Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

अमेरिकी राष्ट्रपति की आव्रजन नीति के विरोध में 575 महिलाओं संग भारतवंशी अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल गिरफ्तार

Published

on

भारतीय मूल की अमेरिकी सांसद प्रमिला जयपाल को 575 महिलाओं के साथ अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आव्रजन नीति के विरोध में गिरफ्तार किया गया।

‘द सिएटल टाइम्स’ के मुताबिक, प्रमिला जयपाल ने कहा कि उन्हें हार्ट सीनेट ऑफिस की इमारत के बाहर भीड़ को संबोधित करने के लिए बुलाया गया था। जयपाल ने कहा, “मैंने फैसला किया कि मुझे भी उनके साथ विरोध में बैठना चाहिए और गिरफ्तारी देनी चाहिए।”

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की आव्रजन नीति

ट्रंप प्रशासन ने अप्रैल में जीरो टोलरेंस नीति शुरू की थी, जिसके तहत मेक्सिको सीमा से अमेरिका में अवैध रूप से प्रवेश कर रहे बच्चों को उनके मां-बाप से अलग कर दिया जाता है।

प्रमिला जयपाल ने कहा, “हमने नारेबाजी की और इन परिवारों को मिलाने की जरूरत पर बात की और राष्ट्रपति की जीरो टोलरेंस नीति को खत्म करने के लिए आवाज उठाई।” जयपाल पर भीड़ इकट्ठा करने और बाधा पहुंचाने के लिए 50 डॉलर का जुर्माना लगाया गया है।

अमेरिकी कैपिटल पुलिस की प्रवक्ता इवा मालेकी ने कहा कि महिलाओं को गिरफ्तार किया गया है, उन पर अनैतिक रूप से प्रदर्शन करने का आरोप लगा है। यह जयपाल की तीसरी गिरफ्तारी है। इससे पहले वह दो बार भी गिरफ्तार हो चुकी हैं।

आव्रजन से जुड़े अधिकारों को लेकर लंबे समय से पैरवी कर रही जयपाल ने कहा कि वह ट्रंप की जीरो टोलरेंस नीति का शिकार हो रहे बच्चों से मुंह नहीं मोड़ सकती।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि हर अमेरिकी, रिपब्लिकन और डेमोक्रेट को सोचना चाहिए कैसा लगता होगा जब छह महीने के बच्चे को उसकी मां से छीन लिया जाए।”

जयपाल ने शनिवार को एक और विरोध प्रदर्शन ‘फैमिलीज बिलोंग टुगेदर’ का आयोजन किाय है, जिसका आयोजन वाशिंगटन और देश के अन्य शहरों में होगा। (इनपुट आईएएनएस)

अन्तर्राष्ट्रीय

तुर्की में आए भूकंप से 18 लोगों की मौत, 200 से ज्यादा घायल

Published

on

नई दिल्ली। तुर्की में शुक्रवार को आए जबरदस्त भूकंप की वजह से 18 लोगों की जान चली गई जबकि 200 से ज्यादा लोग घायल हो गए। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रता 6.7 मापी गई है।

भूकंप के झटके इतने तेज थे कि देखते ही देखते 10 इमारतें जमींदोज हो गए। यह भूकंप इतना तीव्र था कि इसके झटके पड़ोसी मुल्कों इराक, सीरिया और लेबनान में भी महसूस किए गए।

जानकारी के अनुसार भूकंप की वजह से ज्यादा प्रभावित पूर्वी इलाजिग प्रांत हुआ है। भूकंप की वजह से करीब 200 से अधिक लोग जख्मी हो गए हैं। प्रभावित इलाकों में राहत बचाव अभियान चलाया जा रहा है।

घायलों को नजदीकी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। तुर्की में भूकंप के झटकों से मकान हिल गए। इस भूकंप के बाद वजह से कई इमारतों में आग भी लग गई। भूकंप की वजह से पूरे इलाके में हड़कंप की स्थिति बनी हुई है।

तुर्की में आई इस भीषण तबाही में बड़ी-बड़ी इमारतें मिट्टी में मिल गईं। इन बिल्डिंगों के मलबे में भी कई लोगों के दबे होने की आशंका जताई जा रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending