Connect with us

मुख्य समाचार

रेलवे ने किए अहम बदलाव, महिला यात्रियों को होगा फायदा

Published

on

नई दिल्ली। ट्रेनों में महिलाओं का डिब्बा पीछे रहने की बजाय अब बीच में होगा और यह गुलाबी रंग का होगा। मंत्रालय सूत्रों ने बताया कि 2018 को महिला सुरक्षा वर्ष के रूप में मनाने की रेलवे की योजना के तहत ऐसा उपनगरीय और लंबी दूरी की ट्रेनों में किया जाएगा। इन डिब्बों में अतिरिक्त सुरक्षा उपाय के तौर पर सीसीटीवी कैमरे भी लगे होंगे।

इसके अलावा रेलवे महिलाओं के लिए स्टेशन और ट्रेनों में अलग से टॉयलट के साथ चेंजिंग रूम भी बनाएगा। शुक्रवार को रेलवे बोर्ड के चेयरमैन की अध्यक्षता में महिला यात्रियों की सुरक्षा को लेकर हुई बैठक में कई अहम फैसले लिए गए।

सूत्रों ने बताया कि ट्रेनों में सफर करने वाली महिलाओं की सुरक्षा के लिए योजनाओं के क्रियान्वयन की निगरानी को लेकर एक कमेटी भी गठित की गई है। कमेटी में रेलवे बोर्ड के अध्यक्ष अश्विनी लोहानी, सदस्य (यातायात) मोहम्मद जमशेद और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी शामिल हैं।

सूत्रों ने बताया कि यह फैसला भी लिया गया है कि इन डिब्बों में चाहे टिकट जांच करने वाले हों या आरपीएफ कर्मी, उनमें महिलाओं को शामिल रखा जाएगा। कमेटी ने यह भी कहा कि अगले तीन साल में महिलाओं द्वारा देखरेख किए जाने वाले स्टेशनों की संख्या मौजूदा तीन से बढ़ा कर 100 की जाएगी।

मनोरंजन

नहीं रहीं नवाजुद्दीन सिद्दीकी की बहन, लंबे समय से थीं कैंसर से पीड़ित

Published

on

मुंबई। बॉलीवुड ऐक्टर नवाजुद्दीन सिद्दीकी की बहन सायमा तामसी सिद्दीकी का शुक्रवार को निधन हो गया। वह लंबे समय से कैंसर से पीड़ित थीं।

8 साल से कैंसर से जंग लड़ रही सायमा ने पुणे में अंतिम सांस ली। रिपोर्ट्स के मुताबिक नवाजुद्दीन एक शूट के सिलसिले में इस वक्त अपने भाई फैजुद्दीन के साथ अमेरिका में हैं।

पिछले साल अक्टूबर में नवाज ने अपनी बहन के बारे में एक सोशल मीडिया पोस्ट की थी। उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से बहन को जन्मदिन की बधाई देते हुए ट्वीट किया कि मेरी बहन को 18 साल की उम्र में ब्रेस्ट कैंसर डायग्नोस हुआ था। ये उसकी इच्छा शक्ति और हिम्मत है कि वह बेहिसाब कठिनाइयों के सामने भी खड़ी रही है।

13 अक्टूबर को किए गए इस ट्वीट में नवाज ने लिखा था, “आज वह 25 साल की हो गई है। और वह अभी भी लड़ रही है। मैं डॉक्टर आनंद कोपिकर और डॉक्टर लालेश बुश्री का शुक्रगुजार हूं कि वह उन्हें लगातार हौसला देते रहे हैं। मैं रसूल पूकुट्टी का भी शुक्रगुजार हूं कि उन्होंने मुझे इन दोनों से मिलवाया।”

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending