Connect with us

नेशनल

मोदी सरकार की ये परियोजनाएं बदल देंगी भारत की तस्वीर, पड़ चुकी है न्यू इण्डिया की नींव

Published

on

लोकसभा 2019 का चुनाव काफी नजदीक है ऐसे में केंद्र की मोदी सरकार कुछ ऐसी बड़ी परियोजनाओं पर कार्य कर रही है जिसके पूरा होने पर भारत की फोटो पूरी तरह बदल जाएगी। यह सभी परियोजनाएं मोदी सरकार की महत्वकांक्षी परियोजनाओं में से एक है। न्यू इंडिया का नारा देने वाली मोदी सरकार इन परियोजनाओं को लेकर काफी गंभीर है। मोदी सरकार जल्द से जल्द इन परियोजनाओं को पूरा करना चाहती है ताकि आगामी लोकसभा 2019 में इसे चुनावी फायदे के लिए पूरी तरह भुनाया जा सके। आइए पूरी तफ़शील से जानते हैं उन परियोजनाओं को जो 2019 लोकसभा चुनावों में मोदी सरकार के भाग्य का फैसला करेंगी।

भारतमाला परियोजना – एक राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना हैं। इसके तहत नए राजमार्ग के अलावा उन परियोजनाओं को भी पूरा किया जाएगा तो अब तक अधूरे हैं। इसमें सीमा और अंतर्राष्‍ट्रीय संयोजकता वाले विकास परियोजना को शामिल किया गया है। बंदरगाहों और सड़क, राष्ट्रीय गलियारों (नेशनल कॉरिडोर्स) को ज्यादा बेहतर बनाना और राष्ट्रीय गलियारों को विकसित करना भी इस परियोजना में शामिल है। इसके अलावा पिछडे इलाकों, धार्मिक और पर्यटक स्थल को जोड़ने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग बनाए जाएंगे। चार धाम केदारनाथ, बद्रीनाथ, यमुनोत्री और गंगोत्री के बीच संयोजकता बेहतर की जाएगी।

चार धाम एक्सप्रेसवे – यह परियोजना दो लेन सड़क निर्माण की है जो की काम से काम 10 मीटर तक मोटी होगी इस परियोजना में उत्तराखंड में सभी चार धाम को आपस में जोड़ा जाये गए। जिसके कारन बद्रीनाथ केदारनाथ गंगोत्री और यमनोत्री जाने वाले सैलानियों को काफी आसानी होगी। ये परियोजना लगभग 900 KM तक की सड़क होगी।

इनलैंड जल मार्ग – मोदी सरकार ने गंगा महानदी ब्रमपुत्र नदी में 5000 करोड़ से खर्च कर नदियों में व्यपारिक रास्ता बनाने की है ताकि कई बड़े शहरो को जल रास्ते के द्वारा जोड़े जाने की है। इस परियोजना में बहुत सरे पोर्ट भी निर्माण कराया जायेगा।

गुजरात गोरखपुर गैस पाइप परियोजना – ये परियोजना में गुजरात के कांडला कॉस्ट से लगभग 1989 KM तक कि गैस पाइप लाइन को गोरखपुर तक बिछाया जायेगा। जिसमे हर साल 4 मिलियन टन एलपीजी गैस को मूव किया जायेगा। ये पाइप अहमदाबाद उज्जैन भोपाल कानपूर वाराणसी और लखनऊ को भी आपस में जोड़ेगी।

सागरमाला परियोजना – भारत के बंदरगाहों के आधुनिकीकरण के लिए भारत सरकार की एक रणनीतिक और ग्राहक-उन्मुख पहल है। जिससे पोर्ट के नेतृत्व वाले विकास को बढ़ाया जा सके और भारत के विकास में योगदान करने के लिए तट रेखाएं विकसित की जा सकें।

नेशनल

बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने राम मंदिर को लेकर दिया बड़ा बयान

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने दावा किया कि अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाने का निर्माण कार्य नवंबर महीने के बाद शुरू हो जाएगा। उन्होंने यह भी कहा कि सुप्रीम कोर्ट में चल रहे राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद का निर्णय राम मंदिर के पक्ष में आएगा।

स्वामी अयोध्या में दो दिवसीय दौरे पर हैं। उन्होंने बताया कि पूजा करने का अधिकार मूलभूत अधिकारों में से एक है और इसे छीना नहीं जा सकता।

इससे पहले सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सहयोगी पार्टी शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण में तेजी लाने के लिए कार्रवाई करने की बात कही थी। स्वामी की यह टिप्पणी उस बयान के कुछ दिनों के बाद आई है।

शिवसेना प्रमुख ने कहा था कि अनुच्छेद 370 को रद्द करने और जम्मू एवं कश्मीर से विशेष राज्य का दर्जा वापस लेने के बाद मोदी सरकार ने दिखा दिया है कि यह फैसला लेने वाली सरकार है।

उन्होंने कहा था कि अब जब अनुच्छेद 370 को हटा दिया गया है, समय आ गया है कि राम मंदिर का निर्माण हो और एक समान नागरिक संहिता पूरे देश में लागू की जाए।

ठाकरे ने कहा था, “हमने चुनाव से पहले कहा था कि कश्मीर का मुद्दा सुलझाएंगे। विपक्ष कह रहा था कि हम अनुच्छेद 370 को खत्म नहीं कर पाएंगे और आज मुझे मोदी जी पर गर्व है।”

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending