Connect with us

नेशनल

हरभजन के घर के दरवाजे पर चिपकाया गया समन, देने पड़ सकते हैं 97 करोड़

Published

on

नई दिल्ली। जेट एयरवेज के पूर्व पायलट द्वारा दायर मानहानि मामले में क्रिकेटर हरभजन सिंह के खिलाफ बांबे हाईकोर्ट ने समन जारी किया है। चंडीगढ़ सेक्टर 9 में स्थित भज्जी की कोठी खाली होने पर समन गेट पर चस्पा कर दिया गया है।

गौरतलब है कि जेट एयरवेज के पूर्व कैप्टन बर्नड केन हॉसलिन ने 13 दिसंबर 2017 को भज्जी के खिलाफ मानहानि का केस दर्ज कराया था। उन्होंने शिकायत में 15 मिलियन यूएस डॉलर का दावा ठोका था, जो कि भारतीय राशि में करीब 97 करोड़ और 50 लाख रुपये है। साथ ही देरी के लिए दावे की रकम पर 18 प्रतिशत ब्याज देने की गुजारिश भी की है।

दरअसल हरभजन और साथियों की कथित ‘गलत शिकायत’ पर पायलट की नौकरी चली गई। पायलट को कथित तौर पर नस्ली टिप्पणी करने को लेकर बर्खास्त कर दिया गया था। पायलट के वकील ने कहा कि उन्होंने कथित गलत शिकायत पर अनुबंध समाप्त करने के लिए विमानन कंपनी को भी एक नोटिस भेजा था। भज्जी ने आरोप लगाया था कि पायलट बर्नड केन हॉसलिन ने दो महीना पहले एक घरेलू उड़ान के दौरान एक महिला यात्री के साथ बदसलूकी की और एक अन्य यात्री पर नस्ली टिप्पणी की थी।

वहीं अपनी याचिका में बर्नड केन हॉसलिन ने कहा है कि हरभजन सिंह व अन्य ने सोशल मीडिया पर उस पर नस्लीय टिप्पणियां करने के जो आरोप लगाए थे, उससे उनके करियर पर असर पड़ा है और उनकी मानहानि हुई है।

नोटिस में हरभजन सिंह और दो अन्य को 12 जून, 2018 को कोर्ट में पेश होकर अपना पक्ष रखने को कहा है। यह भी कहा गया है कि अगर निर्धारित तारीख पर हरभजन व अन्य या उनका वकील अदालत में पेश होकर अपना पक्ष नहीं रखते तो कोर्ट तीनों के खिलाफ एकतरफा फैसला सुना सकती है।

इस मामले में भेजे गए नोटिस को जालंधर स्थित हरभजन सिंह के आवास पर रिसीव कर लिया गया है। वहीं चंडीगढ़ आवास पर नोटिस रिसीव न होने के कारण कोर्ट के आदेश पर उनके आवास के बाहर चस्पा कर दिया गया है।

नेशनल

उन्नाव में गैंगरेप पीड़िता को पेट्रोल डालकर जलाया, हालत गंभीर

Published

on

उन्नाव के बिहार थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली सामूहिक दुष्कर्म पीड़िता को गुरुवार सुबह छह युवकों ने पेट्रोल डालकर जला दिया। पिता की सूचना पर पहुंची पुलिस ने पीड़िता को जिला अस्पताल पहुंचाया। जहां पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर दिया गया। कानपुर के बाद अब पीड़िता को लखनऊ रेफर कर दिया गया है।

पीड़िता ने बयान दिया है कि गुरुवार सुबह चार बजे वह रायबरेली जाने के लिए ट्रेन पकड़ने बैसवारा बिहार रेलवे स्टेशन जा रही थी। गौरा मोड़ पर गांव के हरिशंकर त्रिवेदी, किशोर शुभम, शिवम, उमेश ने घेर लिया और सिर पर डंडे से और गले पर चाकू से वार किया। वह चक्कर आने से गिरी तो पेट्रोल डालकर आग लगा दी। शोर मचाने पर भीड़ को आता देख वह भाग निकले।

पीड़िता ने बताया कि पूर्व में आरोपियों ने उसके साथ दुष्कर्म किया था। उधर, घटना की जानकारी मिलने पर डीएम देवेंद्र पांडे, एसपी विक्रांत वीर समेत कई थानों की पुलिस फोर्स मौके पर पहुंची। पीड़िता की हालत गंभीर देख कानपुर हैलट रेफर कर दिया गया। इसके बाद उसे लखनऊ सीविल हॉस्पिटल भेजा गया है।

बताया जा रहा है कि हमलावरों में से तीन युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। उधर, घटना के बाद पूरे जिले में हड़कंप मचा गया है।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending