Connect with us

ऑफ़बीट

फुटपाथ पर सोने वाले ये दादा जी कभी ऑक्सफोर्ड में पढ़ाते थे, फेसबुक ने बदली जिंदगी

Published

on

यह कहानी है एक ऐसे बुजुर्ग की जो ब्रिटेन की जानी-मानी यूनिवर्सिटी ऑक्सफोर्ड में प्रोफेसर था लेकिन वक्त बदला तो आज सड़क पर है। यह कहानी है उन दो बेटों की भी जिन्हें पाई-पाई जोड़कर उनके पिता ने विदेश भेजा और बदले में बेटे अपने बुजुर्ग बाप को भूल गए। यह कहानी उस बुजुर्ग की जिसने सबकुछ बर्बाद हो जाने के बाद भी भीख के लिए हाथ नहीं फैलाए, 76 बरस की पकी उम्र में भी हर दिन मेहनत करके ही दो वक्त की रोटी खाई। और यह कहानी है इंटरनेट की बेमिसाल ताकत की जिसकी बदौलत हिम्मत और जज्बे की यह दास्तान तमाम लोगों तक पहुंची और इस बुजुर्ग को रहने को ठिकाना मिल गया।

राजा सिंह फुल्ला 60 के दशक में अपने भाई के कहने पर ब्रिटेन से भारत आए। दोनों ने मुंबई में मोटर पार्ट्स का बिजनेस किया। राजा सिंह के भाई को शराब की लत थी, बिजनेस बर्बाद होने लगा लेकिन राजा सिंह ने जमकर मेहनत की बिजनेस संभाला और अपने बच्चों को पढ़ाया-लिखाया। भाई की मौत के बाद बिजनेस ठप्प हो गया। बच्चे भी ब्रिटेन और अमेरिका में सैटल हो गए लेकिन पिता को भूल गए। राजा सिंह दिल्ली आ गए और कनाट प्लेस स्थित शिवाजी स्टेडियम मेट्रो स्टेशन के पास मौजूद वीजा सेंटर में फार्म भरने में लोगों की मदद करने लगे। बदले में लोग उन्हें कुछ रुपए-पैसे दे देते थे।

राजा सिंह यहीं एक सुलभ शौचालय में तैयार होते और अपने काम पर निकल जाते। जिस दिन काम न कर पाते उस दिन लंगर में खाना खाते। एक दिन दिल्ली के रहने वाले अविनाश सिंह की नजर उन पर पड़ी। वह हैरान थे कि फर्राटेदार अंग्रेजी बोलने वाला बुजुर्ग फुटपाथ पर लावारिसों सी जिंदगी बिता रहा है। उन्होंने यह पूरी कहानी अपने फेसबुक अकाउंट पर शेयर की।

He is an Oxford graduate who shifted to India on the insistence of his brother in the Sixties – 60s. Today 76-year-old…

Gepostet von Avinash Singh am Freitag, 20. April 2018

जल्द ही लोगों ने मदद करनी शुरू कर दी। आज राजा सिंह न्यू राजेंद्र नगर के गुरूनानक सुखशाला ओल्डएज होम में रह रहे हैं। राजा सिंह के पास फोन तो है पर परमानेंट पता ना होने और आधार कार्ड ना होने से सिम का बंदोबस्त भी नहीं हो पा रहा है। लेकिन अब शायद उनकी यह समस्या भी दूर हो जाएगी।

ऑफ़बीट

डोनाल्ड ट्रंप के लिए कौन तैयार कर रहा है खास खाना, जानिए यहां

Published

on

नई दिल्ली। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप अपने दो दिवसीय दौरे पर गुजरात के अहमदाबाद पहुंच चुके हैं। भारत पहुंचकर सबसे पहले ट्रंप अपनी पत्नी मिलेनिया ट्रंप के साथ साबरमती आश्रम में महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने पहुंचे।

ट्रंप के भारत दौरे पर उनकी मेहमाननवाजी की खास तैयारियां की गई हैं। ट्रंप के पहले भारत के दौरे पर उनके खाने-पीने का भी खास इंतजाम किया गया है। उनके लिए व्यंजन तैयार करने की जिम्मदारी शेफ सुरेश खन्ना को दी गई है।

कौन हैं शेफ सुरेश खन्ना

सुरेश खन्ना फॉर्च्यून लैंडमार्क होटल के शेफ हैं। समोसे के साथ वह ट्रंप के लिए स्पेशल अदरक और मसाला चाय तैयार कर रहे हैं, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पसंद है।

खन्ना पिछले 17 सालों से गुजरात दौरे पर आने वाले अतिथियों के लिए मैन्यू तैयार कर रहे हैं। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा कई अन्य गणमान्य लोगों को भी अपने हाथों के जायके का स्वाद चखाया है।  ट्रंप के लिए जो मेन्यू तैयार किया जा रहा है वह पूरी तरह से शाकाहारी है। खाना गुजराती अंदाज में परोसा जाएगा।

खन्ना काफी प्रसिद्ध शेफ हैं। उन्होंने  पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह, पूर्व प्रणव मुखर्जी  समेत कई बड़े नेताओं के लिए खाना बनाया है।

आपको बता दें कि उनके हाथ का खाना अमिताभ बच्चन और शिल्पा शेट्टी सहित कई बॉलीवुड हस्तियां भी खा चुकी हैं। उन्हें 1990 में ‘राष्ट्रीय पाक पुरस्कार’ (National Culinary Award) से सम्मानित किया जा चुका है।

एएनआई से बातचीत करते हुए खन्ना ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप के लिए परोसे जाने वाला खाना बहुत खास होगा, जिसमें ब्रोकोली समोसा, शहद में डूबी हुई कुकीज, मल्टीग्रेन की रोटियां और बेसन से बने स्नैक्स जैसे आइटम शामिल रहेंगे।

उन्होंने बताया कि अमेरिकी राष्ट्रपति और फर्स्ट लेडी के रूप में एक स्पेशल ढोकला तैयार किया जा रहा है। खाना पहले खाद्य निरीक्षक चखेंगे। खाने की पूरी तरह से जांच के बाद इसे मेहमानों को परोसा जाएगा।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending