Connect with us

नेशनल

योग खूबसूरत है क्योंकि यह प्राचीन होने के साथ आधुनिक भी : मोदी

Published

on

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, योग खूबसूरत है क्योंकि यह प्राचीन होने के साथ-साथ आधुनिक भी है। योग दुनिया की सबसे बड़ी यूनिफाइंग फोर्सेज में से एक बन गया है। व्यक्ति,परिवार, समाज, देश, विश्व और संपूर्ण मानवता को जोड़ता है।

उत्तराखंड के मशहूर फॉरेस्ट रिसर्च इंस्टिट्यूट यानी एफआरआई में 55 हजार लोगों के साथ चौथे अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2018 के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि, दुनियाभर के योग प्रेमियों को चौथे अंतराष्ट्रीय योग दिवस की शुभकामनाएं देता हूं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, उत्तराखंड तो वैसे भी अनेक दशकों से योग का मुख्य केंद्र रहा है। यहां के ये पर्वत स्वत: ही योग और आयुर्वेद के लिए प्रेरित करते हैं। उन्होंने कहा कि विश्व ने योग को अपना लिया है और जिस तरह से अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस हर साल मनाया जाता है, इससे इसकी झलक मिलती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बताया, जब यूनाइटेड नेशन्‍स में योग के लिए प्रस्‍ताव रखा और ये यूनाइटेड नेशन्‍स का रिकॉर्ड है, ये पहला ऐसा प्रस्‍ताव था जिसको दुनिया के सर्वाधिक देशों ने कॉस्‍पान्‍सर किया। ये पहला ऐसा प्रस्‍ताव था जो यूनाइटेड नेशन्‍स के इतिहास में सबसे कम समय में स्‍वीकृति हुआ और ये योग आज विश्‍व का हर नागरिक, विश्‍व का हर देश योग को अपना मानने लगा है और अब हिन्‍दुस्‍तान के लोगों के लिए एक बहुत बड़ा संदेश है कि हम उस महान विरासत के धनी है, हम उन महान परम्‍परा की विरासत को संजोय हुए है।

मोदी ने कहा, “वास्तव में योग दिवस स्वस्थ और बेहतर जीवन के लिए सबसे बड़े सामूहिक अभियानों में से एक बन गया है।”

उन्होंने कहा, “इसमें लगातार विकास हो रहा है। इसमें हमारे अतीत, मौजदूा और भविष्य की उम्मीद है। हम आज जिन समस्याओं का सामना कर रहे हैं, उसका बेहतर समाधान योग है।’

आज के बदल रहे समय में योग मनुष्य के शरीर, मस्तिष्क और आत्मा को एकसाथ बांध देता है और शांति देता है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि, योग ने दुनिया को illness से wellness का रास्ता दिखाया है। यही वजह है कि दुनिया भर में योग की स्वीकार्यता इतनी तेजी से बढ़ रही है।

कॉवेन्ट्री यूनिवर्सिटी और रैडबाउड यूनिवर्सिटी के अध्ययन में भी सामने आया है कि योग सिर्फ शरीर को आराम ही नहीं देता बल्कि ये हमारे DNA में होने वाले उन मॉलिक्यूलर रिएक्शन (Molecular Reactions) को भी उलट सकता है जो हमें बीमार करते हैं और डिप्रेशन को जन्म देते हैं।
यदि हम आसन और प्राणायाम का नियमित अभ्यास करते हैं तो हम अच्छे स्वास्थ्य के साथ-साथ अनेक रोगों से अपना बचाव भी कर सकते हैं। नियमित योग का सीधा प्रभाव किसी भी परिवार के मेडिकल खर्चों पर पड़ता है।

मोदी ने कहा, “शांत और रचनात्मक जीव जीवन की कुंजी ही योग है। यह तनाव और मानसिक बैचेनी को हरा देता है। योग बांटने के बजाए लोगों को जोड़ता है।” प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि योग मानवता के लिए सबसे बेशकीमती उपहारों में से एक है। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस दुनियाभर में मनाया जा रहा है। देहरादून से लेकर डबलिन, जकार्ता से लेकर जोहान्सबर्ग तक पूरी दुनिया में आज योग दिवस मनाया जा रहा है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने देहरादून को योग दिवस पर मुख्य आयोजन स्थल के तौर पर चुनने के लिए प्रधानमंत्री मोदी का आभार जताते हुए कहा कि इस कदम से राज्य में पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा। (इनपुट आईएएनएस)

नेशनल

सियाचिन में हिमस्खलन से 4 जवान शहीद

Published

on

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे ऊंचे युद्धक्षेत्र सियाचिन ग्लेशियर में भारतीय सेना के एक प्रेट्रोलिंग टीम के तूफान में फंसने के कारण 4 जवान शहीद हो गए हैं। सियाचिन ग्लेशियर से यह दिल दहलाने वाली घटना से सेना के परिवार समेत देश में सभी आहत है।

ये सभी जवान बर्फीले तूफान में फंस गए उस समय जब 8 सदस्यीय टीम प्रेट्रोलिंग कर रही थी। यह घटना आज तड़के 3.30 बजे की है। इसके अलावा इस बर्फीली तूफान ने 2 नागरिकों की भी मौत हो गई है।

18,000 फीट की ऊंचाई पर स्थित सियाचीन ग्लेशियर में भारतीय जवान अपनी जान की परवाह किए बिना दिन-रात तैनात रहते हैं। इस क्षेत्र में हिमस्खलन की घटना होती रहती है।

एक बर्फीले तूफान की चपेट में आने के बाद रेस्क्यू टीम तुरंत हरकत में आई। सभी जवानों को आनन-फानन में अस्पताल ले जाया गया। जहां 4 जवानों ने इलाज के दौरान ही दम तोड़ दिया। अन्य 7 लोगों को बचाने के लिये डॉक्टर्स की टीम लगातार गहन चिकित्सा कर रही है। लेकिन सभी का हालात गंभीर बताई जा रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending