Connect with us

Kargil Vijay Diwas

कारगिल विजय दिवस: आपने युद्ध नहीं देखा तो इन तस्वीरों से जानिए उस विजय संघर्ष की दास्तान

Published

on

युद्ध के दौरान कई पल ऐसे भी आए जब विजय असंभव सी नज़र आ रही थी लेकिन भारतीय सैनिकों की हिम्मत ने जवाब नहीं दिया और विपरीत परिस्थितियों के बावजूद दुश्मन को भारतीय सीमा से खदेड़ दिया। आज पूरा देश ‘कारगिल विजय दिवस’ मना रहा है। ऐसे में हमारे हाथ लगी हैं कुछ ऐसी तस्वीरें जिन्हें देखकर आप 1999 के उस विजय संघर्ष को एक बार फिर से महसूस कर सकते हैं। आइए नज़र डालते हैं इन तस्वीरों पर।

घाटी में रहकर भी ऊंचाईयों में फैली दुश्मनों की फौज को दी गई थी चुनौती । ( फोटो – गूगल )

 

आधुनिक युद्ध सामग्री और हाईटेक मिसाइलों का किया गया प्रयोग, सेना ने दिखाई अपनी शक्ति। ( फोटो – गूगल )

लड़ाई के दौरान कंट्रोल रूम में परमवीर चक्र विजेता कैप्टन मनोज पांडे। ( फोटो – गूगल )

कारगिल युद्ध के दौरान क्षतिग्रस्त विमान का मलबा हटाते जवान । ( फोटो – गूगल )

युद्ध के दौरान भारतीय सैनिकों की टोली, तस्वीर में कैप्टन मनोज पांडे मुस्कुराते हुए। ( फोटो – गूगल )

टाइगर हिल पर जीत का जश्न मनाते भारतीय सैनिक । ( फोटो – गूगल )

Kargil Vijay Diwas

कारगिल विजय दिवस: आज कहानी उस परमवीर कैप्टन की जिसने मौत को मारने की कसम खाई थी

Published

on

By

लखनऊ। 26 जुलाई यानी कारगिल विजय दिवस आते ही हर तरफ कारगिल विजय गाथाएं गूंजने लगती है, शहीद जवानों के किस्से आपको गौरवान्वित करने लगते हैं। कारगिल युद्ध, जो कारगिल संघर्ष के नाम से भी जाना जाता है, भारत और पाकिस्तान के बीच वर्ष 1999 में मई के महीने में कश्मीर के कारगिल जिले से शुरू हुआ था। इस युद्ध में 500 से अधिक वीर सपूत शहीद हो गए थे। ‘आज की खबर’ उन सभी वीर सपूतों की शहादत को सलाम करता है। इन्ही वीर सपूतों में से एक थे शहीद कैप्टन मनोज कुमार पांडेय।

मनोज पांडेय ने युद्ध के मैदान में अपनी वीरता का ऐसा लोहा मनवाया कि जिसे दुश्मन भी सलाम करता है। शहीद कैप्टन मनोज कुमार पांडेय कितने वीर थे इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने एक बार कहा था कि ‘यदि मेरे फर्ज की राह में मौत भी रोड़ा बनी तो मैं कसम खाता हूं कि मैं मौत को भी मार दूंगा।’ वहीँ एनडीए में दाखिले के लिए मनोज पांडेय ने इंटरव्यू के दौरान पूछे गए सवाल का ऐसा जवाब दिया कि इंटरव्यू लेने वाला भी हैरान रह गया। मनोज से सवाल पूछा गया, ‘आर्मी क्यों जॉइन करना चाहते हो?’ मनोज ने जो जवाब दिया उसे सुनकर वहां मौजूद हर शख्स चौंक गया। मनोज ने कहा था, ‘मुझे परमवीर चक्र चारिए।’ इसके बाद मनोज को एनडीए में दाखिला मिल गया।

मनोज पांडेय ने इस तरह कारगिल युद्ध में मनवाया अपनी बहादुरी का लोहा

मई 1999, कारगिल की जंग की तैयारी शुरू हो गई थी। इसी जंग के बाद कैप्टन मनोज पांडेय को ‘परमवीर’ मनोज पांडेय के रूप में जाना जाता था। कैप्टन मनोज के साथ थे गोरखा राईफल्स के बहादुर सिपाही। पूरे करगिल युद्ध के दौरान कैप्टन मनोज पांडेय को कई मिशनों में लगाया गया और वह हर मिशन को कामयाबी से पूरा करते चले गए। इसके साथ ही धीरे-धीरे मनोज पांडेय के कदम वीर से ‘परमवीर’ बनने की ओर बढ़ रहे थे।

3 जुलाई 1999 को मनोज पांडेय को खालुबर हिल से दुश्मनों को खदेड़ने का टास्क मिला। इस ऑपरेशन के साथ सबसे बड़ी कठिनाई यह थी कि इसे सिर्फ रात को अंजाम दिया जा सकता था। मनोज ने यह चुनौती स्वीकार की और अपनी पूरी पलटन के साथ आगे बढ़े। कैप्टन मनोज एक-एक कर दुश्मनों के सारे बंकर खाली करते जा रहे थे। पहले बंकर पर हुई आमने-सामने की लड़ाई में मनोज ने दो पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया। दूसरे बंकर पर भी मनोज ने दो पाकिस्तानियों को खत्म कर दिया, लेकिन तीसरे बंकर की ओर बढ़ते हुए, मनोज को कंधे और पैर में 2 गोलियां लग गईं।

मनोज ने बुरी तरह घायल होने के बावजूद हार नहीं मानी और अपनी पलटन को लिए आगे बढ़ते रहे। इस वीर ने चौथे और अंतिम बंकर पर भी फतह हासिल की और तिरंगा लहरा दिया। लेकिन यहीं पर मनोज की सांसों की डोर टूट गई। गोलियां लगने से जख्मी हुए कैप्टन मनोज पांडेय शहीद हो गए। लेकिन जाते-जाते मनोज ने नेपाली भाषा में आखिरी शब्द कहे थे, ‘ना छोड़नु’, जिसका मतलब होता है किसी को भी छोड़ना नहीं। बाद में भारत सरकार ने मैदान-ए-जंग में मनोज की बहादुरी के लिए परमवीर चक्र से सम्मानित किया।

Continue Reading

Trending