Connect with us

Agri-Business

इस पेड़ को लगाकर बन सकते हैं करोड़पति, 1 किलो लकड़ी की कीमत जानकर उड़ जाएंगे होश

Published

on

भारत एक कृषि प्रधान देश है। यहां की अधिकांश आबादी मुख्यतः कृषि पर आधारित है। आज हमारे देश में किसानों की क्या स्थिति है यह किसी से छिपी नहीं है। हमारा अन्नदाता किसान आज मुफलिसी में जीने को मजबूर है। अगर किसानों को सही दिशा निर्देश और खेती के सही प्रारूप ठीक से बताया जाए तो वह भी बहुत जल्द करोड़पति बन जाएंगे।

हमारे देश के ज्यादातर किसान मौसमी सब्जियों, फलों और अनाजों की खेती करते हैं। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे पेड़ के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी खेती सबसे ज्यादा रिटर्न दे सकती है।

आमतौर पर किसान अपने बगीचों या खेतों के किनारे फलों के पेड़ लगाते हैं, ताकि सीजन आने पर उन्हें बेचकर मुनाफा कमाया जा सके। इन सबके बीच अगर चंदन का पेड़ लगा लिया जाए तो ये आपको ये सालों तक मुनाफा देता रहेगा।

अभी कुछ समय पहले गुजरात के भरूच में एक किसान ने 10 लाख रुपए लगाकर चंदन की खेती शुरू की थी। 15-20 सालों में जब ये पेड़ बड़े हो गए तो उसे भारी मुनाफा हुआ। उस किसान ने 15 करोड़ रुपए की कमाई की। सीधी भाषा में समझाएं तो 1 लाख रुपए लगाने पर 1.5 करोड़ का मुनाफा मिला। 15-20 साल तक अगर आप किसी भी स्कीम में इतना पैसा लगाएंगे तो आपको कभी भी इतना मुनाफा नहीं हो सकता।

दरअसल, चंदन की लकड़ी 6 से 7 हजार रुपए प्रति किलो की दर से बिकती है, क्वालिटी अच्छी वाली लकड़ी 10 हजार रुपए किलो तक दाम मिल आसानी से मिल जाते हैं।

आज हम आपको बताएंगे कि चंदन की खेती कैसे करें और इसके लिए आपको क्या-क्या चाहिए। सबसे पहले आपको चाहिए चंदन के बीच या फिर छोटा सा पौधा। आपको लाल चंदन के एक किलो बीज 2000 रुपए में मिल जाएंगे। आप चाहें तो नर्सरी से पौधे भी खरीद सकते हैं।

चंदन के पेड़ लाल मिट्टी में अच्छी तरह से उगता है। इसके अलावा चट्टानी मिट्टी, पथरीली मिट्टी या चूनेदार मिट्टी में भी ये पेड़ उग जाता है। हालांकि गीली मिट्टी और ज्यादा मिनरल्स वाली मिट्टी में ये पेड़ तेजी से नहीं उग पाता।

चंदन की बुवाई के लिए अप्रैल और मई का महीना सबसे अच्छा होता है। सबसे पहले अच्छी और गहरी जुताई करनी जरूरी है। अगर आपके पास काफी जगह है तो एक खेत में 30 से 40 सेमी की दूरी पर चंदन के बीजों को बो दें।

मानसून के पेड़ में ये पौधे तेजी से बढ़ते हैं, हालांकि गर्मियों में इन्हें सिंचाई की जरूरत है। चंदन के पेड़ को 5 से 50 डिग्री सेल्सियस टेम्प्रेचर वाले इलाके में लगाना सही माना जाता है। इसके लिए 7 से 8.5 पीएच वाली मिट्टी परफेक्ट होती है। एक एकड़ में औसत 400 पेड़ लगाए जा सकते हैं।

चंदन लगाने के बाद 5वें साल से लकड़ी रसदार बनना शुरू हो जाती है। 12 से 15 साल के बीच यह बिकने के लिए तैयार हो जाता है। चंदन के पेड़ की जड़ से सुगंधित प्रोडक्ट्स बनते हैं।

चंदन का पेड़ को काटने के बजाए जड़ से ही उखाड़ा जाता है। उखाड़ने के बाद इसे टुकड़ों में काटा जाता है। एवरेज कंडीशन में एक चंदन के पेड़ से करीब 40 किलो तक अच्छी लकड़ी निकल जाती है।

 

 

Agri-Business

Budget : मोदी सरकार किसानों के खाते में हर साल जमा करेगी 6000 रुपए, गो सेवा का भी मिलेगा पैसा

Published

on

वित्त मंत्री पीयूष गोयल सरकार के वर्तमान कार्यकाल का आखिरी बजट पेश कर रहे हैं। यह एक अंतरिम बजट है। बजट में पीयूष गोयल ने कई अहम घोषणाएं की हैं। इन योजनाओं में किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी भी सुनने को मिली।

बजट पेश करने के दौरान वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने  कहा, ” प्रधानमंत्री किसान योजना के तहत छोटे किसान जिनके पास 2 हेक्टेयर जमीन है, उनके बैंक खाते में सीधे 6000 रुपए सालाना देने का निर्णय किया है।” 

उन्होंने आगे कहा कि ये राशि 3 किश्तों में 2,000 रुपए कर के किसानों के बैंक खाते में सीधे डाली जाएंगी। इस सुविधा से 12 करोड़ किसानों को इसका सीधा लाभ मिलेगा। पहली किश्त बहुत जल्द भेजी जाएगी। ये योजना एक दिसंबर 2018 से लागू हो गई है। 

पीयूष गोयल ने कहा  कि गायों के लिए ‘राष्ट्रीय कामधेनु योजना’ को मंजूरी, छोटे किसानों को 500 रुपए दिए जाएंगे। गौ माता के लिए सरकार कभी पीछे नहीं हटेगी, जो जरूरत होगी वो प्रावधान करेगी। 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending