Connect with us

प्रादेशिक

राइजिंग कश्मीर के प्रधान संपादक शुजात बुखारी की हत्या

Published

on

श्रीनगर अंग्रेजी दैनिक ‘राइजिंग कश्मीर’ के प्रधान संपादक शुजात बुखारी की आतंकियों ने हत्या कर दी। शुजात बुखारी की हत्या पर दुख जताते हुए कई पत्रकार संगठनों ने इसकी निंदा की। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने उन्हें न्याय और शांति की लड़ाई लड़ने वाला बहादुर योद्धा बताया। श्रीनगर में शुजात बुखारी की अंत्येष्टि में शुक्रवार को भारी भीड़ जुटी।

राज्य पुलिस प्रमुख एस.पी. वैद्य ने कहा, “करीब 7:15 मिनट पर शुजात बुखारी प्रेस एन्क्लेव स्थित अपने कार्यालय से बाहर आए थे और जब वह अपनी कार में थे, आतंकवादियों ने उन पर हमला कर दिया।”

श्रीनगर अंग्रेजी दैनिक ‘राइजिंग कश्मीर’ के प्रधान संपादक शुजात बुखारी को अस्पताल ले जाते लोग

उन्होंने कहा, “तीन मोटरसाइकिल सवार आतंकवादी आए और शुजात बुखारी व उनके सुरक्षाकर्मियों पर गोली चला दी। शुजात बुखारी और एक सुरक्षाकर्मी का निधन हो गया और एक अन्य गार्ड गंभीर रूप से घायल हो गया।”

मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बुखारी की हत्या पर आश्चर्य जताया। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “शुजात बुखारी के अचानक हत्या से स्तब्ध और बहुत दुखी हूं। ईद की पूर्व संध्या पर आतंक ने अपना बदसूरत सिर उठाया है। मैं इस बिना दिमाग वाली हिंसा की कड़ी निदा करती हूं और उनके आत्मा की शांति के लिए दुआ करती हूं। मेरी गहरी संवेदना उनके परिवार के साथ है।”

पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी घटना पर गहरा दुख प्रकट किया है। उन्होंने कहा, “शुजात को जन्नत में जगह मिले और उनके चाहने वालों को संकट की इस घड़ी में ताकत मिले।”

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिह ने भी घटना पर शोक प्रकट किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा, “राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या एक डरपोक कार्य है। यह कश्मीरियों की आवाज दबाने का प्रयास है। वह एक साहसी और निडर पत्रकार थे। उनकी मौत की खबर सुनकर हैरान और दुखी हूं। मेरी संवेदना उनके परिजनों के साथ है।”

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट के जरिए कहा, “मैं राइजिंग कश्मीर के संपादक शुजात बुखारी की हत्या के बारे में सुनकर दुखी हूं।” उन्होंने कहा, “वह बहादुर व्यक्ति थे जिन्होंने जम्मू-कश्मीर में निर्भीकता से न्याय व शांति के लिए संघर्ष किया। मेरी शोक संवेदना उनके परिवार के साथ है। उनकी कमी खलेगी।”

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने संपादक शुजात बुखारी की हत्या पर गहरा दुख व्यक्त किया है। मुखर्जी ने ट्वीट किया, “मैं शुजात बुखारी की जघन्य हत्या पर स्तब्ध हूं। इस तरह की पागलपन वाली हिसा का हमारे देश में कोई स्थान नहीं है। मेरी संवेदना उनके परिजनों व दोस्तों के साथ है। उनकी आवाज कभी शांत नहीं होगी।”

जनाजे में उमड़ा हुजूम

शुजात बुखारी के जनाजे में शुक्रवार को भारी भीड़ उमड़ पड़ी। बुखारी को बारामूला स्थित पैतृक गांव खीरी में दफनाया गया। अंत्येष्टि के दौरान यहां की सारी दुकानें बंद रहीं। ईद से दो दिन पहले हुई इस घटना की देश भर में निंदा की गई।

स्थानीय निवासियों ने बताया कि पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला, राज्य के लोकनिर्माण मंत्री नईम अख्तर, वरिष्ठ कांग्रेस नेता सैफुद्दीन सोज, स्थानीय पत्रकारों और समाज के सभी वर्गों के लोगों ने जनाजे में शिरकत की। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती भी यहां मौजूद रहीं। (इनपुट आईएएनएस)

प्रादेशिक

यूपी स्टेट कुंग फू चैंपियनशिप में लखनऊ बना चैंपियन, जीते 82 पदक

Published

on

लखनऊ। उत्तर प्रदेश कुंगफू संघ के तत्वाधान में केडी सिंह बाबू स्टेडियम के बहुउद्देशीय हाल में 15 व 16 अक्टूबर 2019 को आयोजित हुई यूपी स्टेट कुंग फू चैंपियनशिप का भव्य समापन हुआ।

 

 

यूपी स्टेट कुंग फू चैंपियनशिप में कई जिलों से आए हुए कुंगफू खिलाड़ियों ने कई प्रतियोगिताओं में हिस्सा लिया। दो दिनों तक चली इस प्रतियोगिता के आखिरी दिन प्रतिभागियों को सम्मानित भी किया गया।

चैंपियनशिप में सबसे ज़्यादा 82 पदक हासिल कर लखनऊ जिला पहले स्थान पर रहा। वहीं झांसी 11 और जौनपुर जिला नौ पदकों को जीतकर दूसरे व तीसरे पायदान पर रहे।

यूपी स्टेट कुंग फू चैंपियनशिप में लखनऊ की टीम ने 40 स्वर्ण, 25 रजत और 17 कांस्य पदक जीते। वहीं झांसी ने 05 स्वर्ण, 03 रजत और 03 कांस्य पदक हासिल किए।

प्रतियोगिता में तीसरे स्थान पर रहने वाली जौनपुर की टीम ने 05 स्वर्ण, 02 रजत और 02 कांस्य पदक जीते। चैंपियनशिप में करीब 15 राज्यों के 160 महिला पुरुष कुंग फू खिलाड़ियों ने सब जूनियर- सीनियर कैटेगरी में हिस्सा लिया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending