Connect with us

Guru Purnima 2018

गुरु पूर्णिमा 2018: ये हैं वे गुरु-शिष्य, जिनके किस्से आज भी हैं लोगों को याद

Published

on

गुरु पूर्णिमा आषाढ़ मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को मानते हैं। इस दिन देशभर में गुरुओं की आराधना, पूजा-अर्चना की जाती है। हिन्दू शास्त्रों में कहा गया है कि आपको ईश्वर की प्राप्ति करनी है तो गुरु के पास जाएं, क्योंकि गुरु ही हैं जो ईश्वर को पाने का मार्ग दिखा सकते हैं। पूरी दुनिया में एक आपका गुरु ही होता है जो आपको समाज के लायक बनता है। गुरु के बिना ज्ञान अधूरा है। इसलिए हमारे देश में गुरुओं को पूजने की समृद्ध परंपरा है। आइए इस गुरु पूर्णिमा के मौके पर हम उन गुरुओं की बात करते हैं, जिनके ज्ञान से आलोकित शिष्यों को दुनिया ने महान माना।

साभार – इंटरनेट

गोखले-गांधी – महात्मा गांधी ने गोपाल कृष्ण गोखले को अपना राजनीतिक गुरु बताया था। यह गोखले ही थे जिन्होंने मोहनदास करमचंद गांधी को भारत को पहले समझने और फिर कुछ करने की सलाह दी थी। क्योंकि दक्षिण अफ्रीका से गांधी का भारत आना, उनकी वकालत संबंधी कार्यों की वजह से हुआ था। स्वदेश में भी दक्षिण अफ्रीका की तरह रंगभेदी सरकार की नीतियों को देख गांधी का ध्यान बरबस ही यहां पर केंद्रित हो गया।  यही वह महत्वपूर्ण समय था, जब गोखले ने गांधी को देश को समझने की सलाह दी। इसके बाद महात्मा गांधी ने समूचे भारतवर्ष में जाकर यहां की संस्कृति को जाना-समझा। इसके बाद गांधी जिस भूमिका में आए और अपने जीवन के अंत तक बने रहे, वह सब इतिहास है।

साभार – इंटरनेट

परशुराम-कर्ण – रामायण के बाद जाहिर तौर पर हमें महाभारत में गुरु-शिष्य की समृद्ध परंपरा का बखान मिलता है। महाभारत में तो गुरु और शिष्य के अनगिनत उदाहरण हैं। इनमें सबसे अनोखा है परशुराम और कर्ण का। तत्कालीन सामाजिक व्यवस्था के तहत कर्ण को जातिगत भेदभाव का सामना करना पड़ा।  इस कारण उन्हें कौरवों या पांडवों की तरह राजकुल के गुरु से शिक्षा नहीं मिल सकी। कर्ण ने परशुराम से शिक्षा ली। लेकिन परशुराम सिर्फ ब्राह्मण को ही शिक्षा देते थे, इसलिए कर्ण ने नकली जनेऊ पहन ली। कहते हैं कि अपने शिष्य की प्रतिभा से परशुराम इतने प्रसन्न थे कि उन्होंने कर्ण को युद्ध कला के हर वो कौशल सिखाए, जिसके वे खुद महारथी थे। कथा के अनुसार, बिच्छू के काटने से बहे खून ने परशुराम की नींद तोड़ दी और उन्हें शिष्य के अदम्य साहस का पता चला। लेकिन किसी ब्राह्मण के इतना साहसी होने पर संदेह भी हुआ। बाद में कर्ण की असलियत जानकर परशुराम ने कर्ण को श्राप दे दिया।

साभार – इंटरनेट

रामकृष्ण-विवेकानंद – शास्त्रों की कथा से इतर, आधुनिक काल में सर्वाधिक प्रसिद्ध गुरु-शिष्य की जोड़ियों में सबसे प्रमुख नाम है, स्वामी रामकृष्ण परमहंस और विवेकानंद का। बंगाल के दक्षिणेश्वर मंदिर के संत रामकृष्ण के ज्ञान से एक बालक नरेंद्र नाथ इतना प्रतिभाशाली बना कि दुनिया आज भी विवेकानंद के विचारों का लोहा मानती है। सही मायने में देखें तो एक महान गुरु की महत्ता और उसके विद्वान शिष्य की प्रसिद्धि का इससे अच्छा और सटीक उदाहरण आपको कहीं नहीं मिलेगा। विवेकानंद ने अपने भाषणों, लेख और वचनों में हर जगह रामकृष्ण परमहंस की महानता का वर्णन किया है। साथ ही गुरु और ईश्वर, दोनों में से किसी एक की महत्ता के मामले में गुरु को सर्वोपरि स्थान दिया है।

साभार – इंटरनेट

द्रोण-अर्जुन – महाभारत में गुरु-शिष्य परंपरा में जिस एक जोड़ी की सर्वाधिक चर्चा की जाती है, वह है द्रोणाचार्य और अर्जुन की। पांडवों में से एक अर्जुन की प्रतिभा देखकर गुरु द्रोणाचार्य ने अपने इस शिष्य को विश्व के महानतम धनुर्धर के रूप में स्थापित कर दिया। महाभारत की कथा के अनुसार, अर्जुन से सर्वाधिक स्नेह के कारण द्रोणाचार्य को कई मामलों में पक्षपाती भी बताया गया है। लेकिन अर्जुन और द्रोण के बीच गुरु-शिष्य के संबंधों को देखने पर हमें एक विद्वान गुरु के महान शिष्य बनने की कहानी का पता चलता है।

साभार – इंटरनेट

विश्वामित्र-राम – भारत में गुरु की महत्ता और गुरु-शिष्य के संबंध के बारे में पौराणिक ग्रंथों में खूब लिखा गया है। रामायण में अयोध्या के राजकुमार राम को गुरु वशिष्ठ और विश्वामित्र का अनन्य भक्त कहा गया है। वशिष्ठ ने जहां राम को बाल्य-काल में शिक्षा देकर उनके ज्ञान के आधार को मजबूत बनाया था, वहीं विश्वामित्र ने राम को तरुण अवस्था में अपने ज्ञान से आलोकित किया था। हम देखें तो इन दोनों गुरुओं के मुकाबले राम की महिमा ज्यादा है। वे मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाए। राजा के रूप में राम-राज्य का उदाहरण दिया जाता है। लेकिन यह गुरुओं का ही प्रभाव था कि राम को दुनिया ने एक राजकुमार के मुकाबले, बड़े व्यक्तित्व के रूप में जाना।

 

Guru Purnima 2018

PHOTOS : ये हैं चंद्रग्रहण की बेहतरीन तस्वीरें, हुआ ‘ब्लड मून’ का दीदार

Published

on

21वीं सदी का सबसे लंबा पूर्ण चंद्रग्रहण (Longest total lunar eclipse) 27 जुलाई शुक्रवार को रात में पूरा हो गया। दुनिया ने कुछ घंटों में चांद को अपना रंग बदलता हुए देखा। भारत में यह रात 11 बजकर 55 मिनट से 3 बजकर 54 मिनट पर पूर्ण हुआ। इसकी कुल अवधि 6 घंटा 14 मिनट रहा। इस दौरान ब्लड मून जैसी खगोलीय घटना भी देखने को मिलेगी। हालांकि भारत के अध‍िकतर हिस्सों में बादल छाए होने की वजह से चंद्रग्रहण देखने में दिक्कत आई। लेकिन दुनिया के कई देशों में चंद्रग्रहण और ब्लड मून के दौरान बेहतरीन तस्वीरें सामने आई। देखें किस देश में दिखा सबसे बेहतरीन चंद्रग्रहण

साभार – इंटरनेट

यह तस्वीर ग्रीस के एथेंस की है।

साभार – इंटरनेट

इटली में चंद्रग्रहण की यह तस्वीर टाइम लैप्स फोटो की मदद से ली गई है।

साभार – इंटरनेट

ऑस्ट्रेलिया के शहर स‍िडनी में ऐसा था चंदग्रहण का नजारा।

साभार – इंटरनेट

जर्मनी के हैम्बर्ग में चंद्रग्रहण देखते लोग।

साभार – इंटरनेट

ग्रीस के टेंपल ऑफ अपोलो के साथ ब्लड मून का नजारा।

साभार – इंटरनेट

जर्मनी के होहेनजोर्लेन महल से ऐसा दिखा चंद्रग्रहण का नजारा।

साभार – इंटरनेट

मलेश‍िया के कुआलांपुर में भी ब्लड मून के दौरान बेहतरीन तस्वीरें ली गई।

साभार – इंटरनेट

जॉर्डन में ऐसा दिखा चंद्रग्रहण का नजारा।

साभार – इंटरनेट

बॉलीवुड फ‍िल्म ‘तमाशा’ में दिखाए गए फ्रांस के द्वीप कोर्सिका से से ऐसा द‍िखा ब्लड मून का नजारा।

साभार – इंटरनेट

स्पेन के कैनरी द्व‍ीप से टाइम लैप्स फोटो की मदद से ऐसा दिखा चंद्रग्रहण और ब्लड मून का पूरा नजारा।

साभार – इंटरनेट

तुर्की के माउंट आर्टोस में लोगों ने चंद्रग्रहण को साफ देखा और बेहतरीन तस्वीरें भी ली।

साभार – इंटरनेट

रोम स्थ‍ित कालिजियम स्मारक से ऐसा दिखा ब्लड मून।

साभार – इंटरनेट

ग्रीस के केप सोयूनियन स्थि‍त टेंपल ऑफ पोसायडन से ऐसा दिखा चंद्रग्रहण का नजारा।

साभार – इंटरनेट

जर्मनी के होहेनजोर्लेन महल से ऐसा दिखा चंद्रग्रहण का नजारा।

साभार – इंटरनेट

जर्मनी के बर्ल‍िन शहर में लोग चंद्रग्रहण देखने के लिए काफी पहले ही एक पार्क में जमा हो गए थे।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending