Connect with us

प्रादेशिक

मप्र में बिजली उपभोक्ताओं के लिए हेल्पलाइन

Published

on

भोपाल,मध्य-प्रदेश,हेल्पलाइन,मीटर-डिंग,विदिशा,रायसेन,सीहोर,होशंगाबाद,हरदा,राजगढ़,बैतूल

भोपाल | मध्य प्रदेश की मध्य क्षेत्र के विद्युत वितरण कंपनी ने उपभोक्ताओं की समस्याओं के निराकरण के लिए हेल्पलाइन नंबर शुरू किया है। इस हेल्पलाइन पर मार्च के शुरुआती 10 दिनों में 3800 शिकायतें आई हैं, जिनका निराकरण किया गया। कंपनी की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया है कि बिजली गुल हो जाने, मीटर खराब होने, बकाया पर कनेक्शन काटने या जोड़ने, मीटर रीडिंग, लोड कम-ज्यादा करने, वोल्टेज में उतार-चढ़ाव, ट्रांसफर्मर में चिंगारी और विद्युत दुर्घटना जैसी शिकायतें फोन नंबर ‘1912’ पर की जा सकती हैं। इसी प्रकार टोल फ्री नंबर 18002331912 पर भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

इस कंपनी के कार्य क्षेत्र के 16 जिले-भोपाल, विदिशा, रायसेन, सीहोर, होशंगाबाद, हरदा, राजगढ़, बैतूल, ग्वालियर, मुरैना, भिंड, शिवपुरी, गुना, अशोकनगर, दतिया एवं श्योपुर के बिजली उपभोक्ता इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं। कंपनी की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया है कि मार्च के पहले सात दिनों में हेल्पलाइन को कुल 3,040 शिकायत प्राप्त हुईं। इनमें से सारी शिकायतों का निपटारा कर दिया गया है। इतना ही नहीं पिछले तीन दिनों में कुल 754 शिकायत प्राप्त हुईं हैं। इन सभी का निराकरण समय सीमा में किया गया है। बिजली कंपनी द्वारा सूचना प्रौद्योगिकी और तकनीकी दृष्टि से काल सेंटर को विकसित किया गया है। औसतन प्रति घंटा 10 से 18 शिकायतें प्राप्त हो रही हैं, लेकिन सेंटर की क्षमता इससे कहीं अधिक शिकायतें सुनने की हैं।

प्रादेशिक

यूपी में दारोगा के 5 हजार पदों पर बंपर भर्तियां, इस दिन जारी होगा नोटिफिकेशन

Published

on

लखनऊ। सरकार नौकरी का सपना संजोए युवाओं के लिए खुशखबरी है। उत्तर प्रदेश में दारोगा के 5 हजार से अधिक पदों के लिए अगले महीने से भर्ती प्रक्रिया शुरू होने जा रही है।

दारोगा के इन पदों के लिए पुलिस भर्ती एवं प्रोन्नति बोर्ड सितंबर के अंत में विज्ञापन निकालेगा जबकि नवंबर के अंत में या दिसंबर की शुरुआत में लिखित परीक्षा कराए जाने की संभावा है वहीं फरवरी 2020 में दौड़ कराने पर विचार किया जाएगा।

भर्ती बोर्ड के अध्यक्ष राजकुमार विश्वकर्मा ने बताया कि भर्ती परीक्षा के लिए एजेंसी का चयन किया जा रहा है। टेंडर आमंत्रित किए गए हैं। एक माह में एजेंसी का चयन हो जाएगा।

आपको बता दें कि अनुसूचित जनजाति के अभ्यर्थियों के लिए पहली बार सोनभद्र में अलग से परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा। लिखित परीक्षा पास करने वाले आदिवासी अभ्यर्थियों की दौड़ भी यहीं कराई जाएगी, ताकि वे अधिक से अधिक संख्या में भर्ती में शामिल हो सकें।

पिछली भर्ती में अनुसूचित जनजाति से एक भी योग्य अभ्यर्थी नहीं मिला था। गौरतलब है कि सर्वाधिक आदिवासी इसी जिले में हैं।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending