Connect with us

अन्तर्राष्ट्रीय

विश्व विरासत सूची में शामिल हो सकते हैं साउथ कोरिया के चार मंदिर

Published

on

दक्षिण कोरिया के चार बौद्ध मंदिरों को यूनेस्को विश्व विरासत सूची में शामिल करने के लिए प्रस्तावित किया गया है। सांस्कृतिक विरासत प्रबंधन (सीएचए) ने यह जानकारी दी। समाचार एजेंसी योनहाप ने बताया कि दक्षिण कोरिया ने पिछले वर्ष सात पर्वतीय मंदिरों को इस सूची में शामिल करने के लिए आवेदन दाखिल किया था।

योनहाप ने शुक्रवार को बताया कि यूनेस्को के अंतर्राष्ट्रीय स्मारक एवं स्थल परिषद ने इनमें से केवल चार की अनुशंसा की है। इस पर अंतिम निर्णय अगले महीने बहरीन में होने वाली वर्ल्ड हेरिटेज कमिटी की बैठक में लिया जाएगा। दक्षिण कोरिया के इन मंदिरों के अलावा मध्य सियोल में स्थित चंगडेओक सहित अन्य स्थल भी विश्व विरासत सूची में मौजूद हैं।

दक्षिण कोरिया के मंदिरों को देखने के लिए दूर-दूर से टूरिस्ट आते हैं। यहां का बोंग्युन्सा मंदिर सन 794 में बना था। इसे देखने हर रोज औसतन 10 हजार टूरिस्ट और श्रद्धालु आते हैं। हर साल 9 सितंबर को बौद्ध धर्मगुरू एक धार्मिक आयोजन करते हैं जिसमें बौद्ध भिक्षु पवित्र शास्त्रों को सिर पर रखकर जुलूस की शक्ल में निकलते हैं। यहां आने वालों के लिए मंदिर में दो दिन ठहरने की भी व्यवस्था है।

गगवोन्सा मंदिर में महात्मा बुद्ध की 60 टन की पीतल की प्रतिमा विशेष आकर्षण है। इस मंदिर को सन 1977 में बनवाया गया था। उत्तरी और दक्षिणी कोरिया में फिर से एकता हो जाए इसकी प्रार्थना करने के लिए इस मंदिर का निर्माण किया गया था। यहां आने वाले इसकी 203 सीढि़यों पर बैठकर फोटो जरूर खिंचाते हैं।

मंदिर में महात्मा बुद्ध की 60 टन की पीतल की प्रतिमा विशेष आकर्षण है

दक्षिण कोरिया का एक और मंदिर सुदेवोक्सा मंदिर काफी मशहूर है। लगभग 1500 वर्ष पुराने इस मंदिर की राष्ट्रीय धरोहर के रूप में मान्यता प्राप्त है। यहां सुबह 3 बजे से ही पवित्र मंत्रों का पाठ शुरू हो जाता है।

1500 वर्ष पुराने इस मंदिर की राष्ट्रीय धरोहर के रूप में मान्यता प्राप्त है।

अन्तर्राष्ट्रीय

मैरेज हॉल में बम धमाका, 63 लोगों की मौत 182 घायल

Published

on

नई दिल्ली। अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में एक शादी समारोह में हुए धमाके में 63 लोगों की मौत हो गई जबकि 182 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हैं।

टोलो न्यूज ने गृह मंत्रालय के प्रवक्ता के हवाले से बताया कि यह धमाका शनिवार देर रात हुआ। इस धमाके में मरने वालों की संख्या में इजाफा हो सकता है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक जब धमाका हुआ उस समय वेडिंग हॉल गेस्ट से पूरी तरह से भरा हुआ था। धमाके के बाद वहां चारों तरफ अफरातफरी और चीख पुकार मच गई।

धमाके के बाद फिलहाल अभी तक किसी भी आतंकी संगठन ने इस हमले की जिम्मेदारी नहीं ली है। आपको बता दें कि 10 दिन के भीतर काबुल में यह दूसरा बम धमाका है।

इससे पहले आतंकियों ने कार में बम धमाका किया था जिसमें 95 लोग घायल हो गए थे। यह धमाका उस समय हुआ है, जब अमेरिका समर्थित अफगानिस्तान सरकार और तालिबान के बीच शांति के लिए वार्ता चल रही है। अमेरिकी सेना की वापसी के लिए सरकार तालिबान से शांति का आश्वासन चाह रही है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending