Connect with us

उत्तराखंड

उत्तराखंड के गांवों में खोले जाएंगे फार्म मशीनरी बैंक

Published

on

उत्तराखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में लघु और सीमांत किसानों की मदद करने के लिए सरकार फार्म मशीनरी बैंक खोलने जा रही है। इन बैंक की मदद से किसान सस्ते और उपयोगी कृषि यंत्र खरीद सकेंगे।

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत शुक्रवार को परेड ग्राउंड देहरादून में राज्य स्तरीय गोष्ठी एवं फार्म मशीनरी बैंक मेले में शामिल हुए। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कृषि यंत्रों, विभिन्न प्रकार के फलों, सब्जियों व स्थानीय उत्पादों पर लगाई गई आजीविका से जुड़ी प्रर्दशनी का भी उद्घाटन किया।

मुख्यमंत्री ने देखी कृषि उत्पाद प्रदर्शनी।

मुख्यमंत्री ने प्रदेश के सभी 13 जिलों के 13 स्वयं सहायता समूहों को फार्म मशीनरी बैंक के लिए लगभग एक करोड़ रूपए के चैक वितरित किए। इस अवसर पर उन्होंने कृषि विभाग की कई योजनाओं पर आधारित पुस्तक का विमोचन भी किया।

मुख्यमंत्री ने समारोह में कहा कि कृषि और उससे सम्बन्धित कार्यों के लिए जितना बजट प्रदेश को पिछले 17 वर्षों में मिला था, उससे अधिक बजट राज्य को अगले तीन सालों के लिए मिला है।

फार्म मशीनरी बैंक में किसानों को मिलेंगे सस्ते कृषि यंत्र।

कार्यक्रम में शामिल हुए सचिव कृषि, उत्तराखंड डी. सेंथिल पांडियन ने कहा,” प्रदेश में अधिकतर लघु और सीमांत किसान हैं, जो कि आवश्यकता के हिसाब से कृषि यंत्र खरीदने में सक्षम नहीं होते हैं। इसके लिए हम प्रथम चरण में प्रत्येक न्याय पंचायत स्तर पर और दूसरे चरण में ग्राम पंचायत स्तर पर एक-एक फार्म मशीनरी बैंक स्थापित करेंगे। इन बैंक में किसान किफायती यंत्र खरीद पाएंगे।”

फाॅर्म मशीनरी बैंक में मुख्यरूप से पावर टिलर, पावर विडर, थ्रेशर ,मल्टी क्राप थ्रेशर, रोटावेटर, सेल्फ प्रोपेल्ड रीपर, ब्रश कटर, हैरो, कल्टीवेटर, सीड ड्रिल, रीपर कम बाईपर, पशुचालित यंत्र, छोट कृषि यंत्र, जल पंप, मानव चलित यंत्र, पावर स्प्रेयर, पंप सेट, जल संवहन पाईप जैसे कृषि यंत्र उपलब्ध कराए जाएंगे।

किसानों को दिया गया 600 करोड़ रूपए का ऋण।

”राज्य सरकार द्वारा पंडित दीनदयाल उपाध्याय सहकारिता कृषि कल्याण योजना के तहत लघु एवं सीमान्त कृषकों को मात्र दो प्रतिशत ब्याज पर एक लाख रूपए तक का ऋण दिया गया। इसके तहत सवा लाख किसानों को लगभग 600 करोड़ रूपए का ऋण दिया गया है।” मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने किसानों से कहा।

उत्तराखंड

BREAKING : हरिद्वार रोशनाबाद में अस्थाई जेल से आठ कैदी फरार

Published

on

By

हरिद्वार से एक बड़ी खबर सामने आ रही है। रोशनाबाद में अस्थाई जेल से आठ कैदी फरार हो गए हैं। रोशनाबाद में अस्थाई जेल से आठ कैदी फरार हो गए हैं। कोविड-19 गाइडलाइन के मद्देनजर कोर्ट से जेल भेजे जाने वाले कैदियों को करीब एक सप्ताह अस्थाई जेल में रखा जाता है।

83 साल की उम्र में मशहूर मराठी अभिनेत्री आशालता वाबगांवकर का कोरोना से निधन

जिला मुख्यालय रोशनाबाद में स्थित भिक्षुक गृह को अस्थाई जेल बनाया गया है। आज सुबह अस्थाई जेल से आठ कैदी फरार हो गए। कई घंटे तक तो आसपास ही कैदियों की तलाश होती रही, कुछ देर पहले पुलिस को इस मामले की सूचना दी गई है। कैदियों की तलाश में पुलिस चप्पे-चप्पे पर चेकिंग कर रही है।

जिलेभर की पुलिस को अलर्ट कर दिया गया है। खास तौर पर जनपद की सीमाओं पर चौकसी बढ़ाने के निर्देश दिए गए हैं। एसपी सिटी कमलेश उपाध्याय ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि अस्थाई जेल से फरार आठ कैदियों की तलाश चल रही है।

#Uttarakhand #jail #uttarakhandpolice #covid19

Continue Reading

Trending