Connect with us

मुख्य समाचार

हम देश को हरगिज बर्बाद नहीं होने देंगे: पीएम मोदी

Published

on

मंगलुरु| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विभिन्न सार्वजनिक समारोह में भाग लेने के लिए रविवार को कर्नाटक पहुंचे। मोदी नई दिल्ली से मंगलुरु हवाई अड्डे पर पहुंचे और वहां से हेलीकॉप्टर के माध्यम से दक्षिणा कन्नड़ जिले में स्थित धर्मस्थला पहुंचे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने एक दिवसीय दौरे पर कर्नाटक में हैं।  मेंगलुरू पहुंचने पीएम मोदी एक हेलीकॉप्टर के जरिए दक्षिण कन्नड़ के धर्मस्थल पहुंचे जहां वो भगवान शिव के मंजूनाथेश्वर मंदिर जाकर पूजा- अर्चना की।  पीएम ने धर्मस्थल में मंजुनाथ मंदिर में दर्शन किए और मंदिर के धर्माधिकारी डॉ वीरेंद्र हेगड़े के साथ मंच साझा किया।

पूजा-अर्चना के बाद पीएम उजिरे में एक जनसभा को संबोधित किया। जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा कि 21वीं सदी में पूरे विश्व में कौशल विकास पर बात हो रही है तो ऐसे में हमें अपने जनसांख्यिकीय लाभ का फायदा उठाना चाहिए। पीएम ने कहा, ‘हम रहें या ना रहें इस देश को बर्बाद नहीं होने देंगे, हमने अपने लिए जीना ही नहीं सीखा।

प्रधानमंत्री की यात्रा के कारण रविवार को मंदिर प्रशासन ने आम लोगों के प्रवेश को दोपहर दो बजे तक सीमित कर दिया है।

मोदी इसके बाद धर्मस्थला के पास उज्जिर शहर में एक सार्वजनिक रैली को संबोधित करेंगे और प्रधान मंत्री जन धन योजना (पीएमजेडीवाई) के खाताधारकों को रुपे कार्ड सौंपेंगे।

इसके बाद मोदी पैलेस ग्राउंड्स पर वेदांत भारती द्वारा आयोजित एक सार्वजनिक समारोह में भाग लेने के लिए राज्य की राजधानी बेंगलुरु जाएंगे।

शाम को वह हैदराबाद-कर्नाटक क्षेत्र में 110 किलोमीटर लंबे बिदार-कालबुर्गी रेलवे ट्रैक का उद्घाटन करेंगे जिससे बेंगलुरु और नई दिल्ली के बीच यात्रा का समय छह से आठ घंटों तक कम हो जाएगा।

मोदी ने कहा- ये देश हमारी जन्मभूमि है हम इसे कभी बर्बाद नहीं होने देंगे।

पीएम मोदी ने कहा कि रुपे कार्ड, मोबाइल और बैंक सेवाओं को आधार से जोड़ा। अभी तक 57000 करोड़ रुपये प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) के जरिए लाभार्थियों तक पहुंच चुके हैं। इशारों ही इशारों में कांग्रेस पर निशाना साधते हुए पीएम ने कहा, ‘दिल्ली से एक रुपया निकलता है और गांव जाते-जाते 15 पैसे हो जाता है। ये रुपये को घिसने वाला पंजा कौन होता है। कौनसा पंजा है जो रुपये को घिसते घिसते 15 पैसे बना देता है? हमने तय किया है कि दिल्ली से एक रुपया निकलेगा तो गरीब को 100 पैसे पहुंचेंगे।’

 

उत्तराखंड

सीएम त्रिवेंद्र ने सचिवालय में की अहम बैठक, लापरवाह अधिकारियों पर हो सकती है कार्रवाई

Published

on

देहरादून। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने सचिवालय में सीएम डेशबोर्ड पर केपीआई के आधार पर सूचना प्रौद्योगिकी विभाग की समीक्षा की है।

उन्होंने कहा कि सेवा के अधिकार में अधिसूचित सेवाएं ऑनलाईन भी उपलब्ध होनी चाहिए। ई-डिस्ट्रिक्ट में वर्तमान की सेवाओं के साथ ही अन्य सेवाओं को भी शामिल किया जाए। जो जिला इसमें बेहतर प्रदर्शन करेगा, उसे पुरस्कृत किया जाएगा। विभागों को डिजी-लॉकर से जोड़ने के लिए सचिव समिति द्वारा विचार किया जाए। एक ही एप्प के अंतर्गत सभी सुविधाएं उपलब्ध हों।

मुख्यमंत्री ने कहा कि सेवा के अधिकार में सेवाएं निर्धारित समय में दी जा रही है या नहीं, इसके लिए सतत मॉनिटरिंग की जाए। सीएम हेल्पलाईन पर वर्तमान में प्रातः 8 बजे से रात्रि 10 बजे तक संचालित की जा रही है। रात्रि 10 बजे से सुबह 8 बजे तक जो भी कॉल आती हैं, उनकी रिकार्डिंग की व्यवस्था की जाए और उन्हें संबंधित अधिकारियों को अग्रसारित किया जाए।

सीएम हेल्पलाईन में सभी स्तरों के अधिकारियों की परफोरमेंस वेल्युशन किया जाए। लापरवाह अधिकारियों पर कार्यवाही की जाए। प्रत्येक ब्लॉक में एक-एक डिजीटल विलेज के लिए कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिए। ड्रोन एप्लीकेशन सेंटर का व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। ताकि अधिक से अधिक छात्र इसका लाभ उठा सकें।

बैठक में बताए गए मुख्य बिंदु –

स्टेट डाटा सेंटर के अंतर्गत वर्तमान में 12 विभाग जुड़े

स्वान से 1474 कार्यालय जुड़ चुके हैं

मार्च 2020 तक 164 कार्यालय और जोड़ दिए जाएंगे

इन्वेस्टर्स समिट के बाद आईटी में 2286 करोड़ रूपए की ग्राउंडिंग हो चुकी है

सीएम डेशबोर्ड से 33 विभाग जुड़े हैं

पीएमजी-दिशा  में युवाओं को डिजीटल साक्षरता की ट्रेनिंग दी जा रही है

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending