Connect with us

प्रादेशिक

यूपी में स्वाइन फ्लू के 43 नए रोगी

Published

on

swine-flu-UP

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में स्वाइन फ्लू लगातार पैर पसार रहा है। राज्यभर में स्वाइन फ्लू के 43 नए मामले सामने आए। अब तक 16 लोगों की जान ले चुकी इस बीमारी से ग्रस्त लोगों की संख्या 808 तक पहुंच चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, स्वाइन फ्लू के 43 नए मरीज सामने आए हैं। इनमें से 37 लखनऊ में पाए गए हैं। इसके अलावा बरेली, उन्नाव, जौनपुर तथा शाहजहांपुर में एक-एक व्यक्ति इस रोग से ग्रस्त पाया गया है।

प्रदेश में अब तक स्वाइन फ्लू के लक्षणों वाले 1910 लोगों की जांच की गई, जिनमें से 808 लोगों में इसकी पुष्टि हुई है। इनमें से 645 मरीज लखनऊ में पाए गए हैं। इस बीमारी के फैलाव के कारण स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों की छुट्टियां निरस्त कर दी गई हैं। स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, प्रदेश के 25 जिलों में स्वाइन फ्लू के मामले पाए गए हैं। सूबे में अब तक इस बीमारी से 16 लोगों की मौत हो चुकी है। मृतकों में लखनऊ के आठ, बरेली-तीन, कानपुर-दो तथा सहारनपुर, उन्नाव और बदायूं का एक-एक व्यक्ति है।

प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री अहमद हसन का कहना है कि स्वाइन फ्लू के फैलाव की जानकारी होते ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने तत्काल सख्त कदम उठाया है। इसके रोगियों की विशेष निगरानी के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि स्वाइन फ्लू के रोगियों के नि:शुल्क व पर्याप्त इलाज की व्यवस्था के निर्देश पहले ही दिए जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि यदि कहीं से भी इस बात की शिकायत मिली कि इलाज में लापरवाही बरती गई, तो संबंधित अधिकारियों को बख्शा नहीं जाएगा।

प्रादेशिक

13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता का लखनऊ में हुआ शुभारम्भ

Published

on

लखनऊ। 13वीं राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता का शुभारम्भ सोमवार को बाबू के.डी.सिंह स्टेडियम के बहुउद्देशीय हाल में हुआ। इस प्रतियोगिता का उद्घाटन भारतीय कुंग फू फेडरेशन के अध्यक्ष डा. सुधीर.एम. बोबड़े और खेल निदेशक डा. आर.पी.सिंह  ने दीप प्रज्जवलित करके किया।

यह जानकारी भारतीय कुंग फू फेडरेशन की महासचिव मंजू त्रिपाठी ने देते हुए कहा कि आज से तीन दिवसीय राष्ट्रीय कुंग फू प्रतियोगिता का शुभारम्भ शुरू हो गया। इस प्रतियोगिता में 18 राज्यों के 500 कुंग फू खिलाड़ी भाग लेंगे।

प्रतियोगिता के उद्घाटन के मौके पर भारतीय कुंग फू फेडरेशन के अध्यक्ष डा. सुधीर.एम. बोबड़े ने कहा कि आज इस खेल की समाज को आवश्यकता है, खास तौर से हमारी बहन-बेटियों को आत्मा रक्षा की इस कला को जरूर सीखना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस खेल का प्रशिक्षण अनिवार्य किया जाए। सरकार  सभी बच्चों को स्कूलों में अनिवार्य रूप से प्रशिक्षण दिलाए।

इस अवसर पर खेल निदेशक डा. आर.पी. सिंह ने कहा कि मार्शल आर्ट्स यानी कुंग फू खेल स्वस्थ भारत, समर्थ भारत और अनुशासित भारत तथा अनुशासित नागरिक तैयार कर सकता है।

आज अधिकतर युवा पीढ़ी खेलों से दूर होती जा रही है। खेलों के बजाय मोबाइल में लगकर अपना जीवन अंधकार में कर रहे है। महिला सशक्तिकरण के लिए ही यह खेल बहुत ही आवश्यक है। इस खेल के जरिए अपनी आत्मा रक्षा कर सकती हैं। उन्होंने कहा कि इस खेल को हर नागरिक को सीखना चाहिए।

इस अवसर पर भारतीय कुंग फू संघ के उपाध्यक्ष डा. चंद्र सेन वर्मा, उपकार के अध्यक्ष कैप्टन विकास गुप्ता, उपनिदेशक शिक्षा कृष्ण कुमार गुप्ता, राजेंद्र कुमार, जे.पी. शुक्ला आदि गणमान्य व्यक्ति व भारी संख्या में जनता मौजूद थी।

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending