Connect with us

Agri-Business

इस वर्ष खरीफ फसलों का रकबा 115.90 लाख हेक्टेयर, बढ़ने की उम्मीद

Published

on

देश में वर्ष 2018—19 खरीफ फसलों का रकबा करीब 115.90 लाख हेक्टेयर है। इस बार पिछले साल की तुलना में इसी वक्त बुवाई करीब 10 फीसद कम है। राज्यों से प्राप्त रिपोर्टों के मुताबिक 22 जून, 2018 तक 115.90 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में खरीफ फसलों की बुवाई की गई है, जबकि पिछले वर्ष इसी समय 128.35 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में बुवाई की गई थी।

जानकारी अनुसार, 10.67 लाख हेक्टेयर में धान की बुवाई/रोपाई हुई है, जबकि 5.91 लाख हेक्टेयर में दलहन, 16.69 लाख हेक्टेयर में मोटे अनाज, 50.01 लाख हेक्टेयर में गन्‍ने और 20.68 लाख हेक्टेयर में कपास की बुवाई हुई है।

अब तक हुई बुवाई और पिछले साल इसी समय के दौरान हुई बुवाई का ब्यौरा नीचे दिया गया है:-

चावल का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 10.67 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 11.17 था। दलहन का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 5.91 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 7.82 था। चावल और दलहन का बुवाई रकबा इस वर्ष की तुलना में पिछले वर्ष अधिक था।

मोटे अनाज का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 16.69 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 18.34 था। तिलहन का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 5.03 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 9.93 था। गन्ना का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 50.01 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 49.48 था। जूट एवं मेस्ता का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 6.91 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 6.91 था। कपास का वर्ष 2018-19 में बुवाई रकबा 20.68 वहीं वर्ष 2017-18 में बुवाई रकबा 24.70 था।

इस हिसाब से वर्ष 2018-19 में कुल बुवाई रकबा 115.90 हेक्टेयर है।

Agri-Business

लोकसभा चुनाव 2019: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का किसानों पर मास्टर स्ट्रोक, रवीश की भी बोलती बंद

Published

on

नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर सारी पार्टीयां तैयारियों में जुट गईं हैं। इन्हीं तैयारियों को मद्देनज़र रखते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने किसानों को लेकर एक दांव चला है। उनके इस दांव से किसानों को फायदा होता दिख रहा है और अगर किसानों को फायदा हुआ तो मोदी जी को भी आगामी चुनाव में लाभ हो सकता है।

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने एक बड़ा दांव चला है। जिस से सरकार ने किसानों के साथ मज़दूरों को भी लुभाने की कोशिश है। सरकार ने खरीफ की फसलों का समर्थन मूल्य बढ़ाने की घोषणा की है। जिनमें सबसे प्रमुख धान की फसल को बताया गया है। धान के समर्थन मूल्य में सरकार ने 200 रुपये प्रति क्विंटल का इजाफा किया है। इससे देश के बड़े हिस्से में खेती करने वाले किसानों को मुनाफा होगा।

आपको बता दें कि धान का मौजूदा मूल्य 1550 प्रति क्विंटल था। धान का बिक्री अब नए मूल्य के साथ यानी 1750 रूपए होगी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending