Connect with us

IANS News

पर्ल एकेडमी का एफडीसीआई से करार

Published

on

नई दिल्ली, 11 जुलाई (आईएएनएस)| पर्ल एकेडमी ने आगामी महीनों में फैशन कार्यक्रमों और आयोजनों की श्रृंखला के माध्यम से अपने छात्रों में सीखने के अनुभव को बेहतर बनाने की योजना के अंतर्गत फैशन डिजाइनरों की शीर्ष संस्था एफडीसीआई के साथ समझौता किया है।

इस समझौते के माध्यम से एकेडमी के छात्रों का फैशन के क्षेत्र में मार्गदर्शन किया जाएगा। फैशन विशेषज्ञों (डिजाइनर, संपादक और स्टाइलिस्ट) के साथ एफडीसीआई द्वारा आयोजित कार्यक्रम होगा जहां पर्ल एकेडमी के छात्र फैशन के नए विचार और भविष्य के फैशन के ट्रेंड्स पर विचार करने के लिए हिस्सा लेंगे।

एफडीसीआई के अध्यक्ष सुनील सेठी ने कहा, इंस्टीट्यूट के साथ हमारे समझौते का उद्देशय छात्रों को ज्ञान और विशेषज्ञता मुहैया कराना है। जाने-माने डिजाइनर्स के साथ सीधी बातचीत के माध्यम से छात्रों को फैशन उद्योग के परिचालनीय पहलू को समझने का अवसर मिलेगा जिससे उन्हें बदलते रुझानों के बारे में जानने को मिलेगा। इससे उनके लिए फैशन क्षेत्र में विभिन्न प्रकार के नए विकल्प मिलेंगे।

पर्ल एकेडमी की सीईओ प्रोफेसर नंदिता अब्राहम ने कहा, इस प्रयास के माध्यम से कई अन्य छात्रों को देश के कुछ बेहतरीन डिजाइनरों से सलाह लेने और अनुभव हासिल करने का मौका मिल सकता है। पर्ल टोटल लर्निग सिस्टम के अंतर्गत प्रत्येक छात्र को ऐसी चीजें सीखने को मिलेंगी जो उद्योग के साथ जुड़ी होती हैं और एफडीसीइआई के साथ यह समझौता यही सुनिश्चित करता है।

Continue Reading

IANS News

अधिक खाने को प्रेरित करने वाले दिमाग के हिस्से की पहचान

Published

on

न्यूयॉर्क, 17 जुलाई (आईएएनएस)| बहुत ज्यादा खाने वाले मोटापाग्रस्त लोगों में हाइपोथैलेमस में दिमाग की कोशिकाओं का एक छोटा समूह खाने को नियंत्रित करने का एक आशाजनक लक्ष्य हो सकता है।

शोधकर्ताओं ने कहा कि ‘ओरेक्जिन’ न्यूरॉन्स को पहले पाया गया है कि वह कोकीन सहित कई मादक पदार्थो की लत के लिए जिम्मेदार है। ओरेक्जिन न्यूरॉन्स को रासायनिक संदेशवाहक के तौर पर नामित करते हैं, जिनका इस्तेमाल दिमाग की दूसरी कोशिकाओं के साथ संचार के लिए होता है।

अमेरिका के न्यूजर्सी विश्वविद्यालय के गैरी एस्टोन-जोंस ने कहा, खाने के विकारों से जुड़े कई महत्वपूर्ण लक्षण जैसे कि नियंत्रण खोने की भावना, यह मादक पदार्थो की लत की प्रेरक प्रवृत्ति से मेल खाती है।

एस्टन-जोंस ने कहा, चूंकि ओरेक्जिन तंत्र मादक पदार्थ की लत की तरफ इशारा करता है, हमने बार-बार खाने के कारण होने वाले बदलाव को समझने के लिए इसे लक्षित किया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending