Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

“मेरे लिए क्रिकेट ‘धर्म’ है, लेकिन भगवान ‘सचिन’ नहीं ‘डिविलियर्स’ है, पढ़िए और देखिए एक ‘बिहारी’ का ‘एन्टी नेशनलिस्ट’ क्रिकेट प्रेम

Published

on

मेरे लिए इस साल की जो सबसे दुःखद ख़बर है, वो अब क्रिकेट के मैदान पर डिविलियर्स का ना होना है। मैं क्रिकेट का वैसा ही प्रेमी हूं, जैसे चंदा चकोर का, लैला मजनू का, जैसे रहीम राम के और मीरा श्री कृष्ण की। लेकिन क्रिकेट को धर्म मानने वाले मेरे जैसे लोगों के लिए साल “2004” खुशियों की बारिश लेकर आया। क्योंकि इस साल क्रिकेट के मैदान पर डिविलियर्स नामक एक अवतार हुआ।

इस खिलाड़ी ने शुरुआत में विकेटकीपर बल्लेबाज के रूप में खेलना शुरू किया। लेकिन धीरे-धीरे ये इंसान गेंदबाजो के लिए एक ऐसी बीमारी बन गया, जिससे वो कभी निजात नही पा सके। जब ये बल्लेबाज अपना बल्ला लेकर मैदान पर आता, तो गेंदबाज समझ नही पाते, आखिर बॉल फेकें तो कहां फेकें? यॉर्कर हो या बाउंसर सारी गेंदे आसमान को चूमती हुई मैदान के बाहर जाती। अपनी टीम के लिए 114 टेस्ट, 228 एकदिवसीय , और 78 टी-ट्वेंटी खेलने वाले इस खिलाड़ी के पास ऐसे शॉट्स थे, जिसे क्रिकेट को बनाने वालों ने भी अपने सपने में नही सोचा होगा। इस खिलाड़ी के शॉट्स और इसकी बैटिंग देख मुझे आमिर खान की फ़िल्म का एक डायलॉग याद आता है, जिसमे वो कहते हैं,”आप पुरुष नही महापुरूष” हो। ऐसे महापुरुष सदियों में कभी एक बार होते हैं। टेस्ट और एकदिवसीय अंतर्राष्ट्रीय मैचो में तो इस बल्लेबाज का औसत 50 से ऊपर है।

18 जनवरी 2015, एबी डी विलियर्स ने एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे तेज़ शतक लगाने वाले खिलाड़ी बन गए थे। डीविलियर्स ने न्यूजीलैंड के कोरी एण्डरसन के कीर्तिमान को ध्वस्त किया था। वेस्ट इंडीज़ क्रिकेट टीम के खिलाफ़ अपना शतक मात्र 31 गेंद में पूरा किया एवं आउट होने से पूर्व 44 गेंद में 149 रन का विश्व कीर्तिमान बनाया।

अगर सचिन के जैसे इस बल्लेबाज की भी क्रिकेट में शुरुवात 16 साल के उम्र में हो जाती तो शायद सचिन के जगह आज क्रिकेट को धर्म मानने वाले लोग, सचिन को नही, डिविलियर्स को अपना भगवान मानते।

अन्तर्राष्ट्रीय

दक्षिण कोरिया में बढ़ने लगे कोरोना के मामले, लगातार तीसरे दिन आए इतने नए केस

Published

on

नई दिल्ली। दक्षिण कोरिया में कोरोना वायरस के 25 नए मामले सामने आए हैं। नए मरीजों के मिलने के बाद यहां कुल संक्रमित लोगों की संख्या 11 हजार 190 हो गई है। दर्ज किए गए, जिसके बाद से महामारी से संक्रमित हुए लोगों का कुल आंकड़ा बढ़कर 11 हजार 190 हो गया है।

एक न्यूज एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण कोरिया में लगातार तीसरे दिन 20 से ऊपर नए मामले सामने आए हैं। इसमें 8 मरीज विदेश से वापस लौटे हैं। वहीं इस बीमारी से मरने वालों की कुल संख्या 266 है, जिसमें कोई नई मृत्यु की पुष्टि नहीं की गई। बता दें कि दक्षिण कोरिया में कुल मृत्यु दर 2.38 प्रतिशत दर्ज की गई है।

उपचार के बाद पूर्ण रूप से स्वस्थ हुए 19 अन्य लोगों को क्वारंटाइन से डिस्चार्ज कर दिया गया, जिसके बाद से यह आंकड़ा बढ़कर 10 हजार 213 हो गया। कुल रिकवरी रेट 91.3 प्रतिशत है।

देश में महामारी के संक्रमण को लेकर 3 जनवरी के बाद से 8 लाख 20 हजार से अधिक लोगों की जांच की जा चुकी है। 7 लाख 88 हजार 766 लोग टेस्ट में नेगेटिव पाए गए हैं, जबकि 20 हजार 333 नमूनों की जांच की जा रही है।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending