Connect with us

नेशनल

गोवा को हेलीकॉप्टर विनिर्माण का हब बनाएगी एचएएल

Published

on

नई-दिल्ली,रक्षा-मंत्री,मनोहर-पर्रिकर,हेलीकॉप्टर,बेंगलुरू,एचएएल,जीएसएल,नौसेना

नई दिल्ली | रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने कहा कि गोवा को हेलीकॉप्टर विनिर्माण हब के रूप में स्थापित करने के उद्देश्य से बेंगलुरू स्थित हिंदुस्तान एरोनॉटिक्स लि. (एचएएल) कंपनी को राज्य में इसकी संभावना तलाशने के लिए कहा गया है। साउथ ब्लॉक में संवाददातओं से बातचीत में पर्रिकर ने सोमवार को कहा कि सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों से गोवा परियोजना के लिए एक अस्थाई कारोबारी योजना लाने को कहा गया है।

पर्रिकर ने कहा, “हमने देश में हेलीकॉप्टर के विनिर्माण में गोवा को दूसरा हब बनाने के लिए कंपनियों को यहां उसकी संभावना तलाशने के लिए कहा है।” पर्रिकर ने इस साल की शुरुआत में पणजी में आयोजित निवेश सम्मेलन के दौरान गोवा को देश का हेलीकॉप्टर विनिर्माण हब बनाने की मंशा पहली बार व्यक्त की थी। पर्रिकर ने पहले ही गोवा स्थित गोवा शिपयार्ड लि. (जीएसएल) कंपनी को 32,000 करोड़ रुपये की लागत से भारतीय नौसेना के लिए 12 सुरंग भेदी पोत के निर्माण का अनुबंध दिया है।

जीएसएल को प्राप्त यह अब तक का सबसे बड़ा रक्षा संबंधी अनुबंध है। पर्रिकर ने कहा, “जीएसएल 12 सुरंग भेदी पोत के निर्माण के लिए अग्रणी कंपनी होगी।” पर्रिकर का कहना है कि इस एकमात्र बड़े अनुबंध से गोवा की औद्योगिक विकास दर 10 प्रतिशत तक बढ़ जाएगी।

नेशनल

सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, पुलवामा में नाकाम की बड़े आतंकी हमले की साजिश

Published

on

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने गुरूवार को आतंकी हमले की साजिश को नाकामयाब कर दिया। गुरुवार को पुलवामा जिले में एक गाड़ी में IED को प्लांट किया गया था, जिसे सुरक्षाबलों ने ट्रैक किया और वक्त रहते ही इसे डिफ्यूज़ कर दिया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक गाड़ी में बड़ी मात्रा में IED था जिसे समय रहते डिफ्यूज़ कर एक बड़े हमले को टाल दिया गया। जिस गाड़ी में IED मिली थी, वो एक सफेद कलर की सैंट्रो कार थी।

इस गाड़ी में टू व्हीलर की नंबर प्लेट लगाई गई थी, जो कठुआ से ट्रैस की गई है। ऐसे में आतंकियों की ओर से पूरी कोशिश की जा रही थी कि सुरक्षाबलों को चकमा देकर इस आतंकी हमले को अंजाम दिया जाए।

इस गाड़ी को साउथ कश्मीर के पुलवामा जिले में रजपुरा रोड के पास पकड़ा गया। गाड़ी को पकड़ने के लिए जम्मू-कश्मीर पुलिस, CRPF समेत अन्य सुरक्षाबलों की ओर से संयुक्त ऑपरेशन चलाया गया।

जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह के मुताबिक, इस बारे में पिछले तीन-चार दिनों से इनपुट मिल रहा था। कुछ नाके पर सैंट्रो कार रुकी नहीं थी, जिसके बाद शक गहरा हुआ। इसके अलावा भी IED होने का इनपुट मिला था, जिसके बाद पूरी तरह से सतर्कता बढ़ा दी गई थी। अब इस मामले की जांच एनआईए करेगी, जल्द ही एनआईए की एक टीम इस इलाके का दौरा करेगी।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending