Connect with us

नेशनल

आखिर क्या छुपाना चाहते थे अखिलेश जो बिगाड़ दी ख़ूबसूरत बंगले की सूरत..!

Published

on

यूपी गवर्नमेंट के पूर्व सीएम अखिलेश यादव के बंगले को लेकर उठा विवाद बढ़ता ही जा रहा है। एक तरफ जहां अखिलेश इस पूरे वाकये को साज़िश करार दे रहे हैं वहीं भाजपा के बड़े नेता इसके पीछे अखिलेश के एक ‘मकसद’ के तहत हुए तोड़फोड़ की तरफ इशारा कर रहे हैं।

हाल में ही तहस-नहस बंगले की फोटोज़ सोशल मीडिया पर वायरल हो गई हैं। आरोप लग रहे हैं कि क्या अखिलेश यादव ने सरकारी बंगले में अपनी विलासिता छुपाने के लिए ये तोड़फोड़ कराई। खुद योगी सरकार के मंत्री भी ये आरोप लगा रहे हैं।

सवाल ये है कि आखिर सरकारी बंगले में ऐसी कौन सी चीजें लगी थीं जिन्हें अखिलेश यादव बंगला खाली करते समय या तो अपने साथ ले गए या तहस-नहस करवा गए। बंगले में छत से लेकर फर्श तक उखड़ा पड़ा है। फर्श से टाइल्स उखड़ी हुई हैं, फ्लोर कारपेट को फर्श गायब है, स्विच समेत बिजली की वायरिंग तक निकाल ली गईं हैं। हर कमरे में तोड़फोड़ हुई। एसी से लेकर स्विच बोर्ड तक गायब है।

उत्तर प्रदेश के परिवहन मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने कहा, ‘ये लोग आलीशान जीवन जीते थे और अपना आवास इसी प्रकार बनाते थे। इन्होंने गरीबों के खून पसीने की कमाई को लूटकर अपने-अपने बंगले में 100 करोड़ रुपये लगाए हैं। आप राजनाथ सिंह का बंगला देखिये, कल्याण सिंह बंगला देखिये वहां ये सब नहीं लगा है। 100-100 एसी लगवाना, इटली का टाइल्स लगवाना, क्या मतलब है इसका?’

हालांकि समाजवादी पार्टी का कहना है कि ये अखिलेश यादव को बदनाम करने की साजिश है। ये तोड़फोड़ अखिलेश के बंगला खाली करने और उसकी चाबी अफसरों को सौंपने के बाद हुई है।

नेशनल

सीएबी पर पाकिस्तान की भाषा बोल रही कांग्रेस: मोदी

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कांग्रेस और कुछ विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा और कहा कि ये लोग नागरिकता (संशोधन) विधेयक, 2019(सीएबी) को लेकर पाकिस्तान की भाषा में बात कर रहे हैं। मोदी ने यह बयान संसद के पुस्तकालय भवन में भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) की संसदीय दल की बैठक में दिया।

बैठक के बाद दिल्ली भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने पत्रकारों से कहा, “लोग संसद में सीएबी पर कांग्रेस के रुख पर अलग-अलग राय दे रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने संसदीय दल की बैठक में इसे एक वाक्य में स्पष्ट कर दिया। उन्होंने कहा कि कुछ राजनीतिक पार्टियां पाकिस्तान की भाषा में बात कर रही हैं।”

उन्होंने कहा, “यहां तक कि पूर्णविराम और कामा भी समान है। हमें सीएबी विधेयक के बारे में भारत के लोगों को जानने देना चाहिए। प्रधानमंत्री का एक वाक्य का बयान यह साबित करने के लिए काफी है कि कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस की सोच क्या है।” इससे पहले कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने नागरिकता(संशोधन) विधेयक, 2019 को ‘नरेंद्र मोदी-अमित शाह सरकार द्वारा पूर्वोत्तर में जातीय सफाया करने का प्रयास बताया’ और कहा कि यह लोगों पर ‘आपराधिक हमला’ है।

राहुल ने ट्वीट किया, “सीएबी मोदी-शाह सरकार द्वारा पूर्वोत्तर में जातीय सफाये का प्रयास है। यह पूर्वोत्तर पर, वहा के लोगों के जीवन के तौर-तरीके पर और भारत के विचार पर एक आपराधिक हमला है। मैं पूर्वोत्तर के लोगों के साथ खड़ा हूं और उनकी सेवा में तत्पर हूं।” मोदी लोकसभा में इस विधेयक के पारित होने के दो दिन बाद यहां भाजपा संसदीय दल की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

सीएबी के तहत पाकिस्तान, अफगानिस्तान और बांग्लादेश से उत्पीड़न झेल कर यहां आए हिंदुओं, ईसाइयों, सिखों, पारसियों, जैनियों और बौद्धों को भारतीय नागरिकता दिए जाने का प्रावधान है। विपक्ष ने विधेयक को ‘असंवैधानिक’ बताकर इसका विरोध किया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending