Connect with us

IANS News

तमिलनाडु प्रीमियर लीग में राज्य के खिलाड़ियों को ही खेलने की अनुमति : सुप्रीम कोर्ट

Published

on

नई दिल्ली, 11 जुलाई (आईएएनएस)| सर्वोच्च न्यायालय ने बुधवार को कहा कि तमिलनाडु क्रिकेट संघ द्वारा आयोजित तमिलनाडु प्रीमियर लीग (टीएनपीएल) क्रिकेट टूर्नामेंट में अन्य क्रिकेट संघों से पंजीकृत खिलाड़ियों को खेलने की इजाजत नहीं दी जाएगी।

आठ टीमों के इस टूर्नामेंट का आयोजन 11 जुलाई से 12 अगस्त तक होने हैं। प्रत्येक टीमों को 20 खिलाड़ियों का पूल रखने की इजाजत है।

प्रधान न्यायाधीश दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली एक पीठ ने कहा, यह आदेश दिया जाता है कि तमिलनाडु प्रीमियर लीग, तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन से पंजीकृत खिलाड़ियों के साथ जारी रह सकती है। प्रशासकों की समिति (सीओए) ने पांच जुलाई को यह आदेश दिया था, जिसे एसोसिएशन द्वारा ईमानदारी से लागू किया जाना चाहिए।

टीएनपीएल की तरफ से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता रंजीत कुमार ने न्यायालय के समक्ष कहा कि संबंधित क्रिकेट संघों से अनापत्ति प्रमाण पत्र पेश करने पर बाहरी खिलाड़ियों को इस टूर्नामेंट में भाग लेने की इजाजत दी जाए।

उन्होंने कहा कि आठ टीमों के इस टूर्नामेंट में हर टीम को राज्य से बाहर के दो खिलाड़ियों को शामिल करने की अनुमति है।

सीओए की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता पराग त्रिपाठी ने टीएनपीएल के वकील की दलीलों का विरोध करते हुए कहा कि बीसीसीआई के संविधान के मसौदे को ध्यान में रखते हुए इसकी अनुमति नहीं दी गई।

उन्होंने साथ ही कहा कि 2009 के बाद से कोई भी बाहरी खिलाड़ी इस टूर्नामेंट में नहीं खेल रहा है।

Continue Reading

IANS News

अधिक खाने को प्रेरित करने वाले दिमाग के हिस्से की पहचान

Published

on

न्यूयॉर्क, 17 जुलाई (आईएएनएस)| बहुत ज्यादा खाने वाले मोटापाग्रस्त लोगों में हाइपोथैलेमस में दिमाग की कोशिकाओं का एक छोटा समूह खाने को नियंत्रित करने का एक आशाजनक लक्ष्य हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि ‘ओरेक्जिन’ न्यूरॉन्स को पहले पाया गया है कि वह कोकीन सहित कई मादक पदार्थो की लत के लिए जिम्मेदार है। ओरेक्जिन न्यूरॉन्स को रासायनिक संदेशवाहक के तौर पर नामित करते हैं, जिनका इस्तेमाल दिमाग की दूसरी कोशिकाओं के साथ संचार के लिए होता है।

अमेरिका के न्यूजर्सी विश्वविद्यालय के गैरी एस्टोन-जोंस ने कहा, खाने के विकारों से जुड़े कई महत्वपूर्ण लक्षण जैसे कि नियंत्रण खोने की भावना, यह मादक पदार्थो की लत की प्रेरक प्रवृत्ति से मेल खाती है।

एस्टन-जोंस ने कहा, चूंकि ओरेक्जिन तंत्र मादक पदार्थ की लत की तरफ इशारा करता है, हमने बार-बार खाने के कारण होने वाले बदलाव को समझने के लिए इसे लक्षित किया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending