Connect with us

नेशनल

पठानकोट एयरबेस में सेना की वर्दी में दिखे संदिग्ध, मंडराया आतंकी हमले का साया

Published

on

पठानकोट एयरबेस के पास बुधवार देर रात हथियारबंद संदिग्धों को देखे जाने से हडक़म्प मच गया है। मीडिया रिपोट्र्स के अनुसार यह संदिग्ध सेना की वर्दी पहने हैं और इनके पास हथियार भी मौजूद हैं। आतंकी हमले की आशंका को देखते हुए सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

जानकारी के मुताबिक बुधवार(19 अप्रैल) करीब रात 12 बजे सेना की वर्दी में तीन लोगों ने हिमाचल की तरफ से आने वाली एक गाड़ी से लिफ्ट मांगी और चालक ने उन्हें लिफ्ट दे दी। रास्ते में युवक को शक हुआ तो उसने सेना की वर्दी पहने हुए तीनों संदिग्धों से पूछताछ की। वाहन चालक कुछ कर पाता इससे पहले ही संदिग्धों ने उसे मारपीट कर गाड़ी से उतार दिया और गाड़ी लेकर फरार हो गए।

उन्होंने कार को गांव कोट भट्टियां में छोड़ दिया और वहां से एक क्रेटा या ब्रेजा कार में गए। यह क्रेटा व ब्रेजा कार कहां से आई और किसकी थी, इसका पता नहीं चल सका। भारतीय सेना ने संदिग्धों द्वारा अगवा की गई कार को बरामद कर लिया है।

आशंका जताई गई कि इन संदिग्धों की संख्या दो से अधिक भी हो सकती है। संदिग्धों के पास फोल्ड होने वाली राइफल व अन्य हथियार भी हैं। सूचना मिलने के बाद सेना ने पूरे इलाके को हाई अलर्ट पर रखा हुआ है। संदिग्धों की तलाश में सेना की ओर से तलाशी अभियान चलाया जा रहा है।

बता दें कि पठानकोट एयरबेस पर 2016 में हमला हो चुका है। उस समय पाकिस्तानी आतंकी अंदर घुस गए थे। कई दिनों की कार्रवाई के बाद उनको मार गिराया गया था।

हथियारबंद संदिग्धों के फिदायीन होने का शक है। उनकी तलाश में अभियान तेज कर दिया गया है। इसके साथ ही किसी तरह के आतंकी हमले से निपटने के लिए तैयारी की गयी है। आईजी बार्डर रेंज व पठानकोट के एसएसपी विवेक सोनी पूरे मामले पर नजर रख रहे हैं और सच ऑपरेशन की निगरानी कर रहे हैं।

नेशनल

कोरोना वायरस से जंग में भारत का ये राज्य निकला सबसे आगे, 90 फीसदी लोग हुए ठीक

Published

on

नई दिल्ली। कोरोना वायरस से इस समय पूरी दुनिया जूझ रही है। भारत में भी इसका संक्रमण तेजी से लोगों में फैल रहा है। कोरोना के संक्रमित लोगों की संख्या अबतक बढ़कर 4400 के पार हो चुकी है, वहीं 114 लोगों की इससे जान भी जा चुकी है।

इस बीच आज हम आपको भारत के एक ऐसे राज्य के बारे में बताने जा रहे हैं जो लगभग कोरोना से मुक्त हो चुका है। हम बात कर रहे हैं बिहार से सटे राज्य छत्तीसगढ़ की। यहां कोरोना के कुछ 10 केस पाए गए थे।

अन्य राज्यों की तरह यहां केस बढ़े नहीं बल्कि जो 10 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे उनमें से 8 ठीक हो चुके हैं। वहीं अच्छी बात यह है कि इस खतरनाक वायरस से अब तक इस राज्य में किसी की भी मौत नहीं हुई है। यह आंकड़ा स्वास्थ्य मंत्रालय की ऑफिशियल वेबसाइट पर भी मौजूद है।

राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बताया है कि राज्य के लिए राहत भरी बात यह है कि कोरोना से संक्रमित पाए गए 10 मरीजों में से नौ मरीज इलाज के बाद पूर्णत: स्वस्थ हो चुके हैं। राज्य में अब कोरोना के एक मात्र शेष रहे संक्रमित मरीज का एम्स रायपुर में इलाज चल रहा है। इस मरीज के स्थिति में सुधार है।

मुख्यमंत्री बघेल ने चिकित्सकों के प्रति आभार जताते हुए कहा है कि छत्तीसगढ़ राज्य पूरे आत्मबल के साथ लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए कोरोना के खिलाफ लड़ रहा है। चिकित्सक पूरी निष्ठा से मरीजों की सेवा में लगे हुए हैं।

इसलिए कोरोना हारेगा, हम जीतेंगे। बता दें कि कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए सीएम बघेल ने सख्त कदम उठाते हुए 21 मार्च को पूरे राज्य की सीमाओं को सील कर दिया था साथ ही पूरे राज्य को लॉकडाउन करने की घोषणा भी कर दी थी। इसके अलावा विदेश से राज्य में आए लोगों को क्वारंटाइन किया गया।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending