Connect with us

वीडियो

महामृत्युंजय मंत्र की महिमा अपार, इसकी ऊर्जा के आगे बेबस क्वांटम

Published

on

चेतना, जो कि ऊर्जा की विवेकपूर्ण व संपूर्ण अभिव्यक्ति है, आज भी विज्ञान के लिए एक अबूझ पहेली है। कृत्रिम बुद्धि यानी आर्टिफीशियल इंटेलीजेंस तो विज्ञान ने रच ली है, लेकिन चेतना को पढ़ पाना भी अभी दूर की बात है, इसकी रचना का तो प्रश्न ही नहीं उठता। चेतना को समझा अवश्य जा सकता है, भारतीय योगी-मनीषी इसका अभ्यास सदियों से करते आए हैं। मुंगेर, बिहार स्थित दुनिया के प्रथम योग विश्वविद्यालय में मानसिक ऊर्जा के विविध आयामों को पढ़ने के लिए उच्चस्तरीय शोध जारी है।
दुनिया के चुनिंदा 50 विश्वविद्यालयों और क्वांटम फिजिक्स पर शोध करने वाली वैश्विक शोध संस्थाओं के 500 वैज्ञानिक इस शोध पर एक साथ काम कर रहे हैं, विषय है- टेलीपोर्टेशन ऑफ क्वांटम एनर्जी, यानी मानसिक ऊर्जा का परिचालन व संप्रेषण। इस शोध के केंद्र में भारतीय योग व ध्यान परंपरा का नादानुसंधान अभ्यास भी है, जिसे नाद रूपी प्राण ऊर्जा यानी चेतना के मूल आधार तक पहुंचने का माध्यम माना जाता है। बिहार योग विश्वविद्यालय के परमाचार्य पदम भूषण परमहंस स्वामी निरंजनानंद सरस्वती इस शोध में मुख्य भूमिका में हैं।

नेशनल

CRPF काफिले के फिदायीन हमलवार का वीडियो आया सामने, भारत के खिलाफ जमकर उगली आग

Published

on

By

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में उरी से भी बड़ा आतंकी हमला हुआ है जिसमें आतंकियों ने एक बार फिर सुरक्षाबलों को निशाना बनाया है। छुट्टी मनाकर लौट रहे सुरक्षाबलों के काफिले पर जैश-ए-मोहम्मद आतंकी संगठन ने आत्मघाती हमला किया। इस काफिले में 2547 जवान शामिल थे। इस हमले 42 सीआरपीएफ जवान शहीद हो गए हैं जबकि 45 जवान घायल हैं जिनमें 18 जवानों की हालत गंभीर बताई जा रही है। आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की ज़िम्मेदारी ली है। सीआरपीएफ कि 54वीं बटैलियन के जवानों को इस हमले में आतंकियों ने निशाना बनाया है।

इस हमले के बाद दक्षिण कश्मीर के कई इलाकों में सुरक्षा एजेंसियों ने अलर्ट जरी कर दिया है। बताया जा रहा है कि आदिल अहमद डार उर्फ़ वकास नाम के आतंकी ने इस काफिले पर हमले कि साजिश रची थी। इसका एक वीडियो भी सामने आया है जिसमें वो भारत को धमकी देता हुआ नज़र आ रहा है। जैश ने यह वीडियो पुलवामा आतंकी हमले के तुरंत बाद जारी किया है। आपको बता दें आदिल पुलवामा के काकापोरा इलाके का रहने वाला है जिसने 2018 में आतंकी संगठन जैश में भर्ती ली थी।

 

सूत्रों के अनुसार सीआरपीएफ के जिस काफिले पर हमला किया गया उसमे 70 वाहन शामिल थे। सीआरपीएफ जवानों का काफिला जम्मू से श्रीनगर आ रहा था। आतंकियों ने जवानों के उस काफिले को निशाना बनाया जो बुलेट प्रूफ नहीं था और जिसमें सबसे ज़्यादा जवान थे। सीआरपीएफ के आईजी ज़ुल्फ़िकार हसन ने बताया कि जम्मू-कश्मीर पुलिस जांच कर रही है। घायल जवानों को अस्पताल शिफ्ट किया गया है और विस्फोटक स्थल पर छानबीन की जा रही है

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending