Connect with us

नेशनल

अभी अभी: ईद के अवसर पर लहराए पाकिस्तानी झंडे, एक जवान शहीद

Published

on

कश्मीर में कई दिनों से लगातार जारी हिंसा थमने का नाम नहीं ले रही है। आज ईद के अवसर पर भी कश्मीर में भारी तनाव का माहौल रहा। ईद के दौरान कश्मीर में पाकिस्तानी झंडे तक लहराए गए। पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा और ईद के इस पाक अवसर पर भी अपने नापाक मंसूबो के चलते सीजफायर का उल्लंघन किया।

कश्मीर में जारी इस घटना के बाद एक लड़के की जान चली गई वहीं एक लड़की गंभीर रूप से घायल हो गई है। वहीं आज सुबह पाकिस्तान की तरफ से नियंत्रण रेखा के पास हुई फायरिंग में भारतीय सैनिक बिकास गुरंग शहीद हो गया है। इससे पहले गुरुवार को सीआरपीएफ के काफिले की एक बस पर उपद्रवियों द्वारा पथराव का एक विडियो सामने आया था। वहीं हाल ही में भारतीय सैनिक औरंगजेब को भी आतंकियों ने किडनैप कर मार डाला।

हालांकि रमजान और ईद को देखते हुए जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने राजनाथ सिंह के साथ बैठक कर सर्च ऑपरेशन और बाकी कार्यवाहियों पर रोक लगवाई थी। लेकिन आतंकियों को वो भी रास नहीं आया और लगातार हमले होते रहे है। ईद के दो दिन पहले ही कश्मीर के मशहूर पत्रकार और द राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या कर दी गई।

नेशनल

विक्रम से संपर्क की उम्मीदें खत्म, इसरो ने देशवासियों के लिए कही ये बात

Published

on

नई दिल्ली। चंद्रमा पर रात होने के बाद अब भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की विक्रम लैंडर से संपर्क करने उम्मीद खत्म हो चुकी है। मंगलवार को इसरो ने देशवासियों से मिले अपार समर्थन के लिए सभी का धन्यवाद कहा।

यह इसरो का दूसरा चंद्र मिशन था जो कि आंशिक रूप से सफल हो सका। इस मिशन को आंशिक रूप से सफल इसलिए कहा जा रहा है क्योंकि चांद की सतह से मजह 2.1 किमी की ऊंचाई से इसका संपर्क इसरो केंद्र से टूट गया था।

संपर्क टूटने के बाजजूद देशवासियों और खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसरो की हौसलाफजाई की थी। जिससे खुश होकर इसरो ने मंगलवार शाम को ट्वीट करते हुए सभी का धन्यवाद किया।

इसरो ने ट्वीट कर कहा, ‘हमारे साथ खड़े रहने के लिए आपका शुक्रिया। हम दुनियाभर में सभी भारतीयों की आशाओं और सपनों को पूरा करने की कोशिश करते रहेंगे। हमें प्रेरित करने के लिए शुक्रिया।’

इस मिशन को लेकर अच्छी खबर यह है कि ऑर्बिटर लगातार चंद्रमा के चक्कर काट रहा है और उसकी तस्वीरें भेज रहा है। इसरो के मुताबिक ऑर्बिटर 7 साल तक चांद का चक्कर इसी तरह काटने में सक्षम है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending