Connect with us

खेल-कूद

गर्भवती होने से महिलाओं को अपने सपनों को नहीं छोड़ना चाहिए : सानिया मिर्जा

Published

on

टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा (29 वर्ष) ने कहा कि मां बनते ही टेनिस कोर्ट पर वापसी उनके लिए प्राथमिकता होगी। वह एक उदाहरण रखना चाहती हैं कि गर्भवती होने से महिलाओं को अपने सपनों को नहीं छोड़ना चाहिए।

लोकप्रिय टेनिस खिलाड़ी के रूप में पहचान बना चुकीं सानिया मिर्जा (29 वर्ष) अपने पति पाकिस्तान के क्रिकेट खिलाड़ी शोएब मलिक के साथ अपने पहले बच्चे का इंतजार कर रही हैं। सानिया मिर्जा ने साल 2010 में शोएब से शादी की थी और पिछले माह ही उन्होंने अपने गर्भवती होने की जानकारी दी।

ऐसे में क्या वर्ष 2020 में टोक्यो ओलंपिक में वह टेनिस कोर्ट पर वापसी करेंगी, इस बारे में सानिया का कहना है कि यह बहुत आगे की बात है।

गर्भवती होने से महिलाओं को अपने सपनों को नहीं छोड़ना चाहिए : सानिया मिर्जा

हैदराबाद से सानिया ने कहा, यह समय की बात है। मैं वैसे भी अपने घुटने की चोट के कारण टेनिस जगत से बाहर हूं और हम इस (बच्चे के) बारे में कुछ समय से सोच रहे थे। हमें लगा कि अब जीवन में आगे बढ़ने और जीवन के नए दौर का अनुभव करने के लिए यह सही समय है।

घुटने में चोट के कारण सानिया छह माह से टेनिस जगत से बाहर हैं। इस कारण वह आस्ट्रेलिया ओपन में भी हिस्सा नहीं ले पाईं। अपनी इस चोट के ठीक होने के बारे में उन्होंने कहा, अभी ठीक है। मैंने अक्टूबर के मध्य से टेनिस नहीं खेला है। हर किसी को आराम करने की सलाह दी जाती है। इसलिए, मैं यह नहीं कहूंगी कि मेरी चोट अब बहुत ठीक है लेकिन यह बेहतर है।

टोक्यो-2020 ओलम्पिक खेलों में हिस्सा लेने के बारे में सानिया ने कहा, टोक्यो ओलम्पिक का सफर अभी बहुत दूर है। एक टेनिस खिलाड़ी के रूप में यह मैंने कई बार कहा है कि काश हम यह जान पाते कि कल हमारे जीवन में क्या होगा। अभी तो यह संभव लग रहा है, लेकिन हर किसी को इंतजार करना चाहिए और यह देखना चाहिए कि जीवन आपको किस राह पर ले कर जाता है। निश्चित तौर पर टेनिस कोर्ट पर वापसी मेरी प्राथमिकता होगी।

गर्भवती होना अहम

टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा अक्टूबर में अपने पहले बच्चे को जन्म देंगी। गर्भवती होने के कारण वह अपने वजन को बढ़ने को लेकर परेशान नहीं हैं।

उन्होंने कहा, एक महिला के लिए गर्भवती होना अहम है। अगर आप इस अवस्था में होती हैं, तो आपके लिए एक स्वस्थ बच्चे का जन्म महत्वपूर्ण रहता है। मैं चाहती हूं कि महिलाएं इस बात को समझें कि आप भले ही एक लोकप्रिय हस्ती हों या आम इंसान, वजन बढ़ना मायने नहीं रखता। मां बनने के दौरान आपका वजन बढ़ेगा, लेकिन आप इसे अपनी इच्छा से कम भी कर सकती हैं।

एक महिला को उसके करियर से अलग नहीं कर सकता मातृत्व

सानिया मिर्जा का मानना है कि मातृत्व एक महिला को उसके करियर से अलग नहीं कर सकता। यह एक महिला को सशक्त करता है और एक महिला होने की पहचान है। उन्होंने कहा कि वह इसके लिए..एक परिवार बनाने के लिए..इंतजार कर रही थीं।

उन्होंने कहा कि उनके लिए उनका बच्चा अहम होगा। वह उसके जन्म के बाद टेनिस में वापसी करना चाहेंगी क्योंकि वह अपने बच्चे के लिए इसके जरिए एक उदाहरण पेश करना चाहती हैं।

सानिया मिर्जा यह उदाहरण रखना चाहती हैं कि गर्भवती होने के कारण किसी को भी अपने सपनों को नहीं भूलना चाहिए। उन्होंने कहा कि वह टेनिस जगत में वापसी के लिए अभी भी युवा हैं और वह इसके लिए हर प्रकार का प्रयास करेंगी।

नई पीढ़ी  के बारे में सानिया का कहना

घरेलू टेनिस जगत में उनकी जगह लेने वाली नई पीढ़ी के बारे में सानिया ने कहा, मुझे लगता है कि अंकिता राणा, करमान कौर थांडी और प्रार्थना थोम्बारे जैसी खिलाड़ी इस खेल की नई पीढ़ी हैं। वे सभी अभी 23 या 24 साल की हैं और मैंने इन लड़कियों को 16 और 17 साल की उम्र से खेलते हुए देखा है।

सानिया ने हाल में भारत की महिला खिलाड़ियों को मिली सफलताओं पर कहा कि यह काफी अविश्वसनीय है क्योंकि हम लोग एक ऐसी संस्कृति से ताल्लुक रखते हैं, जहां माता-पिता अपने बच्चों को पेशेवर रूप से खेल को प्राथमिकता में रखने का सुझाव नहीं देते हैं। चीजें निश्चित तौर पर बदल रही हैं और अभी इस ओर लंबा सफर तय करना बाकी है, लेकिन इसमें काफी बदलाव आया है, विशेषकर उनके टेनिस खेल में प्रवेश के बाद से।

इनपुट आईएएनएस

खेल-कूद

टीम इंडिया को लगा झटका, न्यूजीलैंड से टी-20 नहीं खेलेगा ये दिग्गज खिलाड़ी

Published

on

नई दिल्ली। भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन कंधे की चोट के कारण न्यूजीलैंड दौरे पर होने वाले पांच मैचों की टी-20 सीरीज से बाहर हो गए हैं। क्रिकइंफो की रिपोर्ट के अनुसार, धवन न्यूजीलैंड दौरे के लिए सोमवार को ऑकलैंड पहुंची भारतीय टीम का हिस्सा नहीं थे और चयनकर्ताओं ने अभी तक उनकी जगह किसी और खिलाड़ी के नाम की घोषणा नहीं की है।

धवन को आस्ट्रेलिया के खिलाफ रविवार को बेंगलुरु में खेले गए तीसरे वनडे मैच के दौरान कंधे में चोट लग गई थी और वह बाद में बल्लेबाजी करने के लिए भी नहीं आए थे।

धवन को आस्ट्रेलियाई पारी के दौरान पांचवें ओवर की तीसरी गेंद पर मेहमान टीम के कप्तान एरॉन फिंच के शॉट पर फील्डिंग करते समय में कंधे में चोट लग गई। उनके सब्सीट्यूट के तौर पर मैदान पर युजवेंद्र चहल ने फील्डिंग की थी।

धवन को दूसरे वनडे के दौरान भी चोट लग गई थी और वह फील्डिंग करने के लिए मैदान पर नहीं उतरे थे। बाद में वह बल्लेबाजी के लिनए आ सके थे।

भारत को न्यूजीलैंड दौरे पर अपना पहला टी-20 मैच 24 जनवरी को खेलना है। मेहमान टीम को उसके बाद चार और टी-20 मैच तथा पांच फरवरी से तीन मैचों की वनडे सीरीज भी खेलनी है।

धवन अगर इन मैचों के लिए फिट नहीं होते हैं तो फिर उनके स्थान पर संजू सैमसन, मयंक अग्रवाल और पृथ्वी शॉ को मौका मिल सकता है। ये तीनों खिलाड़ी अभी न्यूजीलैंड दौरे पर ही हैं और वे इंडिया-ए के लिए मैच खेल रहे हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending