Connect with us

ऑफ़बीट

क्या 23 अप्रैल को होगी धरती के अंत की शुरूआत, छिड़ेगा तीसरा विश्वयुद्ध!

Published

on

धरती के अंत की भविष्यवाणी करने वाले फिर से सक्रिय हो गए हैं, उन्होंने दावा किया है कि इसी 23 अप्रैल से धरती के अंत की शुरूआत हो जाएगी। इससे दुनिया भर में डर की लहर दौड़ गई है। हालांकि नासा और दूसरी वैज्ञानिक एजेंसियों ने इसे कोरी कल्पना बताया है।
धरती के अंत का ऐलान करने वालों का कहना है कि पवित्र बाइबल में लिखी बात सच होने वाली है। 23 अप्रैल को सूर्य, चंद्रमा और बृहस्पति कन्या राशि में एक सीध में आ जाएंगे। इसी रात को विनाशकारी रहस्मयी ग्रह निबिरू या प्लेनेट एक्स भी आसमान में दिखाई देगा। इसके बाद तीसरे विश्व युद्ध की शुरूआत हो जाएगी, एंटी क्राइस्ट का जन्म होगा। इस भविष्यवाणी के अनुसार यह युद्ध सात वर्षों तक चलने वाला है जिसके परिणामस्वरूप धरती का अंत हो जाएगा।
इस दावे का खंडन करते हुए नासा ने कहा है कि एक्स प्लेनेट या डेथ प्लेनेट का कोई अस्तित्व नहीं है। इससे पहले भी धरती के विनाश की घोषणा करने वाले अपनी तारीख बार-बार टालते रहे हैं।

http://


अखबार डेली मेल के मुताबिक, धरती के अंत का दावा करने वाले द बुक ऑफ रिवीलीशन के 12ः1-2 सर्ग का उल्लेख करते हैं जिसमें कहा गया है: ‘आकाश में एक बड़ा संकेत दिखाई देगा: सूर्य के वस्त्र पहने एक महिला दिखाई देगी जिसके पैरों के नीचे चंद्रमा होगा और उसके सिर पर 12 सितारों का मुकुट होगा। वह गर्भवती महिला प्रसवपीड़ा के कारण रो रही होगी।‘ यहां गर्भवती महिला से तात्पर्य कन्या राशि से है।
बइबल में वर्णित कयामत के जानकार डेविड मीड ने भी इस भविष्यवाणी का समर्थन करते हुए कहा है कि अप्रैल महीने में ही तमाम विनाशकारी घटनाओं की शुरूआत हो जाएगी।
गौरतलब है कि इस समय सीरिया को लेकर रूस और अमेरिका में तनाव हद से ज्यादा बढ़ गया है। हाल ही में रूस के एक अधिकारी ने कहा था कि तीसरा विश्वयुद्ध कभी भी शुरू हो सकता है। इन सब बातों के बावजूद हमारी सलाह है कि इन भविष्यवाणियों को जिज्ञासा की दृष्टि से ही देखा जाए इनसे डरने की कोई जरूरत नहीं है। धरती का अस्तित्व हमारी-आपकी समझदारी पर निर्भर है इसलिए सूझबूझ और प्रेम से रहने की आवश्यकता है न कि डरने की।

अन्तर्राष्ट्रीय

एक ऐसा देश जहां पराई लड़कियों से संबंध बनाने के लिए ‘सरकार’ पैसे देती है

Published

on

By

हर देश में प्रॉस्टीटूशन यानि वैश्यावृति काफी सक्रिय तौर पर चल रहा है, फिर चाहे वो हमारा देश ही क्यों न हो। वेश्यावृति का कारोबार हमारे देश में आग की तरह फैलता जा रहा है।

कुछ देशों में इसे कानूनी घोषित कर दिया तो कही इसे गैरकानूनी तरीके से चलाया जाता है जिसे रेड लाइट एरिया बोलते हैं। लेकिन आपको यह जानकर हैरानी होगी कि दुनिया में एक देश ऐसा भी है जहां कॉलगर्ल का खर्च वहां की सरकार उठाती है।

दुनिया में हर देश की सरकार अपने देश की वृत्ति को आगे बढ़ने के लिए जनता की मदद करती है, लेकिन इस देश में परै महिलाओं के साथ संबंध बनाने के लिए उसका खर्च सरकार देती है।

हम बात कर रहे हैं नीदरलैंड की जहां सरकार कॉल गर्ल्स के साथ शारीरिक संबंध बनाने के लिए पैसे देती है। जानकारी के मुताबिक, नीदरलैंड में किसी मरीज के इलाज के दौरान डॉक्टर की सलाह पर दवाओं के साथ-साथ कॉलगर्ल के साथ संबंध बनाने पर होने वाले खर्च को भी इलाज के खर्च में शामिल करने का प्रावधान है। ये बात बेहद अजीब है लेकिन सच भी है।

Continue Reading

Trending