Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखंड में बिजली की लाइनें होंगी भूमिगत, सड़क चौड़ीकरण का काम होगा आसान

Published

on

जल्द ही उत्तराखंड के हरिद्वार और देहरादून जैसे क्षेत्रों में बिजली के नुकसान को कम किया जा पाएगा। प्रदेश सरकार और केंद्र सरकार ने जल्द ही उत्तराखंड के मार्गों के किनारे बनी विद्युत लाइनों को भूमिगत करने का फैसला लिया है।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत व केन्द्रीय उर्जा, नवीन एवं नवीनीकरण ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) आर.के.सिंह ने शुक्रवार को ऋषिकुल मैदान, हरिद्वार में एकीकृत विद्युत विकास योजना (आईडीपीएस) में हरिद्वार के कुम्भ क्षेत्र में लगभग 200 करोड़ लागत के विद्युत लाईनों के अंडर ग्राउंड कार्य का शिलान्यास किया गया।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा, ” हरिद्वार कुम्भ नगरी होने के साथ-साथ मेलों और उत्सवों का भी शहर है। यहां बड़ी संख्या में वर्षभर तीर्थयात्री आते हैं। धार्मिक स्थान साफ-सुथरे होने के साथ ही इन स्थानों पर तीर्थ यात्रियों के लिए सभी सुविधाएं होनी चाहिए। इस दिशा में हरिद्वार के कुम्भ क्षेत्र में विद्युत तारों को अंडर ग्राउंड किया जाना बहुत ज़रूरी है।”

हरिद्वार में एकीकृत विद्युत विकास योजना (आईडीपीएस) का किया गया शिलान्यास।

मौजूदा समय में पूरे देश में बनारस के बाद अब हरिद्वार में विद्युत लाईनों को भूमिगत किया जा रहा है। हरिद्वार के बाद देहरादून में भी विद्युत लाईनों को अंडर ग्राउंड अण्डर ग्राउण्ड किए जाने के कार्य जल्द शुरू किया जाएगा।

इस मौके पर मौके मौजूद सांसद हरिद्वार, रमेश पोखरियाल (निशंक) ने बताया, ” प्रदेश में रुड़की से हरिद्वार होकर ऋषिकेश तक के लिए मेट्रो ट्रेन की मांग केन्द्र सरकार से की जा रही है। आशा है कि हमें शीघ्र ही यह सौगात भी मिलेगी।”

इसके साथ ही मुख्यमंत्री ने हरिद्वार के भूपतवाला में पीएचसी की स्थापन, नगर निगम हरिद्वार के भवन निर्माण और हरिद्वार शहर में 10 प्रतिशत शेष रहे सीवरेज कार्य के लिए धनराशि दिए जाने पर अपनी सहमति जताई। हरिद्वार शहर की जलभराव समस्या के निदान के लिए अमृत योजना के अन्तर्गत वित्तीय सहायता उपलब्ध कराने और साईंस व योगा पार्क के लिए 10 करोड़ रुपए दिए जाने की भी घोषणा की है।

‘हरिद्वार कुम्भ नगरी होने के साथ-साथ मेलों और उत्सवों का भी शहर भी।’ त्रिवेंद्र सिंह रावत।

इस मौके पर केन्द्रीय ऊर्जा राज्यमंत्री आरके सिंह ने कहा,”  देश में यह दूसरा शहर है जहां यह कार्य हो रहा है। उन्होंने कहा कि हरिद्वार कोई साधारण शहर नहीं है। यह पूरे विश्व की आस्था का केन्द्र है। हरिद्वार के लिए यह योजना बहुत आवश्यक थी। विद्युत लाईनों के भूमिगत होने से विद्युत नुकसान कम होगा, सड़कों से व्यवधान हटने से सड़के चैड़ी होगी और फाल्ट भी बहुत कम होगें।”

उत्तराखंड में विद्युत लाईन भूमिगत किए जाने की योजना में दो चरणों में काम पूरा होगा। इसके लिए कुल 600 करोड़ रुपए की धनराशि उपलब्ध कराई जाएगी। योजना में 10 करोड़ रुपए हरिद्वार शहर के विकास कार्यों को दिए जाने की घोषणा की गई है, जिसे मुख्यमंत्री शहर की कई योजनाओं में व्यय कर सकते हैं।

उत्तराखंड

सीएम योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का हालचाल जानने हिमालयन हॉस्पिटल पहुंचे सीएम त्रिवेंद्र

Published

on

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने बुधवार को हिमालयन हॉस्पिटल जौलीग्रांट में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट व भतीजी अर्चना के स्वास्थ्य का हालचाल जाना।

 

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के 89 वर्षीय पिता आनंद सिंह बिष्ट की तबीयत खराब होने के बाद उन्हें देहरादून के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। डिहाइड्रेशन के कारण तबीयत बिगड़ने के बाद सीएम योगी के पिता को जॉलीग्रांट स्थित स्वामीराम हिमालयन अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

डॉक्टर मोहम्मद अकरम का कहना है कि आनंद सिंह बिष्ट को पेट की तकलीफ के कारण 09 फरवरी को अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने उनकी ईश्वर से शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending