Connect with us

हेल्थ

इथोपिया के 13 हृदयरोगियों की सफल सर्जरी

Published

on

कोच्चि| इथोपिया के 13 हृदयरोगी 27 मार्च को वापस अपने देश चले जाएंगे। एक वर्ष से 18 वर्ष तक के इन रोगियों का यहां एक सुपरस्पेशियल्टी अस्पताल में इलाज सफलतापूर्वक पूरा हो गया है। यह बात रविवार को यहां एक हृदय शल्य चिकित्सक ने कही। अमृता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज के पेडियाट्रिक कार्डियोलॉजी विभाग के प्रमुख आर. कृष्णकुमार ने प्रसन्नता जताते हुए कहा कि वह और उनके सहयोगियों ने रोगियों का सफलतापूर्वक इलाज पूरा किया है।

कोच्चि के कुष्णकुमार ने कहा, “13 रोगी दो सप्ताह पहले आए थे।” उन्होंने कहा कि 13 में से सिर्फ चार रोगियों के साथ उनके माता-पिता आए थे, जिनकी उम्र तीन साल से कम थी। शेष रोगियों के साथ कोई नहीं था। इथोपिया की राजधानी अदीसअबाबा से 400 किलोमीटर दूर गोंडर का रहने वाला फिलिमॉन बरहेनी पहली बार सात महीने की उम्र में बीमार पड़ा था। तब जांच में पता चला था कि उसके हृदय में कई छिद्र हैं।

इथोपिया में इलाज की सुविधा नहीं होने के कारण उसके माता-पिता को उसे दक्षिण अफ्रीका ले जाने की सलाह दी गई। लेकिन वहां इलाज कराना महंगा था। उसके सैनिक पिता ने उसे अमृता संस्थान लाने का फैसला किया। फिलिमॉन अब 15 साल का है। एक शल्य क्रिया के बाद वह पूरी तरह स्वस्थ्य हो गया है। उसके हृदय में सात छिद्र थे, जिन्हे बंद कर दिया गया है। वह अब अपने देश जाएगा और इंजीनियरिंग की पढ़ाई करेगा।

इथोपिया से इस संस्थान में आकर इलाज कराने वाले रोगियों का यह आठवां समूह है। इस पहल को अमेरिकन जेविश जॉइंट डिस्ट्रीब्यूशन कमेटी से सहायता मिलती है। कृष्णकुमार ने कहा, “दक्षिण अफ्रीका और इजरायल जैसे देशों में इन रोगों के इलाज पर जितना खर्च होता है, हम उसके आधे में इलाज कर देते हैं। उम्मीद है कि अगले तीन महीने में रोगियों का नया समूह आ जाएगा। हम (इथोपिया के डॉक्टरों के सहयोग से) इन रोगियों के संपर्क में हमेशा रहते हैं।”

अमृता इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एक सुपर स्पेशियल्टी अस्पताल है, जिसकी स्थापना 1998 में हुई थी।

ऑफ़बीट

इस तरीके से करें भिंडी का सेवन, जड़ से खत्म हो जाएगा डायबिटीज

Published

on

नई दिल्ली। गर्मी के मौसम में भिंडी लगभग हर किसी के घर में बनती है। किसी को कुरकुरी भिंडी खाने का शौक होता है तो किसी को मसाले वाली।

आज हम आपको भिंडी से होने वाले एक ऐसे फायदे के बारे में बताएंगे जिसे जानकर आप हैरान रह जाएंगे। विटामिन सी और मैग्नीशियम से भरपूर भिंडी में सिर्फ 30% कैलोरी पाई जाती है जिससे यह कई बीमारियों को ठीक करने में काफी मददगार साबित होती है।

भिंडी के इन तत्वों को पाने के लिए इसके रस का सेवन करना चाहिए। भिंडी का पानी बनाने के लिए 5-6 मीडियम भिंडी के किनारे काट लें। अब इन्हें बीच से काटें।

इसके बाद इन्हें दो कटोरी पानी में भिगो दें। इसे रात भर ऐसे ही रहने दें। सुबह उठकर भिंडी के टुकड़ों को निचोड़ कर निकाल लें। अब आप इस पानी में थोड़ा सादा पानी मिलाए जिससे कि यह करीब एक गिलास हो जाए।

ध्यान रखें सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। शुगर के मरीजों के लिए यह पानी किसी वरदान से कम नहीं है। अगर आप शुगर को कंट्रोल में रखनेके लिए महंगी दवाईयों का सहारा लेते रहे हैं तो अब आप घर बैठे ही भिंडी के इस नुस्खे से इस गंभीर बीमारी से निजात पा सकते हैं।

वो भी बिना किसी साइड इफेक्ट के। इसके साथ ही यह गुर्दे की बीमारी में भी फायदेमंद बताया जाता है। लेकिन हम आपसे यह जरुर कहना चाहेंगे कि ऐसा करने से पहले डॉक्टर से एक जरुर सलाह लें फिर ये तरीका अपनाएं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending