Connect with us

बिग बॉस

…..तो क्या अर्शी खान को निकलवाने के पीछे था सलमान का हाथ!

Published

on

नई दिल्ली। बिग बॉस सीजन-11 तूफानों से भरा हुआ है। यहां कब क्या कैसे हो जाए इस बात का अंदाजा खुद घरवालों को भी नहीं होता। जी हां। चाहे इस घर की दोस्ती हो या घर के नॉमिनेशन का वक़्त लोगों को हमेशा चौंकना ही पड़ता है। जिस तरह इस घर में दोस्ती को दुश्मनी में बदलते देर नहीं लगती। ठीक वैसे ही कब कौन इस घर से बाहर हो जाए, इस बात की भी गारंटी नहीं ली जा सकती।

Image result for arshi vs salman

सपना चौधरी से लेकर हितेन एक के बाद बिग बॉस सीजन-11 से बाहर होते चले गए और अब बारी थी कल यानी की एक और नॉमिनेशन की। जहां लाखों दिलों में अपनी जगह बना चुकी अर्शी खान घर से बेघर हो गई।Related imageकल का नॉमिनेशन जितना ज्यादा टफ था, उससे कहीं ज्यादा अचम्भित। हुआ ही कुछ ऐसा। जहां दर्शकों को लग रहा था कि इस बार घर से आकाश और पुनीश में कोई बाहर जाएगा, तो वहीँ हुआ इसके बिलकुल उल्टा और घर से बेघर हो गई अर्शी खान।

Related imageदरअसल, सोशल मीडिया पर अर्शी के हजारों फैंस उनके एलिमिनेशन पर निराशा जाहिर कर रहे हैं। कुछ सलमान खान पर भी इल्जाम लगा रहे हैं क्योंकि अर्शी पिछले 3 हफ्तों में दो बार सलमान से भिड़ चुकी हैं। सलमान, अर्शी से इतना नाराज हुए थे कि उन्होंने यह तक कह दिया था कि 4 लोग भी आपको बाहर नहीं देख रहे हैं।

Related imageवहीँ, अर्शी के साथ फिल्म ‘ग्रीन टैरर’ में काम करने वाले डायरेक्टर मनीष सिंह ने कहा- मुझे लगता है कि कलर्स को डर था कि अर्शी फाइनल में पहुंच जाएंगी क्योंकि कोई उन्हें नॉमिनेट नहीं कर रहा था. इसलिए उन्होंने उसे बाहर निकाल दिया।

Related image

Continue Reading

उत्तराखंड

रक्षाबंधन : देश का वो राज्य जहां पत्थर सिर्फ पूजे नहीं मारे भी जाते हैं

Published

on

By

रक्षाबंधन के पावन पर्व पर उत्तराखंड में देवीधुरा क्षेत्र में हर्षोल्लास के साथ बग्वाल त्यौहार मनाया गया। बग्वाल उत्सव देवभूमि में पौराणिक काल से खेले जाने वाले ‘पाषाण युद्ध‘ को दिखाती एक परंपरा है। इस उत्सव में देश विदेश से भारी संख्या में लोग देवीधुरा पहुंचकर जयकारे लगाते हुए मेले का आनंद लेते हैं।

हर साल रक्षाबंधन के मौके पर उत्तराखंड के चंपावत ज़िले में बग्वाल खेला जाता है। इस खेल में शामिल होने वाले लोग गुट बनाकर बंट जाते हैं और एक-दूसरे पर जमकर पत्थरबाजी करते हैं। पत्थरबाजी करने के बाद सभी गुट के लोग आपस में गले मिलते हैं और खुशियों का इज़हार करते हैं।

वर्ष 2018 में बग्वाली खेल के दौरान करीब 60 लोगों के चोटिल होने की खबर भी आई थी।

 

Continue Reading

Trending