Connect with us

Kargil Vijay Diwas

कारगिल विजय दिवस: वो पांच गाने जिन्हें सुनकर आप 1999 की जीत को महसूस कर सकते हैं

Published

on

नई दिल्ली। अगर भारतवासी होने के बावजूद 26 जुलाई यानी कारगिल विजय दिवस पर आपको जीत की खुशी और बलिदान का गर्व महसूस नहीं होता तो एक जीवित भारतीय के रूप में आप संपन्न नहीं हैं। 26 जुलाई आते ही हर तरफ कारगिल विजय गाथाएं गूंजने लगती है, शहीद जवानों के किस्से आपको गौरवान्वित करने लगते हैं। कारगिल युद्ध, जो कारगिल संघर्ष के नाम से भी जाना जाता है, भारत और पाकिस्तान के बीच वर्ष 1999 में मई के महीने में कश्मीर के कारगिल जिले से शुरू हुआ था। इस युद्ध में 500 से अधिक वीर सपूत शहीद हो गए थे। ‘आज की खबर’ उन सभी वीर सपूतों की शहादत को सलाम करता है।

जब बात देश या देश के लिए शहीद होने वाले सैनिकों की हो तो हर कोई उन्हें अपने तरीके से याद करता और नमन करता है। अपनी हर फिल्म में मनोरंजन परोसने वाला बॉलीवुड भी देश और शहीदों को समय-समय पर अपने तरीके से नमन करता है। इसीलिए बॉलीवुड के पास हैं कुछ ऐसे गाने जो कारगिल विजय दिवस के लिए मौजूं हैं और जिन्हें सुनकर आप अपना सिर गर्व से उठा सकते हैं।

1.”एक साथी और भी था..”- L.O.C. कारगिल

2.“मेरे दुश्मन, मेरे भाई..”बॉर्डर

3.“मां तुझे सलाम..”मां तुझे सलाम

4. “ऐ वतन तेरे लिए..”कर्मा

5.“कंधों से मिलते हैं कंधे..”लक्ष्य

Kargil Vijay Diwas

कारगिल विजय दिवस: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने पेश की नज़ीर, शहीदों के परिवारों को किया सम्मानित

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को ‘कारगिल विजय दिवस’ के अवसर पर कहा कि पाकिस्तान के साथ हुए युद्ध में सैनिकों ने विपरीत परिस्थतियों में भी देश को विजय दिलाने का काम किया था। लखनऊ में कारगिल शहीद स्मृति वाटिका में आयोजित श्रद्धांजलि कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने यह बात कही।

योगी ने कहा कि, “पाकिस्तान ने कारगिल में घुसपैठ कर भारत पर युद्ध थोपा था। भारतीय सैनिकों ने विपरीत परिस्थितियों में अपने पराक्रम का परिचय देते हुए 26 जुलाई को कारगिल विजय दिलाई थी। आज का दिन भारत के शौर्य, पराक्रम और स्वाभिमान का दिन है। भारत के वीर सपूतों के प्रति सम्मान प्रकट करते हुए विनम्र श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं।”

मुख्यमंत्री ने कहा कि, “पाकिस्तान ने गीदड़ भभकी से चुनौती देने का प्रयास किया था। अमेरिका से मदद मिली। अमेरिका ने हस्तक्षेप करने का भी प्रयास किया, लेकिन भारत ने स्पष्ट किया था कि देश की सुरक्षा और स्वाभिमान में कोई हस्तक्षेप बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।”

इस दौरान मुख्यमंत्री ने शहीदों के परिवारजनों को स्मृति चिन्ह, शॉल और माला पहनाकर सम्मानित किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि सभी नगर निगमों में शहीद पार्क बनाएं जाएंगे। मुख्यमंत्री के साथ उपमुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना, डॉ. रीता बहुगुणा जोशी, राज्यमंत्री, महेंद्र सिंह, मोहसिन रजा, विधायक सुरेश श्रीवास्तव और महापौर संयुक्ता भाटिया भी मौजूद रहीं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending