Connect with us

प्रादेशिक

‘गोवा पंचायत चुनाव परिणाम पर घरवापसी, नन दुष्कर्म का असर’

Published

on

पणजी,गोवा,भाजपा,जीवीपी,दुष्कर्म,एनसीपी,उपमुख्यमंत्री-फ्रांसिस-डिसूजा,महाराष्ट्रवादी

पणजी | गोवा में सत्तारूढ़ गठबंधन मे साझेदार एक पार्टी ने दावा किया है कि गोवा जिला पंचायत चुनाव में भाजपा नेतृत्व वाले सत्ताधारी गठबंधन का उम्मीद से कम प्रदर्शन के पीछे घरवापसी, मदर टेरेसा की छवि को ठेस पहुंचाना, देश में अल्पसंख्यक संस्थानों पर हमले और पश्चिम बंगाल में बुजुर्ग नन के साथ सामूहिक दुष्कर्म जैसी घटनाएं रही हैं। गोवा जिला पंचायत चुनाव में भाजपा की सहयोगी दो पार्टियों में से एक, गोवा विकास पार्टी (जीवीपी) के संयोजक मिक्की पचेको ने किसी का नाम लिए बगैर कहा कि कुछ धार्मिक नेताओं ने भाजपा के खिलाफ प्रचार किया, जिससे दक्षिण गोवा जिला पंचायत में गठबंधन मुश्किल से ही जीत दर्ज पाया है, जबकि उत्तरी गोवा में यह सत्ता से एक सीट दूर रह गया है।

कैथोलिक बहुल क्षेत्र दक्षिण गोवा में सिर्फ दो सीटों पर जीत दर्ज कराने के बाद पचेको ने शुक्रवार को आईएएनस से कहा, “ये मुद्दे छाए रहे। चुनाव के दौरान घर वापसी, नन के साथ सामूहिक दुष्कर्म, मदर टेरेसा की छवि को नुकसान पहुंचाने और अन्य घटनाओं ने मतदाताओं के मस्तिष्क पर छाप छोड़ी और विपक्ष ने इसका जमकर लाभ उठाया।” राज्य की आबादी का 26 प्रतिशत हिस्सा कैथोलिक समुदाय का है। गोवा मंत्रिमंडल में अभिलेखागार एवं पुरात्तव मंत्री पचेको ने कहा कि कुछ धार्मिक नेताओं ने देश के कई हिस्सों में अल्पसंख्यक समुदायों पर हो रहे अत्याचारों पर पार्टी के मौन रहने का हवाला देते हुए भाजपा के खिलाफ मतदान करने के लिए फरमान भी जारी किया था।

पचेको ने कहा, “मैं इस मुद्दे पर भाजपा के साथ चर्चा करने जा रहा हूं। लेकिन हम यकीनन गठबंधन जारी रखेंगे। क्योंकि गोवा के लिए जीवीके के पास विकास का एक एजेंडा है।” गोवा के 50 से अधिक निर्वाचन क्षेत्रों में समान रूप से फैले दोनों जिला पंचायतों में से दक्षिणी गोवा जिला पंचायत में भाजपा और इसके गठबंधन साझेदार (महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी और जीवीपी) 25 सीटों में से बमुश्किल 13 सीटों पर जीत दर्ज कर पाए हैं। भाजपा का गढ़ समझे जाने वाले उत्तरी गोवा में सत्तारूढ़ गठबंधन 25 में से केवल 12 सीटों पर जीत दर्ज करा पाया। उत्तरी गोवा जिला पंचायत में सत्ता पाने के लिए भाजपा गठबंधन को अब कम से कम एक निर्दलीय उम्मीदवार के समर्थन की जरूरत होगी।

पिछले महीने राज्य की भाजपा नेतृत्व वाली सरकार ने पंचायत चुनाव पार्टी की तर्ज पर कराने का फैसला किया, जिसके बाद कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) ने चुनाव का बहिष्कार कर दिया था। भाजपा के लचर प्रदर्शन की वजह से पार्टी के भीतर मतभेद बढ़ गए हैं। गोवा के उपमुख्यमंत्री फ्रांसिस डिसूजा ने शुक्रवार को स्पष्ट जीत हासिल नहीं कर पाने के लिए पार्टी नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया था।

करियर

आठवीं पास छात्रों के लिए बड़ी खबर… इन पदों पर बम्पर भर्ती, जल्द करें आवेदन

Published

on

पश्चिम बंगाल स्वास्थ्य भर्ती बोर्ड (डब्ल्यूबीएचआरबी) में कई भर्तियां निकली हैं। ये भर्तियां ड्राइवर के पदों को भरने के लिए की जा रही हैं। इच्छुक उम्मीदवार भर्ती के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इन पदों के लिए आवेदन प्रक्रिया 20 फरवरी, 2020 से शुरू हो चुकी है। इन पदों पर आवेदन सिर्फ ऑनलाइन ही किया जा सकता है।

ड्राइवर – 300 पद
आवेदन करने की प्रारंभिक तिथि – 20 फरवरी, 2020
आवेदन करने की अंतिम तिथि – 04 मार्च, 2020
आयु सीमा सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए – 40 वर्ष
अनुसूचित जाति / जनजाति (एससी / एसटी) वर्ग के उम्मीदवारों के लिए – 45 वर्ष
अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के उम्मीदवारों के लिए – 43 वर्ष

उम्मीदवार आठवीं कक्षा में उत्तीर्ण, वैध ड्राइविंग लाइसेंस और कम-से-कम पांच वर्ष का ड्राइविंग अनुभव होना जरूरी है।

इच्छुक उम्मीदवार डब्ल्यूबीएचआरबी की आधिकारिक वेबसाइट wbhrb.in के जरिए आवेदन कर सकते हैं।

उम्मीदवार को आवेदन के लिए 160 रुपए का भुगतान करना होगा। चेक, बैंक ड्राफ्ट, मनीऑर्डर और कैश के द्वारा आवेदन शुल्क स्वीकार नहीं किया जाएगा।

इन पदों पर योग्य उम्मीदवारों का चयन ड्राइविंग योग्यता और इंटरव्यू में प्राप्त अंकों के आधार पर किया जाएगा।

आवेदन ज्यादा आने पर उम्मीदवारों को शॉर्टलिस्ट करने के लिए प्रारंभिक लिखित परीक्षा का आयोजन भी किया जा सकता है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending