Connect with us

प्रादेशिक

किसानों की आत्महत्या का सीजन शुरू : मध्य प्रदेश में कर्ज से परेशान होकर सात दिन में छह किसानों ने आत्महत्या की

Published

on

मध्य प्रदेश में बीते एक सप्ताह में छह किसानों ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। किसान नेता इन आत्महत्याओं की वजह फसल खरीद में देरी और समय पर भुगतान नहीं होने को बता रहे हैं। आम किसान यूनियन के केदार सिरोही का कहना है कि राज्य में सात दिन में छह किसानों की आत्महत्या करने से साफ है कि किसान परेशान है और सरकार उसकी मदद नहीं कर रही है।

मध्य प्रदेश में बुधवार को नरसिंहपुर जिले के सुआताल थाना क्षेत्र के गुड़वारा गांव में मथुरा प्रसाद (40 वर्ष) ने कर्ज से परेशान होकर जान दे दी। मथुरा प्रसाद पर लगभग ढाई लाख का कर्ज था, जिसे वह चुकाने में असमर्थ था और उसने जहरीला पदार्थ पीकर जान दे दी।

इसी तरह राजगढ़ के खानपुरा थाना क्षेत्र के बोड़ा गांव में बंशीलाल अहिरवार (80 वर्ष) ने फांसी के फंदे से लटककर जान दे दी। बुधवार को बंशीलाल ने आत्महत्या की। इसी तरह बुरहानपुर में एक किसान ने कर्ज चुकाने के एवज में अपने बेटे को गिरवी रखा और जब वह कर्ज चुकाकर बच्चे को नहीं छुड़ा पाया तो उसने आत्महत्या कर ली।

धार के बदनावर में भी एक किसान जगदीश (40 वर्ष) ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। उज्जैन के कडोदिया में किसान राधेश्याम और रतलाम में एक किसान ने जान दी है।

आम किसान यूनियन के केदार सिरोही का कहना है कि राज्य में सात दिन में छह किसानों की आत्महत्या करने से साफ है कि किसान परेशान है और सरकार उसकी मदद नहीं कर रही है। वह आगे कहते हैं कि किसान कई दिनों तक मंडी में उपज लिए खड़े रहते हैं और खरीद नहीं होती। यदि खरीद हो जाए तो भुगतान में कई सप्ताह लग जाते हैं।

सिरोही के अनुसार, एक तरफ किसान की उपज कम हुई है तो वहीं उस पर कर्ज बढ़ा है। किसान पर सहकारी समितियों से लेकर साहूकारों तक का दवाब है। किसान ने कर्ज लेकर बेटी की शादी की है तो किसी ने दूसरे सामाजिक काम निपटाए हैं।

इनपुट आईएएनएस

प्रादेशिक

कोरोना से निपटने के प्रयासों में तेज़ी लाएं अधिकारी: योगी आदित्यनाथ

Published

on

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बृहस्पतिवार को अपने आवास पर उच्चस्तरीय बैठक में अनलॉक व्यवस्था की समीक्षा करते हुए अधिकारियों को कई अहम निर्देश दिए। सीएम योगी ने कहा कि कोरोना महामारी को चुनौती मानते हुए इससे निपटने के लिए किए जा रहे प्रयासों में तेजी लाई जाए। उन्होंने कहा कि कोविड-19 पर प्रभावी नियंत्रण के लिए ज्यादा सक्रिय होकर कार्य करना आवश्यक है।

उन्होंने कानपुर नगर, झांसी, वाराणसी, गोरखपुर तथा प्रयागराज में कोविड-19 के उपचार व संक्रमण नियंत्रण की व्यवस्था को और बेहतर करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा कि कानपुर नगर में एसजीपीजीआई या केजीएमयू के विशेषज्ञ चिकित्सकों की टीम भेजी जाए जो वहां कैंप करके चिकित्सा व्यवस्था को सुदृढ़ करने में सहयोग एवं मार्गदर्शन प्रदान करे।

उन्होंने अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य तथा अपर मुख्य सचिव चिकित्सा शिक्षा को लखनऊ के एल-2 तथा एल-3 कोविड चिकित्सालयों का भ्रमण करके खाली बेड की रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कानपुर नगर समेत प्रदेश भर में सर्विलांस व्यवस्था को और प्रभावी बनाए जाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि कॉन्टेक्ट ट्रेसिंग तथा डोर-टू-डोर सर्वे गतिविधियां बेहतर की जाएं।

#yogiadityanath #chiefminister #corona #uttarpradesh

Continue Reading

Trending