफ की बेटी मरियम नवाज ने आरोप लगाया था कि उनके होटल के कमरे में घुसकर उनके पति को गिरफ्तार कर ले जाया गया। हालांकि बाद में उन्हें छोड़ दिया गया। इसके बाद बैकफुट पर आए पाकिस्तानी आर्मी चीफ बाजवा ने आदेश दिया है कि आखिर यह गिरफ्तारी क्यों की गई इसकी जांच की जाए। लेकिन मामला यहीं तक नहीं थमा है। इसके बाद पाकिस्तान के सिंध प्रांत की पुलिस और पाकिस्तानी सेना और आईएसआई के बीच अब विवाद शुरू हो चुका है।

सिंध पुलिस का इस मामले पर कहना है कि सफदर को उनकी जानकारी के बगैर गिरफ्तार किया गया था। उसकी गिरफ्तारी के दौरान सिंध पुलिस प्रमुख को कहीं घेर लिया गया था। इसके बाद पाक सेना ने ही सफदर को गिरफ्तार किया था। बता दें कि पुलिस की सेना से नाराजगी के बाद पुलिस अधिकारी व पुलिस कर्मचारी छुट्टी पर जाने लगे हैं. सिंध पुलिस के आईजी ने भी छुट्टी पर जाने का ऐलान किया। साथ ही हजारों पुलिस कर्मचारी भी छुट्टी पर चले गए हैं।

Continue Reading

Trending