Connect with us

मनोरंजन

क्या सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजने से ही देशभक्ति जागृत होती है: विद्या बालन

Published

on

मुंबई। बॉलीवुड अभिनेत्री विद्या बालन ने राष्ट्रगान को लेकर ऐसा बयान दिया है जिसको लेकर सोशल मीडिया पर उनकी जमकर आलोचना हो रही है। दरअसल विद्या बालन ने सिनेमाघरों में राष्ट्रगान बजाने को लेकर जारी बहस के बीच अपनी राय देते हुए कहा कि देशभक्ति थोपी नहीं जा सकती।

Image result for विद्या बालन

यही नहीं उन्होंने तो यहां तक कह दिया कि फिल्मों से पहले राष्ट्रगान बजना ही नहीं चाहिए। विद्या बालन ने कहा, “मुझे नहीं लगता कि फिल्मों से पहले राष्ट्रगान बजाया जाना चाहिए। आप स्कूल में नहीं हैं, जहां आप दिन की शुरूआत राष्ट्रगान से करते हैं।

Image result for विद्या बालन

उन्होंने कहा, “इसलिए मेरा व्यक्तिगत रूप से मानना है कि राष्ट्रगान वहां नहीं बजाया जाना चाहिए। आप देशभक्ति थोप नहीं सकते। उन्हें अपने देश से प्यार है और इसकी रक्षा के लिए किसी भी हद तक जा सकती हैं। उन्होंने कहा, लेकिन यह सही नहीं है कि कोई मुझे यह बात बताएं।

Image result for विद्या बालन

जब मैं राष्ट्रगान सुनती हूं, मैं कहीं भी रहूं, खड़ी हो जाती हूं।वहीँ विद्या बालन ने इस बयान के बाद सोशल मीडिया पर उनकी जमकर फजीहत हो रही है।

Image result for विद्या बालन

एक फेसबुक यूजर ने लिखा कि सही कहा विदया जी कि राष्ट्रभग्ति थोपी नहीं जा सकती, लेकिन आप उनके बारे में क्या कहंगी जिनको भारत माता की जय और वन्दे मातरम बोलने में शर्म आती हे, क्या उनको भी कुछ बोल सकती हो आप।

Image result for विद्या बालन

एक अन्य यूजर ने लिखा कि देश भक्ति थोपने का क्या मतलब हैं। जो भी हमारे देश में रहते हैं। खाते पीते, काम करते हैं। जो यहां के वासी हैं। उनका यह फर्ज बनता हैं कि देश के लिए वफादारी और इमानदारी दिखाए।

मनोरंजन

योगी-आजम के बाद अब चुनाव आयोग ने ‘मोदी’ पर लगाया बैन

Published

on

नई दिल्ली। विवके ओबॉय कि फिल्म ‘पीएम नरेंद्र मोदी’ पर बैन लगाने के बाद चुनाव आयोग ने अब नरेंद्र मोदी पर बनी वेबसीरीज पर भी रोक लगा दी है।

शनिवार को आयोग ने Modi-Journey of a Common Man  पर बैन लगाते हुए इरोज नाऊ को इसकी स्ट्रीमिंग बंद करने का आदेश दे दिया।

आपको बता दें कि इससे पहले आयोग विवेक ओबेरॉय स्टारर फिल्म “पीएम नरेंद्र मोदी” को रिलीज से ठीक एक दिन पहले बैन कर कर चुका है।

फिल्म 12 अप्रैल को सिनेमाघरों में रिलीज होने जा रही थी लेकिन आचार संहिता लागू होने की वजह से यह फिल्म सिनेमाघरों में नहीं लग सकी। बैन करने के पीछे आयोग ने तर्क दिया था कि ऐसी फिल्में रिलीज होने से चुनाव के समय वोटर्स  प्रभावित हो सकते हैं।

 

Continue Reading
Advertisement Aaj KI Khabar English

Trending