Connect with us

खेल-कूद

फीफा विश्व कपः हुआ अब तक का सबसे बड़ा उलटफेर, मेजबान टीम हो गई बाहर

Published

on

फीफा

नई दिल्ली। क्रोएशिया ने पेनाल्टी शूटआउट तक गए फीफा विश्व कप के एक रोमांचक क्वार्टर फाइनल मुकाबले में रूस को 4-3 (2-2) में हराकर अगले दौर में जगह बना ली है। क्रोएशिया 1998 में हुए विश्व कप के बाद पहली बार इस टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में प्रवेश करने में कामयाब हुआ है जहां उसका सामना बुधवार को इंग्लैंड से होगा।

फीफा

फिश्ट स्टेडियम में शनिवार देर रात खेले गए मुकाबले में निर्धारित समय तक स्कोर 1-1 रहा और अतिरिक्त समय में भी दोनों टीमों ने एक-एक गोल किया जिसके कारण विजेता का फैसला पेनाल्टी शूटआउट द्वारा किया गया।

पेनाल्टी शूटआउट में क्रोएशिया के चार खिलाड़ियों ने गोल दागे जबकि रूस के तीन खिलाड़ी ही गोल कर पाए। शूटआउट से पहले क्रोएशिया के लिए एंद्रेज करामारिक (39वें मिनट) और डोमागोज विदा (101 मिनट) ने गोल दागा जबकि रूस के लिए डेनिस चेरीशेव (31वें मिनट) और मारियो फनार्डेज (115वें मिनट) ने गोल किया।

फीफा

रूस ने क्रोएशिया के खिलाफ उम्मीद से बेहतर शुरुआत की और पहले मिनट से ही आक्रामक रूख अपनाया। क्रोएशिया ने भी मेजबान टीम को करारा जवाब दिया। छठे मिनट में क्रोएिशया ने काउंटर अटैक करके कॉर्नर अर्जित किया, हालांकि वे शुरुआती बढ़त बनाने में कामयाब नहीं हो पाए।

रूस के मिडफील्डर डेनिस चेरीशेव ने 31वें मिनट में बॉक्स के बाहर 25 गज के दूरी से दमदार गोल दागकर अपनी टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। इसके आठ मिनट बाद, स्ट्राइकर मारियो मांजुकिक ने बाईं छोर से बॉक्स में एंद्रेज करामारिक को क्रॉस दिया जिन्होंने हेडर से गोल करके अपनी टीम को बराबरी दिला दी।

दूसरे हाफ में भी दोनों टीमों के बीच कड़ी टक्कर देखने को मिली। गोल करने का पहला साफ मौका क्रोएशिया के मिडफील्डर इवान पेरीसिक को 60वें मिनट में अपनी को बढ़त दिलाने का मौका मिला। पेरीसिक ने छह गज की दूरी से शॉट लगाया लकिन गेंद गोल पोस्ट से लगकर बाहर चली गई।

रूस ने भी गोल करने के मौके बनाए और क्रोएशिया के बॉक्स के पास लगातार हलचल मचाई। हालांकि, वे गेंद को गोल में नहीं डाल पाए और मैच अतिरिक्त समय में गया। अतिरिक्त समय में डोमागोज विदा (101 मिनट) ने क्रोएशिया को 2-1 की महत्वपूर्ण बढ़त दिला दी।

रूस ने मैच का दूसरा गोल खाने के बाद भी अपना संयम नहीं खोया। 115वें मिनट में मारियो फनार्डेज ने मेजबान टीम के लिए बराबरी का गोल दागा और मैच का पेनाल्टी शूटआउट तक गया जहां क्रोएशिया ने बाजी मारी।

पेनाल्टी शूटआउट में क्रोएशिया के लिए मासेर्लो ब्राजोविक, लुका मोड्रिक, विदा और इवान रेकेटिक ने गोल किए जबकि रियल मेड्रिड से खेलने वाले मटिओ कोवाचिक गेंद को गोल में नहीं डाल पाए। रूस के लिए एलन ड्झागोव, सर्गेई इग्नाशेविक और डालेर कुज्येव ने गोल दागे जबकि एलेक्जेंडर सोमेडोव और फर्नाडेज गोल करने से चूक गए।

खेल-कूद

2011 वर्ल्ड कप के हीरो गौतम गंभीर का क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास!

Published

on

मंगलवार को पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से संन्यास ले लिया। उन्होंने ट्वीट कर इसका ऐलान किया। गंभीर ने लिखा, ‘जिंदगी में कड़े फैसले हमेशा भारी मन से लिए जाते हैं। भारी मन से मैं वह फैसला ले रहा हूं, जिसको लेने के ख्याल मात्र से ही मैं जिंदगीभर डरता रहा।’

गंभीर ने अपना आखिरी टेस्ट 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ राजकोट में खेला था। उन्होंने अंतरराष्ट्रीय करियर में 58 टेस्ट मैचों में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया और 41.95 की औसत से 4154 रन बनाए, जिसमें नौ शतक शामिल हैं।

गंभीर ने कहा, ‘अपने देश के लिए15 साल से भी अधिक समय तक क्रिकेट खेलने के बाद मैं इस खूबसूरत खेल से अलविदा कहना चाहता हूं।’

आईपीएल में भी उन्होंने कोलकाता नाइट राइडर्स को 2012 और 2014 में कप्तान के तौर पर चैम्पियन बनाने में अहम भूमिका निभाई। साथ में दिल्ली डेयरडेविल्स की कप्तानी भी कर चुके हैं।


उन्होंने कहा, ‘आंध्र प्रदेश के साथ होने वाला रणजी ट्रॉफी मुकाबला मेरे करियर का अंतिम मैच होगा। मेरे करियर का अंत वहीं होने जा रहा है, जहां (कोटला स्टेडियम) से मैंने शुरुआत की थी। एक बल्लेबाज के तौर पर मैंने टाइमिंग का सम्मान किया है। मेरे लिए यह संन्यास लेने का सही समय है और मुझे लगता है कि यह मेरे शॉट्स की तरह ही स्वीट है।’

उन्होंने टीम इंडिया, केकेआर, दिल्ली डेयरडेविल्स और दिल्ली की राज्य टीम के उन सभी कोचेस और साथी खिलाड़ियों का धन्यवाद दिया जिनके साथ काम किया। उन्होंने परिवार के सदस्यों, माता-पिता, पत्नी, बच्चे, मामा-मामी, नानी, बहन और दोस्तों को भी धन्यवाद कहा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending